Home /News /world /

हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन उत्पीड़न की शिकार!

हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन उत्पीड़न की शिकार!

एक दु:खद सर्वेक्षण ने रहस्योदघाटन किया है कि स्कूलों में हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन हमले या फिर दुष्कर्म का शिकार थीं।

एक दु:खद सर्वेक्षण ने रहस्योदघाटन किया है कि स्कूलों में हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन हमले या फिर दुष्कर्म का शिकार थीं।

एक दु:खद सर्वेक्षण ने रहस्योदघाटन किया है कि स्कूलों में हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन हमले या फिर दुष्कर्म का शिकार थीं।

    लंदन। जब दुनिया भर के विश्वविद्यालय अपने परिसरों में महिला छात्रों पर हो रहे यौन हमले की समस्या का हल ढूंढने के लिए जूझ रहे हैं ऐसे में एक दु:खद सर्वेक्षण ने रहस्योदघाटन किया है कि स्कूलों में हर पांचवीं ब्रिटिश महिला यौन हमले या फिर दुष्कर्म का शिकार थीं। एक्सप्रेस डॉट को डॉट यूके नामक वेबसाइट की रिपोर्ट में कहा गया कि गैर लाभकारी संगठन प्लान यूके ने एक सर्वेक्षण किया जिसमें 2000 महिलाओं में 22 फीसदी ने माना कि जब वह स्कूल और उसके आसपास थीं तो यौन प्रताड़ना या यहां तक कि दुष्कर्म का शिकार हुईं।

    प्लान यूके के सीईओ टेनी बैरन ने वेबसाइट से कहा कि हमारे सर्वेक्षण के परिणामों से पता चलता है कि स्कूली छात्राएं यह पीड़ा दशकों से झेल रही हैं जिसका उन पर भयानक बुरा प्रभाव पड़ सकता है। अनचाहे यौन संपर्क उनके आत्म सम्मान के साथ-साथ उनकी शैक्षिक उपलब्धियों को भी प्रभावित कर सकता है।

    इतना ही नहीं सर्वेक्षण परिणाम से यह भी पता चला कि यौन हमले का शिकार महिलाओं में 61 प्रतिशत ऐसी हैं जिन्होंने स्कूल प्रशासन से इस बात की शिकायत तक नहीं कीं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि खास तौर से कम उम्र की लड़कियां अधिक पीड़ित रही हैं और यह समस्या बढ़ती ही जा रही है।

    उधर ब्रिटिश नेशनल यूनियन ऑफ स्टूडेंट्स(एनयूएस) ने हाल के सर्वेक्षण में पाया कि युवक संस्कृति (लैड कल्चर) से निपटने में ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों विफल रहे हैं। दस में केवल एक ही विश्वविद्यालय है जिनके पास नए छात्रों के लिए प्रासंगिक नीतियां हैं। लैड कल्चर भारत में छेड़छाड़ की संस्कृति जैसी है जिससे ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में महिला छात्रों का जीना दूभर हो गया है।

    दैनिक अखबार गार्डियन ने भी पिछले साल इस मुद्दे की छानबीन की थी जिसमें उसने पाया कि इस समस्या के तह तक जाने के लिए ब्रिटेन के आधे विश्वविद्यालय निगरानी कर रहे थे। जबकि छह में से एक ही विश्वविद्यालय के पास छात्रों के लिए विशेष दिशा निर्देश हैं कि कैसे वे इस तरह आरोपों को संसूचित करेंगे।

    वैसे प्लान यूके ने स्कूलों में अनचाहे यौन संपर्क की रोकथाम के लिए नए कदम उठाने पर जोड़ दिया है। उसने अपने सर्वेक्षण में यह भी पाया कि प्राय: 18 से 24 वर्ष के तीन छात्र-छात्राओं में एक ने स्वीकार किया कि उनसे अनचाहे यौन संपर्क हुए।

    गत साल अमेरिका में भी इसी तरह के एक डरावना सर्वेक्षण ने यह रहस्योद्घाटन किया कि शिक्षण संस्थानों के परिसर में चार में एक महिला छात्र ने यौन प्रताड़ना का शिकार होती हैं।

    दी एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन यूनिवर्सिटीज(एएयू) ने 27 कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में डेढ़ लाख छात्रों का सर्वेक्षण किया जिसमें उसने पाया कि 27 फीसदी कॉलेज कीवरीय महिला छात्रों ने दुष्कर्म से लेकर सभी प्रकार की यौन प्रताड़ना का शिकार हुईं।

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर