भगवान राम के बाद अब गौतम बुद्ध पर नेपाल का बड़ा बयान

भगवान राम के बाद अब गौतम बुद्ध पर नेपाल का बड़ा बयान
कॉन्सेप्ट इमेज.

नेपाल के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा ये निर्विवाद तथ्य है जो ऐतिहासिक और पुरातात्विक साक्ष्यों से सिद्ध होता है कि गौतम बुद्ध (Gautam Buddha) का जन्म लुंबिनी, नेपाल में हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 10:53 PM IST
  • Share this:
काठमांडू. अयोध्या और भगवान को लेकर बयानबाजी करने के बाद अब नेपाल ने गौतम बुद्ध (Gautam Buddha) को लेकर बयान दिया है. नेपाल के विदेश मंत्रालय ने रविवार को अपने बयान में कहा कि गौतम बुद्ध नेपाल में पैदा हुए थे. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा ये निर्विवाद तथ्य है जो ऐतिहासिक और पुरातात्विक साक्ष्यों से सिद्ध होता है कि गौतम बुद्ध का जन्म लुंबिनी, नेपाल में हुआ था. गौतम बुद्ध का जन्मस्थान लुंबिनी युनेस्को (UNESCO) की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है.

इसके साथ ही प्रवक्ता ने कहा कि यह सच है कि बौद्ध धर्म नेपाल के बाद दुनिया के दूसरे हिस्सों में फैला. मामला संदेह और विवाद से परे है और इस तरह बहस का विषय नहीं हो सकता. पूरा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय इससे वाकिफ है.

It is a well-established and undeniable fact proven by historical & archaeological evidence that Gautam Buddha was born in Lumbini, Nepal. Lumbini, the birthplace of Buddha and the fountain of Buddhism, is one of the UNESCO world heritage sites: Ministry of Foreign Affairs, Nepal pic.twitter.com/hooD5856hO





इसी के साथ नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने एक बार फिर दावा किया है कि भगवान राम की जन्मस्थली नेपाल का चितवन जिला है. इसी जिले में माडी नगरपालिका क्षेत्र है, जिसका नाम अयोध्यापुरी है. शनिवार को ओली ने इस क्षेत्र के अधिकारियों से फोन पर बातचीत की. उन्हें राम, लक्ष्मण और मां सीता की प्रतिमाएं लगाने के आदेश दिए. ओली ने अफसरों को आदेश दिया कि अयोध्यापुरी को ही असली अयोध्या के तौर पर प्रोजेक्ट और प्रमोट करें. प्रधानमंत्री ओली ने थोरी और माडी के स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भव्य मंदिर बनाने के लिए योजना तैयार करने के निर्देश भी दिए हैं.

ये भी पढ़ें: नेपाल के PM ने फिर छेड़ा 'असली अयोध्या' राग, भव्‍य राम मंदिर बनाने के दिए निर्देश

अधिकारियों के साथ दो घंटे तक की बात
नेपाल के अखबार 'हिमालयन टाइम्स' के मुताबिक ओली ने माडी और चितवन के अधिकारियों और नेताओं से दो घंटे फोन पर बातचीत की. आगे बातचीत के लिए उन्हें काठमांडू भी बुलाया. ओली ने कहा, 'मुझे भरोसा है कि भगवान राम का जन्म नेपाल के अयोध्यापुरी में हुआ था. भारत के अयोध्या में नहीं. मेरे पास सुबूत हैं, जो यह साबित कर देंगे कि भगवान राम का जन्म नेपाल में ही हुआ था.' चितवन जिले की सांसद दिल कुमारी रावल ने कहा, 'पीएम ओली ने कहा है कि अयोध्यापुरी के आसपास के क्षेत्रों के संरक्षण के लिए पूरी ताकत से काम करें. प्रमाण जुटाने लिए अयोध्यापुरी की खुदाई करने को भी कहा. इसके साथ ही अयोध्यापुरी को प्रमोट करने और वहां के ऐतिहासिक साक्ष्यों को संरक्षित करने के लिए स्थानीय लोगों की मदद लेने का आदेश भी दिया.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading