जैकब ब्लैक मामला: मार्क जुकरबर्ग बोले- भड़काऊ पोस्ट ना हटाकर फेसबुक ने गलती की

फेसबुक सीईओ मार्क जुकरबर्ग (फाइल फोटो)

फेसबुक सीईओ मार्क जुकरबर्ग (फाइल फोटो)

अमेरिका (America) में हिंसा से संबंधित भड़काऊ पोस्ट को लेकर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने अपनी गलती मान ली है. जुकरबर्ग ने अब जनसुरक्षा को खतरा पहुंचाने वाले समूहों के पोस्ट हटाने या प्रतिबंधित करने के लिए नए दिशा-निर्देश लागू किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 7:39 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अश्वेत युवक जैकब ब्लैक को अमेरिकी पुलिस (American Police) द्वारा गोली मारने के मामले में फेसबुक का भी बयान सामने आया है. दरअसल, पिछले हफ्ते फेसबुक (Facebook) ने अपने प्लेटफार्म से एक भड़काऊ पोस्ट को नहीं हटाया था. इसे लेकर अब सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने यह बात तो मान ली कि फेसबुक ने हिंसा की वकालत करने वाले इस पोस्ट को न हटाकर गलती की है, लेकिन उन्होंने इसके लिए माफी नहीं मांगी.

बता दें कि विस्कोंसिन के केनोशा में पुलिस ने जैकब को पीठ में सात गोलियां मारी थीं. इसके बाद जैकब को लकवा मार गया. इस घटना के बाद केनोशा में प्रदर्शन शुरू हो गए. इसी दौरान 'केनोशा गार्ड' नाम के एक फेसबुक पेज पर लोगों से हथियारों के साथ केनोशा में घुसने की अपील की गई थी. जुकरबर्ग ने एक वीडियो पोस्ट में कहा कि यह सामग्री फेसबुक की नीतियों के खिलाफ थी.

ये भी पढ़ें: फ्रांसीसी पत्रिका ने अश्वेत महिला सांसद को दास के रूप में दिखाया, बवाल हुआ तो मांगी माफी



कब हटाया पोस्ट
उन्‍होंने कहा कि कई लोगों ने इस पोस्ट के खिलाफ ध्यान खींचा था लेकिन तब इसे हटाया नहीं जा सका. यह एक गलती थी. आखिरकार, बुधवार को यह पोस्ट तब हटाया गया, जब एक हथियारबंद शख्स ने कथित रूप से दो लोगों की जान ले ली और तीसरे को घायल कर दिया. हाल के दिनों में फेसबुक ने जनसुरक्षा को खतरा पहुंचाने वाले समूहों के पोस्ट हटाने या प्रतिबंधित करने के लिए नए दिशा-निर्देश लागू किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज