लाइव टीवी

राफेल सौदा: ओलांद के बयान से फ्रांस सरकार को भारत से संबंध बिगड़ने का डर

भाषा
Updated: September 23, 2018, 11:19 PM IST
राफेल सौदा: ओलांद के बयान से फ्रांस सरकार को भारत से संबंध बिगड़ने का डर
राफेल सौदा: ओलांद के बयान से फ्रांस सरकार को भारत से संबंध बिगड़ने का डर

फ्रांस सरकार ने रविवार को आशंका जतायी कि पूर्व राष्ट्रपति फ्रंस्वा ओलांद के राफेल विमान सौदे को लेकर दिए गए बयान के बाद भारत के साथ उसके संबंधों को नुकसान पहुंच सकता है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 23, 2018, 11:19 PM IST
  • Share this:
फ्रांस सरकार ने रविवार को आशंका जतायी कि पूर्व राष्ट्रपति फ्रांंस्वा ओलांद के राफेल विमान सौदे को लेकर दिए गए बयान के बाद भारत के साथ उसके संबंधों को नुकसान पहुंच सकता है. राफेल लड़ाकू जेट विमानों की खरीद को लेकर ओलांद के बयान ने भारत में पहले से चल रहे विवाद को और हवा दे दी है.

ओलांद ने पिछले साल मई में फ्रांस के राष्ट्रपति का पद छोड़ा था. शुक्रवार को उन्होंने कहा था कि अपनी एक भारत यात्रा के दौरान फ्रांस की विमान कंपनी दसॉ एविएशन को 2016 में भारतीय प्रशासन के साथ हुए सौदे के तहत भागीदार चुनने में कोई विकल्प नहीं दिया गया था.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार ने दसॉ से 36 राफेल जेट विमान खरीदने का समझौता किया. इस सौदे के बाद दसॉ ने अनिल अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस डिफेंस के साथ भागीदारी तय की.

ओलांद की अब इस घोषणा से कि दसॉ के समक्ष इसमें कोई विकल्प नहीं था, मामले को और हवा मिल गई. भारत में विपक्ष इस मुद्दे को लेकर सरकार पर हमलावर है. विपक्ष का आरोप है कि सरकार ने मामले में अनिल अंबानी की मदद की है.

ओलांद के बयान पर रविवार को फ्रांस के कनिष्क विदेश मंत्री जीन-बापटिस्ट लीमोयने ने कहा, 'मेरा मानना है कि यह जो बयान दिया गया है इससे किसी का भला नहीं होने वाला है और सबसे बड़ी बात है कि इससे फ्रांस को कोई फायदा नहीं होने वाला है.'

एक साक्षात्कार में लीमोयने ने कहा, 'कोई भी जब पद पर नहीं है और वो ऐसा वक्तव्य देता है जिससे भारत में विवाद खड़ा होता है और भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक भागीदारी को नुकसान पहुंचाता है तो ये वास्तव में उचित नहीं है.'

ओलांद का यह बयान खुद के बचाव में आया है. उनपर आरोप है कि उनकी गर्लफ्रेंड जूली गेएट ने 2016 में एक फिल्म का निर्माण अंबानी की कंपनी के सहयोग से किया. ये निश्चित तौर पर हितों के टकराव को दिखाता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 23, 2018, 11:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर