लाइव टीवी

कोरोना वायरस से संक्रमित नर्स 3 दिन तक ICU में करती रही ड्यूटी, अस्पताल ने नहीं किया टेस्ट

News18Hindi
Updated: April 9, 2020, 1:48 PM IST
कोरोना वायरस से संक्रमित नर्स 3 दिन तक ICU में करती रही ड्यूटी, अस्पताल ने नहीं किया टेस्ट
एमपी में कोरोना से युवा वर्ग सबसे ज़्यादा प्रभावित हुआ

जॉर्जिया के एक अस्पताल में ये मामला सामने आया है. इस अस्पताल के ICU में तैनात एक नर्स में कोरोना (Coronavirus) के लक्षण नज़र आने के बावजूद अस्पताल प्रशासन ने लगातार तीन दिन तक न सिर्फ उनसे काम करवाया बल्कि टेस्ट करने से भी मना कर दिया.

  • Share this:
न्यूयॉर्क. अमेरिका (USA) का न्यूयॉर्क (New York) शहर कोरोना संक्रमण (Coronavirus) का केंद्र बना हुआ है. बुधवार को भी एक ही दिन में यहां के अस्पतालों में 779 लोगों की मौत हो गयी है. अब न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे कोरोना के खिलाफ न्यूयॉर्क प्रशासन की तैयारियों पर सवाल खड़ा हो गया है. यहां के एक अस्पताल के ICU में तैनात नर्स में तीन दिन तक कोरोना के लक्षण नज़र आने के बावजूद वो न सिर्फ ड्यूटी करती रही बल्कि अस्पताल ने इसका टेस्ट करने से भी इनकार कर दिया. बाद में ये नर्स कोरोना पॉजिटिव पाई गई है.

न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स में छपी एक खबर के मुताबिक जॉर्जिया के एक अस्पताल में ये मामला सामने आया है. इस अस्पताल के ICU में तैनात एक नर्स में कोरोना के लक्षण नज़र आने के बावजूद अस्पताल प्रशासन ने लगातार तीन दिन तक न सिर्फ उनसे काम करवाया बल्कि टेस्ट करने से भी मना कर दिया. बाद में इस नर्स ने एक प्राइवेट अस्पताल में टेस्ट कराया तो वे कोरोना पॉजिटिव पाई गयीं. न्यूयॉर्क के अस्पतालों से इस तरह की कई ख़बरें सामने आयीं हैं जिनमें लक्षण नज़र आने के बाद भी डॉक्टर्स का ही टेस्ट नहीं कराया जा रहा है. बहुत गंभीर लक्षणों के बाद ही उनकी जांच हो रही है या उन्हें छुट्टी पर भेजा जा रहा है. मिशिगन के एक अस्पताल में जब सैंकड़ों कर्मचारियों में लक्षण दिखने लगे तो टेस्ट कराया गया और 700 से अधिक स्टाफ मेंबर्स कोरोना पॉजिटिव पाए गए.

डॉक्टर्स को नहीं मिल रहीं सुविधाएं
न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई हॉस्पिटल की एक नर्स ने पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर रॉयटर्स को बताया कि पिछले महीने उन्हें हल्का बुखार, उल्टी, पेट खराब जैसी शिकायतें हुईं, लेकिन वह काम करती रहीं, हालांकि उनका बुखार 100.2 डिग्री था जो कि अमेरिका के रोग नियंत्रण विभाग की ओर स्वास्थ्य कर्मियों की जांच और घर भेजने के लिए तय मानक से कम था. लेकिन जब उन्होंने एक प्राइवेट क्लीनिक में जांच कराई तो वह कोरोना संक्रमित पाई गईं. रॉयटर्स ने 13 नर्स और 2 डॉक्टरों का इंटरव्यू लिया, जिन्होंने उनके अस्पतालों में जांच में कमी की बात बताई है. कई अस्पतालों में कर्मचारियों की जांच तभी की जा रही है जब उनमें गंभीर लक्षण दिखने लगते हैं. नतीजा यह है कि डॉक्टर मरीज, साथियों और परिवार को संक्रमित करने के जोखिम के साथ काम कर रहे हैं. हालत ये है कि स्वास्थ्यकर्मी कोरोना वायरस के हल्के लक्षणों के बावजूद मरीजों के इलाज में जुटे हुए हैं.



अस्पतालों ने दी सफाई


उधर अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा कि जैसी स्थिति है उसे समझना चाहिए और फिलहाल ऐसी बातों पर प्रतिक्रिया देने के लिए सही समय नहीं है. उन्होंने माना कि अभी कम लक्षणों वाले कर्मियों की जांच नहीं की जा रही है. हॉस्पिटल के चीफ मेडिकल ऑफिसर विकी लोपाचिन ने कहा कि वह कर्मचारियों की जांच में तेजी लाने जा रहे हैं. एनवाईयू ग्रोसमैन स्कूल ऑफ मेडिसिन में बायोएथिक्स के प्रोफेसर डॉ. आर्ट कापलान ने कहा, 'स्वास्थ्य कर्मचारी भी जोखिम में हैं. लगातार जांच सुविधा में किल्लत शर्मनाक है और उन मरीजों के लिए खतरनाक है जिनका ये इलाज कर रहे हैं. हमें कोरोना का कोई भी लक्षण दिखते ही स्वास्थ्य कर्मियों की जांच करनी चाहिए.' सोमवार को अमेरिका के हेल्थ और ह्मयूमन सर्विसेज के इंस्पेक्टर जनरल ऑफिस ने 323 हॉस्पिटलों का एक सर्वे जारी किया जिसमें पाया गया है कि स्टाफ और मरीजों की प्रभावी जांच नहीं हो पा रही है. परिणाम के लिए सात दिन तक इंतजार करना पड़ रहा है.

न्यूयॉर्क में दुनिया के किसी भी शहर से ज्यादा मौतें
अमेरिका के न्यूयॉर्क में बुधवार को कोरोना वायरस से 779 लोगों की मौत हो गई, जो एक दिन में यहां इस बीमारी से होने वाली अब तक की सर्वाधिक मौत हैं. हालांकि गवर्नर एंड्रयू कुओमो ने कहा कि महामारी स्थिर होती दिखाई दे रही है. कुओमो ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 779 लोगों की मौत हुई है, जिससे न्यूयॉर्क राज्य में कोविड-19 से हुई कुल मौतों की संख्या 6,268 हो गई है. इससे पहले पिछली सर्वाधिक मौत सोमवार को हुई थीं, उस दिन 731 लोगों की मौत हुई थी. अमेरिका में घातक कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क है, जहां हुई मौत देशभर में होने वाली मौतों का लगभग आधा हैं. गवर्नर ने कहा कि मौत में वृद्धि के बावजूद, सामाजिक प्रतिबंधों के कारण अस्पताल में भर्ती मरीजों के दर में कमी आ रही है.

 

ये भी पढ़ें
जानें सांसदों और विधायकों की सैलरी, जिससे वो करेंगे कोरोना के लिए मदद
क्यों रंगीन लाइट्स से जगमगा रहा है वुहान, शहर ने दिखाया कोरोना से जीत संभव
लॉकडाउन के बाद भी सामाजिक दूरी के चलते हवाई सफर के नियम होंगे सख्त
कोरोना वायरस की वजह से भारत में कितने करोड़ मजदूर होंगे बेरोजगार
12 साल पहले बनी वैश्विक महामारी से निपटने की योजना नौकरशाहों ने नहीं होने दी पूरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2020, 1:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading