लाइव टीवी

खराब डिजाइन के कारण गई थी 189 यात्रियों की जान, इंडोनेशियाई विमान हादसे की जांच में खुलासा

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 9:53 AM IST
खराब डिजाइन के कारण गई थी 189 यात्रियों की जान, इंडोनेशियाई विमान हादसे की जांच में खुलासा
29 अक्‍टूबर, 2018 को जकार्ता से उड़ान भरने के 13 मिनट बाद क्रैश हुआ था लॉयन एयरलांइस का यात्री विमान.

पिछले साल 29 अक्‍टूबर में जकार्ता से उड़ान भरने के 13 मिनट बाद लॉयन एयरलाइंस (Lion Airlines) का विमान जावा के समुद्र में क्रैश (Plane crash) हो गया था. इसमें 189 यात्रियों की मौत हुई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 9:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. इंडोनेशिया (Indonesia) की लॉयन एयरलाइंस (Lion airlines) की 2018 में क्रैश हुई फ्लाइट संख्‍या 610 की जांच में अहम खुलासा हुआ है. जांच एजेंसी की ओर से पीड़ितों के परिवारों को सौंपी गई रिपोर्ट के अनुसार क्रैश हुए बोइंग 737 मैक्‍स (Boeing 737 Max) यात्री विमान के मॉडल और कंट्रोल सिस्‍टम में खामियां थीं. बता दें कि पिछले साल अक्‍टूबर में जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद लॉयल एयरलाइंस का विमान समुद्र में गिर गया था. इस हादसे में 189 यात्रियों की मौत हुई थी. बोइंग को 737 मैक्‍स यात्री विमान मार्च से यात्री उड़ानों के लिए बंद है. अब तक इस विमान के दो हादसे हो चुके हैं.

इंडोनेशियन नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी कमेटी ने इस हादसे की जांच की है. उसने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि विमान में लगे जिस फ्लाइट कंट्रोल सिस्‍टम को पास किया गया था, उसमें कुछ खामियां थीं. जांच एजेंसी के अनुसार विमान में इस्‍तेमाल होने वाले मैन्‍यूवरिंग कैरेक्‍टेरिस्‍टक्‍स एगुमेंटेशन सिस्‍टम (एमसीएएस) में भी तकनीकी खामी थी. इसके जरिये विमान के एक खास हिस्‍से को उस वक्‍त कंट्रोल किया जाता है जब विमान काफी धीरे उड़ रहा हो या उसके गिरने की आशंका हो.

बता दें कि 29 अक्‍टूबर, 2018 को टेक ऑफ के करीब 13 मिनट बाद ही लॉयन एयरलाइंस की फ्लाइट संख्या JT610 का राडार से संपर्क टूट गया था. क्रैश हुए विमान का मॉडल बोइंग 737 मैक्‍स 8 था. विमान में 189 लोग सवार थे. उड़ान ने सुबह 6:20 बजे (स्थानीय समयानुसार) उड़ान भरी थी. इसके 13 मिनट बाद ही सुबह 6.33 बजे विमान का एयर ट्रैफिक कंट्रोलर फ्लाइट राडार 24 से संपर्क टूट गया.



फ्लाइट राडार 24 की फ्लाइट ट्रैकिंग डाटा के मुताबिक संपर्क टूटने से पहले विमान करीब 5000 फीट की ऊंचाई पर उतर आया था, इसके बाद यह फिर ऊपर उठा और आखिर में समुद्र में गिर गया. अधिकारियों को विमान के मलबे जावा में समुद्र के करीब मिले थे. एविएशन इंडस्ट्री में बोइंग 737 मैक्स की सबसे अधिक मांग है. बोइंग 737 मैक्स जेट के पहले विमान की शुरुआत 2017 में हुई थी. मलेशिया की मैलिंडो एयर को इस विमान की पहली डिलीवरी मिली थी.

यह भी पढ़ें: उड़ान के 13 मिनट बाद समुद्र में गिरा इंडोनेशियाई विमान, 188 लोग थे सवार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 9:53 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...