लाइव टीवी

पर्यावरण मंत्री जावड़ेकर बोले- जलवायु परिवर्तन पर किए वादे को हम निभा रहे हैं

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 1:49 AM IST
पर्यावरण मंत्री जावड़ेकर बोले- जलवायु परिवर्तन पर किए वादे को हम निभा रहे हैं
पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मैड्रिड में जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में बोलते हुए.

मैड्रिड जलवायु सम्मेलन (Climate conference) में पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर 2015 में किए गये वादे को हम निभा रहे हैं. इस दिशा में आगे भी काम करते रहेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 1:49 AM IST
  • Share this:
मैड्रिड(स्पेन). स्पेन (Spain) के मैड्रिड में क्लाइमेट चेंज पर आयोजित कार्यक्रम में पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा कि भारत मैड्रिड जलवायु सम्मेलन (Climate conference) में अपने दीर्घावधि विकास हितों की सुरक्षा के लिए काम करेगा. उन्होंने कहा कि भारत ने अपनी जीडीपी (GDP) के 21% उत्सर्जन तीव्रता को कम किया है. जावड़ेकर ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर 2015 में किए गये वादे (कार्बन उत्सर्जन में 35% की कमी लाने) को हम निभा रहे हैं. इस दिशा में हम आगे भी काम करते रहेंगे.




दुनिया के छह देशों में भारत पहले स्थान पर
मैड्रिड में जलवायु परिवर्तम पर संयुक्त राष्ट्र मसौदा सम्मेलन में (UNFCCCC) COP-25 की उच्च स्तरीय बैठक में केंद्रीय मंत्री ने भारत का रुख पेश किया. उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर भारत ने 'जो वादा किया था उसे पूरा भी कर रहा है. देश ने अपनी जीडीपी के 21 फीसद तक उत्सर्जन तीव्रता को कम किया है. जावड़ेकर ने कहा कि इस दिशा में काम करने के लिए दुनिया के केवल छह देश राष्ट्रीय स्तर पर अपना योगदान दे रहे हैं. भारत इस सूची में सबसे ऊपर है. टिकाऊ व सतत जीवनशैली भारतीय लोकाचार का हिस्सा है. भारत सौर ऊर्जा, बायोमास और पवन ऊर्जा के क्षेत्र में प्रगति कर रहा है.


जावड़ेकर ने देश में पर्यावरण परिवर्तन की रोकथाम के लिए किए जा रहे उपायों के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेरिस समझौते के तहत 175 गीगावॉट परिवर्तनीय ऊर्जा के लक्ष्य की घोषणा की है. इसमें हम 83 गीगा वॉट का लक्ष्य हासिल कर चुके हैं.

प्रधानमंत्री ने कुछ समय पहले ही संयुक्त राष्ट्र क्लाइमेट एक्शन समिट में 450 गीगा वॉट का लक्ष्य निर्धारित कर दिया था. इस पर कोयला उत्पादन पर प्रति टन छह डॉलर की दर से कार्बन कर लगा दिया था. जावड़ेकर ने बताया कि संसद में 36 राजनीतिक दल होने के बावजूद हमने सर्वसम्मति से इसे हासिल किया है. पिछले पांच साल में देश में हरियाली 15 हजार वर्ग किलोमीटर में बढ़ी है. उन्होंने कहा कि हम शहरों में वनों, स्कूल नर्सरी, एग्रो फॉरेस्ट्री पर भी काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- न्यूज़ीलैंड में ज्वालामुखी फटने से 5 लोगों की मौत, कैमरे में कैद हुआ डरावना सीन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 1:39 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर