Home /News /world /

इंडोनेशिया के भूकंप और सुनामी प्रभावित क्षेत्र से 5 हजार लोग लापता

इंडोनेशिया के भूकंप और सुनामी प्रभावित क्षेत्र से 5 हजार लोग लापता

इंडोनेशिया आपदा की फाइल फोटो

इंडोनेशिया आपदा की फाइल फोटो

बुरी तरह से प्रभावित पालू के दो इलाकों पेतोबो और बालारोआ में हजारों लोगों के जमीन में दब जाने का अंदेशा है क्योंकि वहां पूरी की पूरी बस्ती ही जमीन में समा गई है.

    इंडोनेशिया के पालू शहर में भूकंप और सुनामी के बाद लापता लोगों की संख्या 5 हजार तक पहुंच गई है. रविवार को अधिकारियों ने आशंका जाहिर की कि आपदा में मरने वालों की संख्या बहुत ज्यादा हो सकती है. इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी ने कहा कि 28 सितंबर को आए 7.5 तीव्रता के भूकंप और फिर सुनामी के बाद से अब तक 1,763 शव बरामद किए जा चुके हैं.

    बुरी तरह से प्रभावित पालू के दो इलाकों पेतोबो और बालारोआ में हजारों लोगों के जमीन में दबे होने का अंदेशा है क्योंकि वहां पूरी की पूरी बस्ती ही जमीन में समा गई है.

    एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, ‘बालारोआ और पेतोबो के (ग्राम) प्रमुखों की रिपोर्ट के अनुसार कम से कम 5 हजार लोग लापता हैं. हमारे अधिकारी अधिकारी इसकी पुष्टि करने की कोशिश में जुटे हैं और आंकड़े जुटा रहे हैं. भूस्खलन में फंसे लोगों की सटीक संख्या पता लगाना आसान नहीं है.'

    उन्होंने कहा कि लापता लोगों को ढूंढने का मिशन 11 अक्टूबर तक चलेगा. उसके बाद ही उन्हें लापता या मृत के तौर पर सूचीबद्ध किया जाएगा. बता दें कि अधिकारियों ने शुरू में करीब एक हजार लोगों के दफन होने का अनुमान लगाया था. पेतोबो और पालू इस भूकंप और सुनामी की चपेट में आकर पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं.

    इंडोनेशिया की सर्च एंड रेस्क्यू एजेंसी के चीफ मोहम्मद सयौगी ने रविवार को मीडिया से कहा कि यह 10वां दिन है और जमीन में से किसी को इतने दिनों बाद भी जिंदा निकालना किसी चमत्कार जैसा होगा.

    ये भी पढ़ें- इंडोनेशिया के सुनामी प्रभावित द्वीप पर माउंट सोपुतान ज्वालामुखी फटा

    Tags: Earthquake, Flood, Indonesia, Natural Disaster, Tsunami

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर