मलेशिया के पूर्व PM महातिर को पार्टी ने निकाला, संसद पहुंचे तो विपक्ष में बैठना पड़ा

मलेशिया के पूर्व PM महातिर को पार्टी ने निकाला, संसद पहुंचे तो विपक्ष में बैठना पड़ा
महातिर मोहम्मद को उनकी पार्टी ने ही निकाला

पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) को समर्थकों संग उनकी ही पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है. महातिर इस पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं, उन पर पार्टी के संविधान के उल्लंघन का आरोप है.

  • Share this:
कुआलालंपुर. मलेशिया (Malaysia) में बड़ी राजनीति उठापटक के बीच पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) को समर्थकों संग उनकी ही पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है. महातिर इस पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं, उन पर पार्टी के संविधान के उल्लंघन का आरोप है. पार्टि प्रीबूमि बेरसतु मलेशिया (PPBM) के कार्यकारी सचिव मुहम्मद सुहैमी याहया ने महातिर मोहम्मद एक पत्र लिखकर बताया कि उन्होंने संसद में विपक्ष के साथ बैठकर पार्टी के संविधान का उल्लंघन किया है, इसलिए उन्हें निष्काषित किया जा रहा है. उन पर आरोप है कि उन्होंने मुहिद्दीन यासीन (Prime Minister Muhyiddin Yassin) की सरकार को समर्थन नहीं दिया.

बता दें कि 18 मई को एक दिवसीय संसद सत्र के दौरान महातिर मोहम्मद संसद में विपक्ष के साथ बैठे थे, पार्टी के मुताबिक ऐसा करके उन्होंने पार्टी के संविधान का उल्लंघन किया है और उन्हें निष्काषित कर दिया गया है. समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि सिर्फ महातिर ही नहीं बल्कि उनके समर्थकों को भी बर्खास्त किया गया है. इसमें उनके बेटे मुखरिज महातिर, पूर्व में युवा एवं खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैय्यद अब्दुल रहमान, पूर्व शिक्षा मंत्री मस्जली मलिक और पूर्व उप-वित्त मंत्री अमीरुद्दीन हमजा शामिल हैं.

महातिर मोहम्मद हैं पार्टी के सह-संस्थापक
बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक के साथ मनमुटाव होने के बाद महातिर ने 2016 में मुहिद्दीन के साथ मिलकर पीपीबीएम की स्थापना की थी. महातिर पार्टी के चेयरमैन और मुहिद्दीन अध्यक्ष बनाए गए थे. पीपीबीएम ने बाद में अन्य विपक्षी दलों के साथ मिलकर पाकतन हरपन गठबंधन बनाया और 2018 में आम चुनावों में जीत हासिल की थी. इसके बाद महातिर दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री और मुहिद्दीन गृहमंत्री बने थे. हालांकि अब माना जा रहा है कि पार्टी में महातिर और मुहिद्दीन के बीच संघर्ष चल रहा है.



गौरतलब है कि इसी साल फरवरी में महातिर ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद मुहिद्दीन ने नेतृत्व वाली पीपीबीएम ने फिर पकातन हरपन गठबंधन को छोड़ दिया और 2018 में चुनाव हारने वाली पार्टियों से मिलकर एक नया गठबंधन बनाया था. इसी साल 1 मार्च को मुहिद्दीन ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी. महातिर को पाकिस्तान समर्थक माना जाता रहा है. जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद महातिर ने कहा था कि भारत ने जम्मू-कश्मीर पर कब्जा कर रखा है. भारत ने इसके बाद मेलिशिया से आयात किए जाने वाले खाद्य तेलों पर प्रतिबंध लगा दिया था. हालांकि मुहिद्दीन के पीएम बनने के बाद से ही मलेशिया का झुकाव भारत की तरफ बढ़ा है और खाद्य तेलों पर लगा प्रतिबंध भी भारत ने वापस ले लिया है.



 

यह भी पढ़ें:

हम सभी में छिपा है एक जीनियस, क्या सक्रिय किया जा सकता है उसे?

क्या है मंगल का वह खास नक्शा जो बताता है कि वहां का वायुमडंल कैसे हुआ खाली

अंतरिक्ष के कचरे का Tax है बेहतर इलाज, जानिए यह शोध क्यों कहता है ऐसा

खगोलविदों को दिखी, Ring of fire galaxy, जानिए क्यों दिया गया इसे यह नाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading