लाइव टीवी

कंगाल पाकिस्तान को अब एफएटीएफ कर सकता है ब्लैक लिस्ट, कर्ज भी नहीं ले सकेगा

News18Hindi
Updated: October 10, 2019, 3:29 PM IST
कंगाल पाकिस्तान को अब एफएटीएफ कर सकता है ब्लैक लिस्ट, कर्ज भी नहीं ले सकेगा
एपीजी की यह ताज़ा रिपोर्ट पाकिस्तान के लिए नई मुसीबत पैदा कर सकती है.

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) से जुड़े एशिया पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) ने माना है कि पाकिस्तान (Pakistan) ने यूएनएससीआर 1267 के प्रावधानों को उचित तरह से लागू नहीं किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2019, 3:29 PM IST
  • Share this:
आतंकवादियों (Terrorist) को अपनी सरजमीं पर पनाह देना पाकिस्तान (Pakistan) के लिए अब खतरा बन चुका है. टेरर फंडिंग (Terror funding) और मनी लॉन्ड्रिंग (Money laundering) पर नजर रखने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने माना है कि पाकिस्तान आतंकी फंडिंग को रोकने में विफल साबित हुआ है. ऐसे में अगले हफ्ते पेरिस (Paris) में होने वाली बैठक में उसे ग्रे लिस्ट से हटाकर ब्लैक लिस्ट में डाला जा सकता है.

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) से जुड़े एशिया पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) ने माना है कि पाकिस्तान ने यूएनएससीआर 1267 के प्रावधानों को उचित तरह से लागू नहीं किया. एपीजी ने शनिवार को जारी 228 पेज की रिपोर्ट में दावा किया है कि पाकिस्तान ने आतंकियों पर कार्रवाई संबंधी 40 पैरामीटर में से 32 पैरामीटर पर नाकाम साबित हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान को आईएसआई, अलकायदा, जमात-उद-दावा, जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग और ट्रेरर फंडिंग के मामले की पहचान कर तत्काल इन पर कार्रवाई करनी चाहिए थी, जैसा उसने नहीं किया.

Terrorist, Pakistan, Terror funding, Money laundering, FATF, Terrorist funding, Paris, Gray list, Black list
पेरिस में होने वाली बैठक में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से हटाकर ब्लैक लिस्ट में डाला जा सकता है.


एपीजी की रिपोर्ट के बाद पाकिस्तान को एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से निकालकर ब्लैक लिस्ट में डालने का खतरा बढ़ता जा रहा है. पाकिस्तान को इससे पहले जून 2018 में ग्रे लिस्ट में डाला गया था. पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने के साथ ही 27 सूत्रीय योजना को क्रियान्वित करने के लिए 15 महीने की डेडलाइन दी गई थी. इतने समय बाद भी पाकिस्तान ने आतंकी संगठनों पर रोक लगाने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया. इस संबंध में एफएटीएफ पेरिस में 13 से 18 अक्टूबर के बीच होने वाली बैठक में अंतिम समीक्षा कर सकती है.

इसे भी पढ़ें :-PoK के मुजफ्फराबाद में हाफिज सईद की रैली 14 को, जैश-हिजबुल के आतंकी होंगे शामिल

ब्लैक लिस्ट होने के बाद पाकिस्तान को नहीं मिल सकेगा कर्ज
फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) में अगर पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से निकालकर ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जाता है तो अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष, विश्व बैंक और यूरोपीय संघ पाकिस्तान को कर्ज देने से इनकार कर सकते हैं. ऐसे में पहले से आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान की स्थिति और खराब हो जाएगी. इसी के साथ पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय बाजार से भी कर्ज मिलने में मुश्किल होगी.
Loading...

इसे भी पढ़ें :-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 3:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...