रूस के सैन्य ठिकाने पर धमाका, दो लोगों की मौत, 6 घायल

रूसी रक्षा मंत्रालय ने बताया कि घटना में रक्षा मंत्रालय के छह कर्मचारी और डेवलेपर घायल हुआ है. दो विशेषज्ञों की मौत हुई है. सैन्य ठिकाने पर विकिरण का स्तर सामान्य है.

भाषा
Updated: August 8, 2019, 6:24 PM IST
रूस के सैन्य ठिकाने पर धमाका,  दो लोगों की मौत, 6 घायल
रूस के सैन्य ठिकाने पर पर धमाका
भाषा
Updated: August 8, 2019, 6:24 PM IST
रूस के सुदूर उत्तर स्थित एक सैन्य ठिकाने पर उपकरणों के परीक्षण के दौरान हुए धमाके में दो लोगों की मौत हो गई. रक्षा मंत्रालय ने समाचार एजेंसियों के लिए गुरुवार को जारी बयान में यह जानकारी दी.

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि घटना में रक्षा मंत्रालय के छह कर्मचारी और डेवलेपर घायल हुआ है. दो विशेषज्ञों की मौत हुई है. सैन्य ठिकाने पर विकिरण का स्तर सामान्य है.

बता दें कि रूस आर्कट‌िक सर्किल में परमाणु संयंत्र बिठाने की अपनी बहुप्रतिक्षित योजना को अंजाम देने जा रहा है. इसके तहत रूस से करीब 65 सौ किलोमीटर तक समुद्र के रास्ते शिप पर लादकर इस परमाणु संयंत्र ले जाएगा. इसका नाम अकैडेमिक लोमोनोसोव है. जबिक ग्रीनपीस इंटरनेशनल इसे तैरती तबाही (फ्लोटिंग चेरनोबिल) कह रहा है. रूस इसे एक ऊर्जा स्रोत कहता है, जिसका इस्तेमाल वह उचित कामों के लिए करेगा. लेकिन ज्यादातर पर्यावरण के जानकारों ने इसे तबाही बताया है.

क्या है रूस का अकैडेमिक लोमोनोसोव

रूस के आधिकारिक विभाग ने इसे महज एक न्यूक्यिर पावर प्लांट बता रहा है. इससे आम तौर पर बिजली बनाने आदि का काम किया जाता है. रूस का कहना है कि इससे किसी को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा. असल में करीब 20 साल से रूस इस संयंत्र को अर्काटिक ले जाने की ताक में था, लेकिन इसे तैयार करने में समय लग रहा था.

जानकारी के अनुसार पुतिन सरकार ने अमेरिका समेत दुनियाभर में परमाणु हथ‌ियारों को लेकर चल रही मुहिम के बाद इस प्रोजेक्ट पर फोकस बढ़ा दिया और दो सालों के भीतर बाकी काम को पूरा कर लिया गया. इस वक्त इस संयंत्र को करीब 472 मीटर प्‍लेटफॉर्म पर मुरमांस्क नाम के जगह पर रखा गया है. जल्द ही इसे रूस के पेवेक बंदरगाह से आर्कटिक के लिए भेजे जाने की संभावना जताई गई है.

ये भी पढ़ें- अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- भूमि विवाद में जन्म स्थान को कैसे बनाया जा सकता है पक्षकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 6:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...