अपना शहर चुनें

States

फ्रांस में मुस्लिम कट्टरपंथियों पर सख्ती! 76 मस्जिदों पर लग सकता है ताला, 66 हुए डिपोर्ट

फ्रांस में इस्लामिक कट्टरपंथियों के खिलाफ कार्रवाई जारी. (फोटो-AP)
फ्रांस में इस्लामिक कट्टरपंथियों के खिलाफ कार्रवाई जारी. (फोटो-AP)

France crackdown against muslim separatism: फ्रांस के गृह मंत्री ने बताया है कि देश में 76 मस्जिदें ऐसी हैं जहां से कट्टरपंथ को बढ़ावा देने के सबूत मिले हैं. इन मस्जिदों को हमेशा के लिए बंद किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 4, 2020, 2:30 PM IST
  • Share this:
पेरिस. फ्रांस (France) में आतंकी हमलों (Terror Attack) के बाद से ही सरकार ने मुस्लिम कट्टरपंथियों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है. फ्रांस के होम मिनिस्टर गेराल्ड डेरमैनियन ने स्पष्ट कहा है कि मस्जिदों की जांच की जा रही और कट्टरपंथ को बढ़ावा देने वाले संगठनों पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जिन मस्जिदों ( 76 mosques suspected of separatism) के खिलाफ भी सबूत पाए गए उन पर ताला लगना तय है. सरकार को जांच में पता चला है कि देश में कुछ जगहों से कट्टरता और अलगाववाद को बढ़ावा दिया जा रहा है और इनके खिलाफ कड़े कदम उठाए जाएंगे.

गेराल्ड डेरमैनियन ने कहा कि कुछ मस्जिदों को बंद किया जा सकता है, क्योंकि ये आतंकवाद को बढ़वा दे रही हैं. इससे देश में अलगाववाद बढ़ रहा है. पेरिस के एक उपनगरीय इलाके की मस्जिद को पहले ही 6 महीने के लिए बंद किया जा चुका है. अक्टूबर में हिस्टी टीचर सैमुअल पैटी की हत्या करने वाला आतंकी इसी मस्जिद से जुड़ा था. वो मूल रूप से चेचेन्या का रहने वाला था और गैर कानूनी तौर पर फ्रांस में रह रहा था. बता दें कि फ्रांस में अक्टूबर में एक हिस्ट्री टीचर का सिर काटकर उसे मौत के घाट उतार दिया गया था. इसके बाद नीस शहर में एक कट्टरपंथी ने तीन लोगों की हत्या कर दी थी.

76 मस्जिदों पर है कट्टरता फैलाने का शक
फिलहाल, 76 मस्जिदें शक के घेरे में हैं और इनकी जांच की जा रही है. इनमें से 16 पेरिस और आसपास के क्षेत्रों में हैं. बाकी 60 देश के दूसरे हिस्सों में हैं. एक अनुमान के मुताबिक, फ्रांस की कुल जनसंख्या इस वक्त करीब 6.50 करोड़ है. इनमें से 7 फीसदी मुस्लिम आबादी है. देश में कुल मिलाकर 2600 मस्जिदें हैं. तीन साल में तीन मस्जिदों को सरकार बंद कर चुकी है. यूरोप में जितने मुस्लिम देश हैं, उनमें से सबसे ज्यादा मुस्लिम फ्रांस में ही रहते हैं. हिस्ट्री टीचर की हत्या के बाद राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने साफ कर दिया था कि इस्लामिक कट्टरता को जड़ से खत्म करना जरूरी है और उनकी सरकार इसके लिए हर कदम उठाएगी.



आतंकी हमलों से फ्रांस हुआ परेशान
हिस्ट्री टीचर की हत्या के दो हफ्ते बाद नीस शहर में तीन लोगों की चाकू से गला रेतकर हत्या की गई थी. इसके बाद सरकार और फ्रांस के लोगों का सब्र का बांध टूट गया. होम मिनिस्टर ने गुरुवार को कहा- आने वाले दिनों में हर संदिग्ध स्थान की जांच की जाएगी. जहां भी शक होगा, उन्हें बंद किया जाएगा. 2015 में फ्रांस की एक मैग्जीन शार्ली हेब्दो ने इस्लाम से जुड़े कुछ चित्र प्रकाशित किए थे. इसके बाद दो लोगों ने इस मैग्जीन के ऑफिस में घुसकर 12 लोगों की हत्या कर दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज