होम /न्यूज /दुनिया /पाकिस्तान में बाढ़ जनित बीमारियां हो सकती हैं बेकाबू, जानें आखिर अधिकारियों ने क्या कहा?

पाकिस्तान में बाढ़ जनित बीमारियां हो सकती हैं बेकाबू, जानें आखिर अधिकारियों ने क्या कहा?

पाकिस्तान में बाढ़ से जन्मे बिमारियों में अब तक 318 लोगों ने जान गवाई है. (फोटो-AFP)

पाकिस्तान में बाढ़ से जन्मे बिमारियों में अब तक 318 लोगों ने जान गवाई है. (फोटो-AFP)

आपदा प्रबंधन एजेंसी के एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में मानसून से हुई प्रचंड बारिश से आये बाद में अब तक 1,559 लोगों न ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पाकिस्तान में आये बाढ़ से लगभग 1,559 लोगों ने जान गवाई हैं.
वहीं बाढ़ जनित बिमारियों से लगभग 318 लोगों की मौत हो चुकी है.
WHO ने बाढ़ से जन्मे बिमारियों को 'दूसरी त्रासदी करार दिया है.

इस्लामाबाद:  एक प्रचंड और लंबे मानसून से हाल के सप्ताहों में पाकिस्तान के कुछ भागों औसत से लगभग तीन गुना अधिक बारिश की. जिससे आई बाढ़ में लगभग 1,559 लोग मारे गए. पाकिस्तान के बाढ़ प्रभावित इलाकों में जल जनित बीमारियों से कम से कम नौ और लोगों की मौत हो गई है. अधिकारियों ने मंगलवार को जानकारी दी. अधिकारियों ने कहा हैं कि इस संकट पर से हम नियंत्रण खो रहे हैं. वहीं यूनिसेफ ने भी इसे पाकिस्तान के इतिहास में अंधकारमय पल करार दिया है. 

आपदा प्रबंधन एजेंसी के एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में मानसून से हुई प्रचंड बारिश से आये बाद में अब तक 1,559 लोगों ने जान गवां दी है, जिसमे 551 बच्चे और 318 महिलाएं शामिल हैं. इस आंकड़े में बाढ़ जनित रोग से मरे लोगों का आकड़ा शामिल नहीं है. बाढ़ के कारण और दूषित पानी पीने से हजारों लोग मलेरिया, डेंगू बुखार, त्वचा और आंख की संक्रमण और डायरिया से भी प्रभावित हुए हैं. 

पाकिस्तान के योजना मंत्री अहसान इकबाल ने कहा, “सरकार और सेना द्वारा संयुक्त रूप से राष्ट्रीय बाढ़ प्रतिक्रिया केंद्र चलाया जा रहा है.” वहीं पाकिस्तान बाढ़ के बाद आये बिमारियों के प्रकोप के देखते हुए डब्लूएचओ ने कहा कि इसमें ”दूसरी त्रासदी” का सामर्थ्य है. 

जुलाई में सिंध क्षेत्र में बाढ़ के बाद उपजे बीमारी से लगभग 318 लोगों ने जान गवाई हैं,जबकि 27 लाख लोगों का जल जनित बीमारियों से इलाज किया गया है. सोमवार को अकेले 72,000 लोगों का इलाज किया गया था. सिंध के अलावा तीन और जिलों का स्थिति और भी बदतर है. 

बाढ़ के पानी से घिरे सहवान शहर के अब्दुल्ला शाह स्वास्थ्य विज्ञान संस्थान के निदेशक मोइनुद्दीन सिद्दीकी रायटर से बातचीत में बताया कि मलेरिया और डायरिया तेजी से फैल रहा है और हम पूर्णरूप से जलप्लावित हैं.” उन्होंने सामाजिक संगठनों और मेडिकल स्वयंसेवियों से सरकार की मदद करने के लिए आगे आने की अपील की है. 

उत्तरी पाकिस्तान में रिकॉर्ड मॉनसून बारिश और हिमनदों के पिघलने से बाढ़ आई है, जिसने दक्षिण एशियाई राष्ट्र के 220 मिलियन जनसंख्या में लगभग 33 मिलियन लोगों को प्रभावित किया है, जिससे घरों, फसलों, पुलों, सड़कों और पशुधन को 30 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है. वैज्ञानिकों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन ने आपदा को और बढ़ा दिया है.

दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में यूनिसेफ पाकिस्तान के मुख्य क्षेत्र अधिकारी गेरिडा बिरुकिला ने स्थिति को “पूरी तरह से हृदयविदारक” बताया है. उन्होंने अपने एक बयान में मंगलवार को जिनेवा में एक समाचार ब्रीफिंग में बताया कि बच्चे उर्वरकों और मल के साथ जहरीले पानी के पूल से घिरे हुए हैं. वहीं बच्चे जहां सो रहे हैं वह क्षेत्र बीमारियों और वायरस के झुंड से घिरे हुए हैं. उन्होंने आगे ये भी बताया कि “कई परिवारों के पास बीमारी से ग्रस्त पानी पीने के अलावा कोई विकल्प नहीं है.” उन्होंने कहा, “हम जहां भी जाते हैं, हम देखते हैं कि हताशा और निराशा बढ़ती जा रही है.”

उपायुक्त मुर्तजा अली शाह ने कहा कि अभिनेत्री एंजेलिना जोली मंगलवार को पाकिस्तान पहुंचीं और उन्होंने दक्षिणी पाकिस्तान के दादू जिले में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात की. इससे पहले भी 2010 में भी अभिनेत्री एंजेलिना जोली पाकिस्तान आयीं थी.

Tags: Flood, Natural Disaster, Pakistan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें