भारत के स्पेस स्टेशन से लेकर खाड़ी में तेल टैंकरों में लगी आग बनीं विदेशी मीडिया में सुर्खियां

अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में कई खबरें सुर्खियों में शुमार रहीं. रूस की आधिकारिक न्यूज़ ऐजेंसी रशिया टुडे ने जहां भारत के स्पेस-स्टेशन को तरजीह दी तो वहीं न्यूयॉर्क टाइम्स और द गार्डियन में ओमान खाड़ी में तेल टैंकरों में धमाके और विकिलिक्स के संस्थापक जूलियन असांज के प्रत्यर्पण के मामले को सुर्खियों में जगह दी.

News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 1:10 PM IST
भारत के स्पेस स्टेशन से लेकर खाड़ी में तेल टैंकरों में लगी आग बनीं विदेशी मीडिया में सुर्खियां
स्पेस स्टेशन का एक प्रतीकात्मक चित्र.
News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 1:10 PM IST
अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में कई खबरें सुर्खियों में शुमार रहीं. रूस की आधिकारिक न्यूज़ एजेंसी रशिया टुडे ने जहां भारत के स्पेस-स्टेशन को तरजीह दी तो वहीं न्यूयॉर्क टाइम्स और द गार्डियन ने ओमान खाड़ी में तेल टैंकरों में धमाके और विकिलिक्स के संस्थापक जूलियन असांज के प्रत्यर्पण के मामले को सुर्खियों में जगह दी है.

रशिया टुडे में भारत का स्पेस स्टेशन


रशिया टुडे लिखता है कि भारत ने साल 2030 तक अंतरिक्ष में खुद का स्पेस स्टेशन स्थापित करने का लक्ष्य रखा है. रशिया टुडे लिखता है कि भारत सिर्फ अंतरिक्ष में एस्ट्रॉनॉट्स को भेजने की योजना पर ही काम नहीं कर रहा है बल्कि वह एक महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के तहत अंतरिक्ष में स्पेस स्टेशन स्थापित करने की दिशा में योजना तैयार कर रहा है. रशिया टुडे ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान के चेयरमैन डॉ. कैलासावादिवू सिवान के बयान को प्रमुखता से प्रकाशित किया जिसमें सिवान ने कहा है कि भारत चंद्रयान-2 और गगनयान के बाद साल 2029 तक अपना स्‍पेस स्‍टेशन स्‍थापित करेगा.

फिलहाल अंतरिक्ष में दो स्पेस स्टेशन काम कर रहे हैं जिसमें एक अमेरिका, रूस, यूरोपीय संघ और जापान के सहयोग से बना अंतरराष्‍ट्रीय स्‍पेस स्‍टेशन यानी ISS है और दूसरा चीन का तिआनगोंग-2 है.

इसरो के मुताबिक भारत स्‍पेस स्‍टेशन अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन का हिस्सा नहीं होगा और यह मिशन गगनयान कार्यक्रम का विस्तार होगा. साल 2022 तक इसरो मिशन गगनयान के तहत अंतरिक्ष में मानवयुक्त मिशन भेजने की योजना पर काम कर रहा है.

अमेरिका ने ईरान पर लगाया हमले का आरोप, जारी किया वीडियो
द न्यूयॉर्क टाइम्स ने ओमान की खाड़ी में तेल टैंकरों में लगी संदेहास्पद आग की खबर को हेडलाइन बनाते हुए अमेरिका का एक वीडियो जारी किया है. न्यूयॉर्क टाइम्स लिखता है कि इस घटना के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ना तय है. न्यूयॉर्क टाइम्स लिखता है कि अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ओमान की खाड़ी में तेल के दो टैंकरों पर 'बिना उकसावे के हुए हमले' के लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया है. माइक पोम्पियो ने कहा कि, अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के निष्कर्ष के मुताबिक दोनों जहाजों को निष्क्रिय करने के पीछे तेहरान का हाथ था. पोम्पियो ने कहा कि यह आकलन खुफिया जानकारी, हमले में इस्तेमाल हथियार, ऑपरेशन को अंजाम देने में जरूरी दक्षता और विशेषज्ञता और ईरान की तरफ से हाल में जहाजों पर किए गए ऐसे ही हमलों के आधार पर किया गया है.
Loading...

वाशिंगटन टाइम्स ने वीडियो फुटेज को बनाया हेडलाइंस 
वाशिंगटन टाइम्स ने अपनी हेडलाइंस में एक वीडियो फुटेज को प्रमुखता से जगह दी है. युनाइटेड स्टेट्स सेंट्रल कमांड ने एक वीडियो फुटेज के जरिए सनसनीखेज सबूत पेश किया है जो कि माइक पॉम्पियो के दावों को सही साबित करता है. वीडियो फुटेज में एक ईरानी बोट पर मौजूद ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड तेल टैंकरों में से माइन निकालते दिख रहे हैं. जिन तेल टैकरों पर हमले हुए उनमें से एक नॉर्वे और एक सिंगापुर का था.

द गार्डियन ने अमेरिका-ईरान युद्ध की आशंका जताई
ब्रिटेन के मशहूर अखबार द गार्डियन ने तेल टैंकरों में लगी आग की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया और लिखा है कि क्षेत्र में अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव की वजह से युद्ध की आशंकाएं बढ़ती जा रही हैं. द गार्डियन लिखता है कि अमेरिका मानता है कि इसकी प्रबल आशंका है कि नार्वे और जापान के तेल टैंकर पर ईरान ने हमला किया है. द गार्डियन ने भी अमेरिका द्वारा जारी किए गए वीडियो फुटेज को हेडलाइंस में जगह दी है.

व्हाइट हाउस प्रवक्ता सारा सैंडर्स की विदाई
द गार्डियन ने अमेरिकी व्हाइट हाउस से प्रेस सेक्रेटरी सारा सैंडर्स की विदाई की खबर को भी तरजीह दी है. द गार्डियन लिखता है कि व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अस्थिर प्रशासन को छोड़ने वाली नवीनतम अधिकारी बन गई हैं लेकिन लेकिन एक भावनात्मक विदाई में उन्होंने जोर देकर कहा, ‘मुझे राष्ट्रपति से प्यार है.’ सैंडर्स के जाने की घोषणा ट्रंप ने ट्वीटर पर की थी और उनकी विदाई समारोह में ट्रंप ने उन्हें एक शानदार व्यक्ति बताया. ट्रंप ने कहा कि सारा सैंडर्स ने अविश्वसनीय काम किया. वहीं सैंडर्स ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप और उनके एजेंडे की सबसे मुखर और वफादार समर्थकों में से एक बनी रहेंगीं.

क्या होगा जूलियन असांजे का प्रत्यर्पण? 
बीबीसी ने विकिलीक्स के सह-संस्थापक जूलियन असांजे के प्रत्यर्पण पर ब्रिटेन के गृह मंत्री के आदेश पर दस्तखत की खबर को तरजीह दी है. बीबीसी के मुताबिक ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जावेद ने विकिलीक्स के सह संस्थापक जूलियन असांजे के प्रत्यर्पण के लिए अमेरिकी अनुरोध के बाद एक आदेश पर दस्तखत किए हैं. इससे अब असांजे के अमेरिका प्रत्यर्पण का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है. अब कोर्ट को असांजे के प्रत्यर्पण को लेकर अंतिम फैसला करना है.

चाइना डेली की हेडलाइंस में शी की किर्गिस्तान यात्रा 
चीन की वेबसाइट चाइना डेली ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की किर्गिस्तान के राष्ट्रपति के साथ मुलाकात और द्विपक्षीय वार्ता को तरजीह दी है. चाइना डेली लिखता है कि बिश्केक में शी जिनपिंग और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी को और गहरा करने के लिए एक संयुक्त बयान पर हस्ताक्षर किए. चाइना डेली लिखता कि चीन और किर्गिस्तान ने बुनियादी ढांचे, निवेश, कानून प्रवर्तन और व्यापार जैसे क्षेत्रों में आपसी सहयोग बढ़ाने के लिए कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...