लाइव टीवी

खराब है चीनी हथियारों की क्वालिटी, बढ़ा रहा है खतरा: एक्सपर्ट

News18Hindi
Updated: November 5, 2019, 10:59 PM IST
खराब है चीनी हथियारों की क्वालिटी, बढ़ा रहा है खतरा: एक्सपर्ट
चीन ने अपने रक्षा हथियारों का किया था प्रदर्शन (फोटो क्रेडिट- ANI)

हथियारों (Military Equipments) के क्षेत्र में चीन (China) की जबरदस्त प्रगति के बावजूद विशेषज्ञ लगातार यह मुद्दा उठाते आए हैं कि चीन के रक्षा उपकरण क्वालिटी के मामले में अच्छे नहीं हैं और उत्पादों में इस बात के सच होने के कई लक्षण देखे गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2019, 10:59 PM IST
  • Share this:
बीजिंग (चीन). चीन रक्षा उत्पादों (Chinese Military Equipment) की बिक्री के मामले में बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है. चीन (China) ने हथियार बिक्री के मामले में दुनिया में पांचवां स्थान हासिल कर लिया है. अब इस मामले में उससे आगे सिर्फ अमेरिका (America), रूस, फ्रांस और जर्मनी जैसे विकसित देश रह गए है.

हालांकि इस क्षेत्र में चीन (China) की जबरदस्त प्रगति के बावजूद विशेषज्ञ लगातार यह मुद्दा उठाते आए हैं कि चीन के रक्षा उपकरण क्वालिटी के मामले में अच्छे नहीं हैं. और उत्पादों में इस बात के सच होने के कई लक्षण देखे गए हैं. अमेरिकी सरकार (American Government) के अधिकारी भी इस मुद्दे पर बहुत ज्यादा जोर दे रहे हैं.

हथियारों की कीमत कम कर खतरा बढ़ा रहा है चीन
वास्तव में, आर क्लार्क कूपर, जो कि अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट के राजनीतिक-मिलिट्री मामलों के असिस्टेंट सेक्रेटरी ऑफ स्टेट हैं, उन्होंने रूसी और चीनी हथियारों (Chinese Equipment) की खरीद को लेकर वॉशिंगटन डीसी में 31 अक्टूबर, 2019 को इसके बारे में खुलकर फटकार लगाई है.

कूपर ने अपने भाषण में चीन के बारे में कई सारी चेतावनियां भी दीं. उन्होंने कहा कि चीन ड्रोन (Chinese Drone) और ऐसे हथियारों की कीमतें कम करके खतरे को बढ़ा रहा है. चीन इसके अलावा घूस देकर भी हथियार बिक्री के क्षेत्र में अपने कदम मजबूत करना चाहता है.

चीन ने हाल ही में किया था अपने खतरनाक हथियारों का प्रदर्शन
उन्होंने कहा कि चीन (China) अपने प्रभाव और इंटेलिजेंस को यूज करके इस क्षेत्र में आगे बढ़ने की कोशिशों में है. यह खबर ऐसे समय में आई है जब 1 अक्टूबर को चीन अपने 70वें नेशनल डे के मौके पर बीजिंग (Beijing) में एक विशाल मिलिट्री परेड का आयोजन कर चुका है. इस मौके पर चीन ने अपनी खतरनाक मिसाइल डीएफ-41 का भी प्रदर्शन किया था.
Loading...

यह एक इंटर कॉन्टिनेंटल मिसाइल (Inter Continental Missile) है. यानि यह एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप में मार कर सकती है. कहा जाता है कि यह कुछ ही मिनटों में अमेरिका में तबाही मचा सकती है. इस मिसाइल को लेकर अमेरिकी मीडिया (American Media) में भी हलचल तेज थी. लेकिन उन्होंने बार-बार दोहराया कि चीन के रक्षा उपकरण क्वालिटी में अच्छे नहीं हैं.

यह भी पढ़ें: RCEP रिजेक्ट कर पीएम मोदी ने चीन को इस तरह दिया तगड़ा झटका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 10:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...