लाइव टीवी

फ्रांस ने चीन से शिनजियांग में नजरबंदी शिविरों को बंद करने को कहा

भाषा
Updated: November 28, 2019, 12:23 PM IST
फ्रांस ने चीन से शिनजियांग में नजरबंदी शिविरों को बंद करने को कहा
शिनजियांग में नजरबंदी शिविरों को बंद करें - फ्रांस

फ्रांस विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि हम चाहते हैं कि चीन मनमाने तरीके से लोगों को हिरासत में लेना बंद करे.

  • भाषा
  • Last Updated: November 28, 2019, 12:23 PM IST
  • Share this:
पेरिस. फ्रांस (France) ने बुधवार को चीन (China) से कहा कि वह शिनजियांग (Xinjiang) में बड़े पैमाने पर लोगों को मनमाने तरीके से हिरासत में लेना बंद करे. दरअसल चीन ने करीब 10 लाख उईगर मुस्लिमों और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों को ऐसे शिविरों में रखा है जिन्हें बीजिंग वोकेशनल स्कूल (व्यावसायिक विद्यालय) कहता है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि हम चाहते हैं कि चीन मनमाने तरीके से लोगों को हिरासत में लेना बंद करे.

विदेश मंत्री ज्यां वेस ले ड्रायन ने चीन से कहा कि वह इन शिविरों को बंद करे और संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार मामलों के उच्चायुक्त को जल्द से जल्द शिनजियांग जाने दे ताकि वह वहां के हालात के बारे में वह रिपोर्ट दे सकें. शिविरों के बारे में खुलासा नवंबर माह के मध्य में हुआ था जब इनसे जुड़े दस्तावेज चीन के राजनीतिक प्रतिष्ठान से जुड़े एक सदस्य से लीक हो गए थे.

चीन ने शुरू में इन नजरबंदी शिविरों के आस्तित्व से इनकार किया लेकिन बाद में अपने रूख में बदलाव करते हुए कहा कि ये व्यावसायिक विद्यालय हैं जिनका उद्देश्य शिक्षा और प्रशिक्षण के जरिए इस्लामिक कट्टरपंथ से मुकाबला करना है.

इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा था कि हाल ही में लीक हुए दस्तावेजों से पता चला है कि चीन सरकार ने अशांत शिनजियांग प्रांत में मुस्लिमों और अन्य अल्पसंख्यकों को 'क्रूरता से हिरासत शिविरों में बंद कर रखा है और वह उनका सुनियोजित तरीके से दमन' कर रही है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी हिरासत शिविरों में मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन कर रही है.

ये भी पढ़ें : चीन सरकार हिरासत शिविरों में मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन कर रही है: अमेरिका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 12:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...