लाइव टीवी

यूरोप ने ब्रेक्जिट सौदे का किया समर्थन, ब्रिटिश संसद में पारित कराने की है चुनौती

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 11:35 AM IST
यूरोप ने ब्रेक्जिट सौदे का किया समर्थन, ब्रिटिश संसद में पारित कराने की है चुनौती
बोरिस जॉनसन के सामने समझौते को ब्रिटिश संसद में पारित कराने की है चुनौती

ब्रिटेन (Britain) के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) के सामने इसे ब्रिटिश संसद से पारित कराने की कड़ी चुनौती है, यूरोपीय संघ ने समझौते को दिया समर्थन.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 11:35 AM IST
  • Share this:
ब्रसेल्स. यूरोपीय संघ (European Union) के नेताओं ने कड़ी मशक्कत के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते (Brexit deal) को अपना समर्थन दिया है, लेकिन ब्रिटेन (Britain) के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) के सामने इसे ब्रिटिश संसद से पारित कराने की कड़ी चुनौती है. यूरोपीय संघ परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने 27 अन्य नेताओं द्वारा सौदे को स्वीकृत किए जाने के बाद संवाददाताओं से कहा कि ऐसा प्रतीत होता है मानो हम अंतिम चरण के काफी करीब हैं.

लेकिन जॉनसन के आशान्वित होने के बावजूद ब्रितानी विपक्षी पार्टियों और हाउस ऑफ कॉमन्स में प्रधानमंत्री के अपने भी कुछ सहयोगियों ने तुरंत चेताया कि वे शनिवार को विशेष बैठक के दौरान इस पर होने वाले मतदान में इसके पक्ष में वोट नहीं डालेंगे. अगर यह सौदा खारिज हो जाता है तो प्रधानमंत्री का कानूनी कर्तव्य होगा कि वो उन्हें ईयू नेताओं से ब्रेक्जिट को तीसरी बार स्थगित करने के लिए कहें. इसी के साथ 31 अक्टूबर तक ब्रिटेन को यूरोपीय संघ से बाहर निकालने की उनकी प्रतिबद्धता भी टूट जाएगी.

सौदा खारिज किए जाने से स्थिति होगी जटिल
यूरोपीय आयोग (The European Commission) के अध्यक्ष जीन क्लॉड जंकर ने कहा कि इसे खारिज किए जाने से बहुत जटिल स्थिति पैदा हो सकती है जबकि टस्क ने कहा है कि अगर ऐसा होता है तो वह सदस्य राष्ट्रों से इस पर प्रतिक्रिया देने को लेकर विचार-विमर्श करेंगे. जॉनसन ने भरोसा जताया है कि सांसद सौदे का समर्थन करेंगे लेकिन विपक्ष और यहां तक कि सहयोगी पार्टी के साझेदारों से मिली तत्काल प्रतिक्रिया इस पक्ष में नहीं दिखी.

ब्रेक्जिट पर हुआ था विवाद
दरअसल ब्रेक्जिट की डेट जब करीब आ रही थी और ब्रिटेन सरकार में इस पर कोई सहमति नहीं बन पा रही थी तो उसे लेकर कई तरह के मतभेद कंजरवेटिव पार्टी और सरकार में नजर आने लगे थे. 24 घंटे में जो तीन इस्तीफे भी हुए थे वो भी इसी का नतीजा था.

सेमी ब्रेक्जिट का मतलब क्या है
Loading...

ब्रेक्जिट का मतलब है यूरोपीय संघ से बाहर निकलेगा, सेमी ब्रेक्जिट का मतलब है कि ईयू से अलग होने के बाद ब्रिटेन ईयू की शर्तें मानता रहेगा. बाहर रहकर उसके साथ बना रहेगा. जिससे आर्थिक हितों, रोजगार और बहुराष्ट्रीय कंपनियों को ब्रिटेन से बाहर जाने से बचाया जा सकेगा. जब ब्रिटेन के ब्रेक्जिट मंत्री डेविड डेविस ने इस्तीफा दिया तो उन्होंने कहा कि वो थेरेसा मे की ब्रेक्जिट योजना का समर्थन नहीं कर सकता क्योंकि इसमें वो ईयू के साथ एक बेहद करीबी रिश्ता बनाए रखना चाहती हैं. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें : Brexit के लिए ब्रिटेन-EU में नई डील, बोरिस जॉनसन बोले- महान डील पर बनी सहमति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 11:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...