UN की चेतावनी, कोरोना का फायदा उठाकर युवाओं को भर्ती कर रहे आतंकी संगठन

UN की चेतावनी, कोरोना का फायदा उठाकर युवाओं को भर्ती कर रहे आतंकी संगठन
यूएन चीफ ने याद किए भगवान बुद्ध

UN के महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने दुनिया के सभी देशों को चेतावनी देते हुए कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते युवाओं में निराशा है जिसका फायदा आतंकी संगठन (Terrorist Group) और चरमपंथी समूह उठा सकते हैं.

  • Share this:
संयुक्त राष्ट्र. संयुक्त राष्ट्र (UN) के महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने दुनिया के सभी देशों को चेतावनी देते हुए कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते युवाओं में निराशा है जिसका फायदा आतंकी संगठन (Terrorist Group) और चरमपंथी समूह उठा सकते हैं. गुतारेस ने कहा युवाओं में कट्टरवाद की तरफ आकर्षित होने का खतरा अब पहले से ज्यादा बढ़ गया है, ऐसे वक़्त में दुनिया युवाओं का गलत दिशा में जाना बर्दाश्त नहीं कर सकती.

गुतारेस ने सोमवार को वीडियो कॉफ्रेंस के जरिए सुरक्षा परिषद (UNSC) से कहा कि इस संकट के पहले से ही युवा ढेरों चुनौतियों का सामना कर रहे थे लेकिन अब ये और भी बढ़ गयीं हैं. उन्होंने कहा कि हर पांच में से एक युवा को पहले से ही शिक्षा, प्रशिक्षण या रोजगार नहीं मिलता है और हर चार नौजवानों में से एक हिंसा या संघर्ष से प्रभावित है. हर साल 1.2 करोड़ नाबालिग लड़कियां मां बनती हैं. सत्ता में बैठे लोग इस निराशा को स्पष्ट रूप से हल करने में नाकाम रहे हैं. इसने राजनीतिक प्रतिष्ठान और संस्थानों में विश्वास की कमी को बढ़ाया है. ऐसे में चरमपंथी समूहों के लिए रोष और मायूसी का फायदा उठाना आसान हो जाता है और युवाओं के कट्टरपंथ की ओर बढ़ने का खतरा बढ़ता है.

आतंकी समूह युवाओं को बरगलाने की ताक में
गुतारेत ने कहा कि हमें जानकारी मिल रही है कि ऐसे समूहों ने पहले से ही कोविड-19 लॉकडाउन (बंद) का फायदा उठाना शुरू कर दिया है. उन्होंने नफरत फैलाने के लिए सोशल मीडिया पर प्रयास बढ़ा दिए हैं और उन युवाओं की भर्ती की भी कोशिश कर रहे हैं जो अपना ज्यादातर समय अब घर तथा ऑनलाइन बिता रहे हैं. उन्होंने युवाओं, शांति और सुरक्षा पर ऐतिहासिक प्रस्ताव को अपनाने के बाद, पांच वर्षों की समीक्षा के लिए बुलाई गई बैठक के दौरान यह सारी बातें कहीं.
युवा, शांति और सुरक्षा पर कार्रवाई का आह्वान करते हुए गुतारेस ने कहा कि दुनिया युवाओं की एक पीढ़ी का भटकना बर्दाश्त नहीं कर सकती है, उनकी जिंदगियां कोविड-19 से प्रभावित हुई हैं और भागीदारी की कमी की वजह से उनकी आवाजें दबाई गई हैं. महामारी से निपटने के दौरान उनकी प्रतिभा को बाहर निकालने के लिए अधिक प्रयास करने चाहिए. उन्होंने कहा कि 1.54 अरब से ज्यादा बच्चे और युवा कोविड-19 संकट से प्रभावित हुए हैं और देशों को संकट से निपटने के लिए युवाओं की प्रतिभा का इस्तेमाल करना चाहिए. उन्होंने कहा कि तमाम बाधाओं के बावजूद दुनिया भर में युवा कोरोना वायरस महामारी से निपटने की साझी लड़ाई में शामिल हुए हैं और अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे हैं.



 

यह भी पढ़ें:

क्या हमारे सौरमंडल के बाहर से आए हैं वैज्ञानिकों को दिख रहे 19 क्षुद्रग्रह

पृथ्वी के इतिहास की सबसे खतरनाक जगह: जानिए कैसे जानवर रहते थे यहां

क्या 4 अरब साल पहले चंद्रमा पर था जीवन, शोध से मिला इस सवाल का रोचक जवाब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading