UAE का पहला मंगल मिशन HOPE सफलतापूर्वक हुआ लॉन्च, UN ने की तारीफ

UAE का पहला मंगल मिशन HOPE सफलतापूर्वक हुआ लॉन्च, UN ने की तारीफ
UAE ने सफलतापूर्वक मंगल मिशन लॉन्च किया

अरब स्पेस मिशन (Arab Space Mission) ने खराब मौसम की दिक्कतों के बीच आखिरकार सोमवार सुबह मंगल ग्रह के लिए अपना मार्स मिशन 'होप' (Hope probe) सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया. बीते कई दिनों से ख़राब मौसम के चलते इसके लॉन्च में देरी हो रही थी.

  • Share this:
दुबई/टोक्यो. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के अरब स्पेस मिशन (Arab Space Mission) ने खराब मौसम की दिक्कतों के बीच आखिरकार सोमवार सुबह मंगल ग्रह के लिए अपना मार्स मिशन 'होप' (Hope probe) सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है. बीते कई दिनों से ख़राब मौसम के चलते इसके लॉन्च में देरी हो रही थी. समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार, लॉन्चिंग के दौरान एक लाइव फीड में रॉकेट की मानव रहित जांच करते हुए दिखाया गया, जिसे अरबी में "अल-अमल" के रूप में जाना जाता है. दक्षिणी जापान के तनेगाशिमा अंतरिक्ष केंद्र (Tanegashima Space Centre) से इसे प्रक्षेपित किया गया.

सऊदी अरब अमीरात का मंगल के लिए पहला अंतरिक्ष मिशन सोमवार को जापान से लॉन्च हुआ. इस प्रोजेक्ट को होप नाम से डब किया गया. बता दें कि ये विमान मानवरहित है. संयुक्त राष्ट्र के अंतरिक्ष मामलों के कार्यालय की निदेशक सिमोनिटा डी पिप्पो ने कहा कि यूएई हमेशा भविष्य के लिए तत्पर है, यह हमारा अद्भुत साथी है. वियना से स्काइप पर दिए गए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा, मैं होप प्रोब को लेकर उत्साहित हूं. इससे पता चलता है कि यूएई वास्तव में अंतरिक्ष क्षेत्र में एक मुख्य खिलाड़ी बन रहा है. होप प्रोब की लॉन्चिंग डी पिप्पो ने कहा, यह बेहद दिलचस्प है कि एक देश जिसके पास कुछ साल पहले तक कोई अंतरिक्ष कार्यक्रम या अंतरिक्ष एजेंसी नहीं थी, अब मंगल ग्रह की जांच शुरू करने में सक्षम है.


फरवरी 2021 तक पहुंचेगा मार्स के ऑर्बिट मेंमिली जानकारी के मुताबिक ये यान मार्स के ऑर्बिट तक फरवरी 2021 में पहुंचेगा. रॉकेट निर्माता मित्सुबीशी हेवी इंडस्ट्रीज ने लॉन्च के तुरंत बाद जारी एक बयान में कहा कि हमने H-IIA व्हिकल नंबर 42 (H-IIA F 42) से अमीरात मार्स मिशन (EMM) होप स्पेस क्रॉफ्ट को स्थानीय जापानी समय शाम 6.58.14 पर (रात 9.58, GMT) लॉन्च कर दिया. प्रक्षेपण के पांच मिनट बाद, रॉकेट अपनी उड़ान के पहले पृथक्करण को अंजाम दे रहा था. समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात का कहना है कि इसकी अंतरिक्ष जांच काम कर रही है और मार्स के लिए लॉन्चिंग के बाद संकेत भेज रही है.



लॉन्च के पांच मिनट बाद, इस सैटेलाइट को लेकर जा रहा यान अपने रास्ते पर था. इसने अपनी यात्रा का पहला सेपरेशन भी कर लिया था. अमीरात का प्रोजेक्ट मंगल पर जाने वाले तीन प्रोजेक्ट में से एक है. इसमें चीन के ताइनवेन-1 और अमेरिका के मार्स 2020 भी शामिल हैं. ये उस मौके का फायदा उठा रहे हैं जब धरती और मंगल के बीच की दूरी सबसे कम होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज