लाइव टीवी

भारत को UNSC में स्थायी सदस्य बनाने की सख्त जरूरत- फ्रांस

News18Hindi
Updated: May 7, 2019, 1:37 PM IST
भारत को UNSC में स्थायी सदस्य बनाने की सख्त जरूरत- फ्रांस
UNSC की फाइल फोटो

UNSC में फ्रांस के स्थायी प्रतिनिधि ने कहा, 'फ्रांस का मानना है कि कुछ प्रमुख सदस्यों को जोड़ने के साथ सुरक्षा परिषद को बृहत बनाना 'हमारी रणनीतिक प्राथमिकताओं में से एक है.'

  • Share this:
भारत और जर्मनी, ब्राजील तथा जापान जैसे देशों को मौजूदा हालात बेहतर ढंग से बताने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यों के तौर पर शामिल करने की 'बहुत जरूरत' है. संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के प्रतिनिधि ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की महत्तवपूर्ण संस्था में इन प्रमुख सदस्यों को शामिल करना फ्रांस की 'रणनीतिक' प्राथमिकताओं में शामिल है.

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के स्थायी प्रतिनिधि फांस्वा डेलातरे ने बीते हफ्ते पत्रकारों से कहा कि 'नीति फ्रांस एवं जर्मनी की नीति मजबूत है, जो सुरक्षा परिषद को विस्तार देने के लिए साथ काम करने और उस बातचीत में सफल होने से जुड़ी है ताकि सुरक्षा परिषद का दायरा बढ़े, जिसे हम विश्व को जैसा है वैसा ही बेहतर ढंग से दिखाने के लिए बहुत जरूरी मानते हैं. इसमें कोई सवाल ही नहीं उठता है.'

यह भी पढ़ें:  पुलवामा हमले के बाद मसूद को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने की प्रक्रिया हुई थी शुरू : सूत्र

अप्रैल के लिए संयुक्त राष्ट्र में जर्मनी की अध्यक्षता के अंत में संयुक्त राष्ट्र में जर्मनी के दूत क्रिस्टोफ ह्यूसगन के साथ बोलते हुए डेलातरे ने जोर दिया कि फ्रांस मानता है कि, 'जर्मनी, जापान, भारत, ब्राजील और विशेष रूप से अफ्रीका का उचित प्रतिनिधित्व सुरक्षा परिषद में निष्पक्ष प्रतिनिधित्व की दिशा में बहुत जरूरी है. यह हमारे लिए प्राथमिकता का विषय है.'

यह भी पढ़ें:  संसद पर हमले से पुलवामा ब्लास्ट तक, वो आतंकी घटनाएं जो मसूद अजहर ने अंजाम दीं!

डेलातरे ने कहा फ्रांस का मानना है कि कुछ प्रमुख सदस्यों को जोड़ने के साथ सुरक्षा परिषद को बृहत बनाना 'हमारी रणनीतिक प्राथमिकताओं में से एक है.'

भारत संयुक्त राष्ट्र में सुरक्षा परिषद के लंबे समय से लंबित पड़े सुधारों के लिए दवाब देने वाले प्रयासों में सबसे अग्रणी है और इस बात पर जोर देने में कि वह संयुक्त राष्ट्र की महत्त्वपूर्ण संस्था में एक स्थायी सदस्य के तौर पर उचित जगह का हकदार है.यह भी पढ़ें:   UN List में पुलवामा हमले का जिक्र न होने पर MEA ने कहा- 'यह मसूद के आतंकी करतूतों का बायोडाटा नहीं'
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 7, 2019, 11:32 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर