क्या US और ईरान के बीच समझौते की अहम कड़ी होगा फ्रांस? पहले भी कर चुका है मदद

फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करना फ्रांस की जिम्मेदारी है कि सभी पक्ष वार्ता शुरू करने के लिए सहमत हों.

भाषा
Updated: July 31, 2019, 12:04 PM IST
क्या US और ईरान के बीच समझौते की अहम कड़ी होगा फ्रांस? पहले भी कर चुका है मदद
फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों और डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: July 31, 2019, 12:04 PM IST
फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने अपने ईरानी समकक्ष हसन रूहानी से मंगलवार को बात की. रूहानी ने ईरान और अमेरिका के बीच तनाव कम करने की फिर से अपील की. फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करना फ्रांस की जिम्मेदारी है कि सभी पक्ष वार्ता शुरू करने के लिए सहमत हों.

उल्लेखनीय ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर 2015 में हुए एक करार से पिछले साल अमेरिका को बाहर कर लिया था. जिससे उसके यूरोपीय सहयोगी काफी निराश हैं. इसके बाद से अमेरिका और ईरान के संबंध काफी तनावपूर्ण हो गए हैं.

समझौते में निभाई थी अहम भूमिका
इस समझौते में फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने अहम भूमिका निभाई थी. एलिसी ने बताया कि मैक्रों ने रूहानी के साथ चली लंबी बातचीत में तनाव को कम करने की पहल करने की आवश्यकता पर फिर से बल दिया. पेरिस मौजूदा तनाव को कम करने के राजनयिक स्तर पर प्रयास कर रहा है और इन्हीं कोशिशों के तहत मैक्रों के विदेश नीति सलाहकार एमैनुएल बोन ने दो बार तेहरान की यात्रा की.

एलिसी के अनुसार रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जी7 शिखर सम्मेलन से पहले अगस्त के मध्य में ब्रेगनकॉन में मैक्रों से मुलाकात करेंगे जिससे ईरानी मामले पर चर्चा का नया अवसर मिलेगा.
First published: July 31, 2019, 12:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...