अमेरिका के पूर्व अधिकारी का दावा, पाक में चीन का विरोध करने वाले देशद्रोही और आंतकी

ओबामा प्रशासन की एक पूर्व अधिकारी शमीला चौधरी के मुताबिक जो लोग भी कॉरिडोर की आलोचना करते हैं उन्हें न सिर्फ देशद्रोही कहा जा रहा है बल्कि आतंकी भी साबित करने की कोशिश हो रही है.

News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 8:52 AM IST
अमेरिका के पूर्व अधिकारी का दावा, पाक में चीन का विरोध करने वाले देशद्रोही और आंतकी
इमरान खान (फ़ाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 8:52 AM IST
पाकिस्तान में इन दिनों चीन की मदद से इकोनॉमिक कॉरिडोर बनाया जा रहा है. जिसे लोग चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) के नाम से जानते हैं. कहा जा रहा है कि इस कॉरिडोर के बनने से पाकिस्तान को काफी फायदा होगा. इस बीच अमेरिका के एक पूर्व अधिकारी ने दावा किया है कि वहां के लोग इस कॉरिडोर का विरोध कर रहे हैं. लेकिन विरोध करने वालों की आवाज़ें दबाई जा रही है.

ओबामा प्रशासन की एक पूर्व अधिकारी शमीला चौधरी के मुताबिक जो लोग भी कॉरिडोर की आलोचना करते हैं उन्हें न सिर्फ देशद्रोही कहा जा रहा है बल्कि आतंकी भी साबित करने की कोशिश हो रही है.



चौधरी ने कहा, ''पाकिस्तानी मीडिया में आपको शायद ही कोई ऐसा लेख दिखेगा जिसमें CPEC की आलोचना की गई हो.

ये भी कहा जा रहा है कि पाकिस्तान को जो भी चीन से आर्थिक मदद दी जा रही है उसे भी गोपनीय रख जा रहा है. उन्होंने ये भी कहा कि सीपीईसी परियोजना भारत-पाकिस्तान के बीच संबंधों को बिगाड़कर अमेरिका के क्षेत्रीय हितों को नुकसान पहुंचा रही है.

कहा जा रहा है कि पाकिस्तान सरकार द्वारा इस परियोजना को लेकर कोई स्पष्ट खाका और नीति पेश नहीं की गई है.  दावा किया जा रहा है कि इस परियोजना के लिए करीब 60 अरब डॉलर के अनुमानित निवेश की बात कहे जाने के बावजूद इस क्षेत्र को इसकी तुलना में काफी कम लाभ होगा.

पाकिस्तान के बलूचिस्तान में ग्वादर बंदरगाह को चीन के शिनजियांग प्रांत से जोड़ने वाली 60 अरब डॉलर की लागत वाली सीपीईसी एक अहम प्रोजेक्ट है. इसका उद्देश्य है दक्षिणपूर्व एशिया, मध्य एशिया, गल्फ क्षेत्र, अफ्रीका और यूरोप के साथ जमीनी और समुद्री मार्गों का नेटवर्क खड़ा करना है.

ये भी पढ़ें:शाह के वाहन पर हमला, गाड़ियां फूंकीं, रोड शो पर पथराव

राहुल के शकुनि मामा हैं क्रिश्चियन मिशेल: सीएम योगी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार