लाइव टीवी

दाऊद के करीबी शूटर को PAK को सौंपने से भारत-थाईलैंड के रिश्तों में आ सकती है खटास: रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 11:48 AM IST
दाऊद के करीबी शूटर को PAK को सौंपने से भारत-थाईलैंड के रिश्तों में आ सकती है खटास: रिपोर्ट
बैंकॉक की अदालत ने दाऊद के शूटर मुन्ना को पाकिस्तान को सौंप दिया था

‘द नेशन थाईलैंड’ अखबार ने भारत सरकार (Indian government) के सूत्रों के हवाले से लिखा, मुन्ना झिंगाड़ा की रिहाई से हमें हैरानी हुई. भारत (India) बैंकॉक से संबंधों की समीक्षा कर सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 11:48 AM IST
  • Share this:
बैंकॉक. मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के करीबी शूटर सैयद मुदस्सर उर्फ मुन्ना झिंगाड़ा को थाईलैंड ने पाकिस्तान (Pakistan) को सौंप दिया है. इससे भारत (India) और थाईलैंड (Thailand) के द्विपक्षीय संबंधों पर असर पड़ सकता है. दो साल से बैंकॉक की जेल में बंद मुन्ना को वहां की कोर्ट ने 9 अक्टूबर को लंबी सुनवाई के बाद पाकिस्तान का नागरिक घोषित कर दिया था.

‘द नेशन थाईलैंड’ अखबार ने भारत सरकार (Indian government) के सूत्रों के हवाले से लिखा, ‘हम थाईलैंड (Thailand)  की न्याय प्रक्रिया का सम्मान करते हैं, लेकिन बैंकॉक के इस फैसले से हमें हैरानी हुई. भारत संबंधों की समीक्षा कर सकता है. एक दोषी अपराधी के प्रत्यर्पण के लिए थाईलैंड भारत और पाकिस्तान के बीच फंसा है.'


Loading...

बैंकॉक कोर्ट ने मुन्ना को पाकिस्तान भेजने का दिया आदेश
दाऊद के शूटर मुन्ना झिंगाड़ा का केस बैंकॉक की कोर्ट में भारत के खिलाफ गया था. कोर्ट ने उसके भारत प्रत्यर्पण के निचली अदालत को फैसले को पलट दिया. नए आदेश के तहत कोर्ट ने 9 अक्टूबर को मुन्ना को पाकिस्तानी नागरिक घोषित कर दिया. इसके बाद आईएसआई और दाऊद के लोग उसे बैंकॉक से पाकिस्तान ले गए. जबिक भारत ने दावा किया था मुन्ना भारतीय नागरिक है. उसे मोहम्मद सलीम के नाम से भी जाना जाता है.

बैंकॉक पुलिस ने किया था गिरफ्तार
बता दें कि भारत उसके प्रत्यर्पण के लिए 2 साल से थाईलैंड के उच्च अधिकारियों के संपर्क में था. साल 2000 में मुन्ना ने बैंकॉक में छोटा राजन पर हमला किया था. इसके बाद बैंकॉक पुलिस ने उसे पाकिस्तानी पासपोर्ट के साथ गिरफ्तार किया था. इस मामले में बैंकॉक की कोर्ट ने मुन्ना को 35 साल की सजा सुनाई थी. हालांकि बाद में इसे घटाकर 16 साल कर दिया गया था. सजा पूरी होने के बाद साल 2016 में मुन्ना को जेल से रिहा कर दिया गया था. हालांकि भारत ने 2012 में उसके प्रत्यर्पण का अनुरोध किया था.

यह भी पढ़ें-

निर्भया की दर्दनाक दास्तां बताने के पैसे लेता था उसका दोस्त- पत्रकार का खुलासा
Amazon से मंगाते थे महंगा सामान, फिर डुप्लीकेट माल लौटा कर ले लेते थे रिफंड
तेलंगाना: जानलेवा हुई हड़ताल, ड्राइवर की मौत के बाद अब कंडक्टर ने की खुदुकशी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 11:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...