इथियोपिया में तख्ता पलट की कोशिश नाकाम, सेना प्रमुख को बॉडीगार्ड ने मारी गोली, ये है पूरा मामला

इथियोपिया के एक स्वायत्त प्रांत अमहारा में तख्ता पलटने की कोशिश कर रहे राज्य के प्रमुख की हत्या कर दी गई है. इसके अलावा इथियोपिया के सेना प्रमुख सीअरे मैकोनेन को उन्हीं के सुरक्षाकर्मियों ने गोली मार दी है.

News18Hindi
Updated: June 23, 2019, 8:18 PM IST
इथियोपिया में तख्ता पलट की कोशिश नाकाम, सेना प्रमुख को बॉडीगार्ड ने मारी गोली, ये है पूरा मामला
इथोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 23, 2019, 8:18 PM IST
इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद रविवार को जनता के समाने आए और कहा कि देश के एक स्वायत्त प्रांत अमहारा में तख्ता पलटने की कोशिश कर रहे राज्य के प्रमुख की हत्या कर दी गई है. जिस समय वे यह सूचना दे रहे थे, वे आर्मी की वर्दी ही पहने हुए थे. उन्होंने बताया कि इथियोपिया के सेना प्रमुख सीअरे मैकोनेन को उन्हीं के सुरक्षाकर्मियों ने गोली मार दी है.

इसके बाद से ही इथियोपिया में इंटरनेट बंद कर दिया गया है. वहां से ज्यादा जानकारियां भी बाहर नहीं आ पा रही हैं. इसके अलावा राजधानी अदीस अबाबा और अमहारा की राजधानी बहिर दार में अमेरिकी दूतावास ने अपने कर्मचारियों को गोलीबारी को लेकर सतर्क किया है. और उनसे सुरक्षित रहने को कहा है. अमेरिकी दूतावास ने अलर्ट जारी करते हुए अपने अधिकारियों और कर्मचारियों को सचेत रहने को कहा है.

इस तरह से की गई हत्याएं
इथियोपिया की प्रवक्ता बिलेन सेयुम ने पत्रकारों को बताया कि इस हमले का नेतृत्व अमहारा प्रांत के सैन्य प्रमुख असमिनेव सिगे ने किया था. इसमें मैकोनेन के साथ सेना के एक बड़े अधिकारी को भी गोली लगी थी. बताया गया कि दोनों ही लोगों को हमले में गहरे घाव आए, जिसने चलते बाद में दोनों की मौत हो गई.

कुछ ही घंटों बाद इसी तरह के एक और हमले में सेना प्रमुख सियरे मैकोनेन की भी हत्या कर दी गई. इथियोपिया की राष्ट्रीय सेना के प्रमुख मैकोनेन की हत्या खुद उनके ही बॉडीगार्ड्स ने अदीस अबाबा में कर दी.

बिलेन ने बताया कि उनसे मिलने आए एक पूर्व जनरल को भी गोली मार दी गई. सूत्रों ने बताया कि बॉडीगार्ड को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन असमिनेव अभी भी बचे हुए हैं. हालांकि सुरक्षा एजेंसियां अभी पता नहीं लगा सकी हैं कि दोनों ही हत्याओं के मामले में कोई संबंध है या नहीं.

काफी दिनों से चल रहा है इथियोपिया में राजनीतिक संकट
Loading...

काफी दिनों से इथियोपिया में राजनीतिक उठापटक चल रही है. ऐसे में शनिवार को पहले ही कई दिन बंद रह चुका इंटरनेट फिर से बंद कर दिया गया है. एक विश्लेषक ने बताया कि काफी दिनों से इथियोपिया में चल रहे राजनीतिक संकट को इन घटनाओं ने और बढ़ा दिया है. प्रधानमंत्री अबिय के सुधार कार्यक्रमों को भी इन घटनाओं से झटका लगना तय है.

सूत्रों के मुताबिक इस हमले को सेनाध्यक्ष के सुरक्षाकर्मियों ने ही अंजाम दिया है. जिस वक्त इस हमले को 'हिट स्क्वॉड' ने अंजाम दिया सेनाध्यक्ष एक हाई प्रोफाइल मीटिंग में थे. सैन्य अध्यक्ष होने के साथ ही मैकोनेन, अमहारा राज्य के प्रमुख भी थे. शनिवार की दोपहार में उनकी हत्या की घटना को अंजाम दिया गया.

File photo of Seare Mekonnen.
सेनाध्यक्ष सियरे मैकोनेन जिनकी हत्या कर दी गई (फाइल फोटो)


यह है इथियोपिया में राजनीतिक संकट की वजह
इथियोपिया में अमहारा राज्य में अमहारा नाम की जाति के लोग भी रहते हैं. यह इथियोपिया के पूर्व साम्राज्यों की जमीन भी रहा है और यहां की राष्ट्रीय भाषा अमहारिक रही है. इथियोपिया में ओरमो जातीय समूह के बाद अमहारा दूसरा सबसे बड़ा जातीय समूह है. दो साल पहले दोनों ही समूह सरकार विरोधी प्रदर्शन कर रहे थे जिसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री हेलेमरियम डेसालजन को इस्तीफा देना पड़ा था.

वर्तमान प्रधानमंत्री अबिय, ओरमो जाति से आते हैं, जिसने अप्रैल, 2018 में सत्ता को अपने हाथ में ले लिया था और देश भर में सुधार कार्यक्रमों की शुरुआत की थी. दरअसल इससे पहले इथियोपिया ने केवल बाहुबलियों और राजाओं का शासन देखा था. उन्होंने राजनीतिक सुधारों के साथ ही वित्तीय सुधारों की भी शुरुआत की थी और उन्होंने कई सारे प्रमुख मिलिट्री अधिकारियों और खूफिया अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया था और इसके अलावा अबिय ने काफी वक्त के बाद पड़ोसी इरिट्रिया से एक शांति संधि की थी.

हालांकि अबिय के शासन के ढीले पड़ने के साथ ही बहुत सी अशांति फैलाने वाली ख़बरें सामने आ रही थीं. जानकार यह भी मानते हैं कि अबिय के 2020 में चुनाव कराने की बात कहने के बाद से दूसरी क्षेत्रीय पार्टियों में खलबली है. पूरे देश में करीब 80 जातीय समूह हैं.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने की तख्तापलट के प्रयास की आलोचना
इथियोपिया के प्रधानमंत्री कार्यालय ने जानकारी दी है कि देश में नौ स्वायत्त क्षेत्र हैं. जिनमें से एक है अमहारा. इसी के प्रमुख तख्ता पलट का प्रयास कर रहे थे. प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से यह भी कहा गया है कि इस तरह के प्रयासों के खिलाफ हर किसी को आवाज उठानी चाहिए और ऐसे कदमों की निंदा की जानी चाहिए. कार्यालय की तरफ से बयान में यह भी कहा गया कि इथियोपिया की संघीय सरकार के पास ऐसी कोशिशें नाकाम करने की पूरी क्षमता है.

यह भी पढ़ें: इथियोपिया में तख्ता पलटने की कोशिश कर रहे सेना प्रमुख को बॉडी गार्ड ने मारी गोली, मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 23, 2019, 7:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...