जॉर्ज फ्लॉयड प्रदर्शन: ट्रंप के खिलाफ हुए रक्षा मंत्री, कहा- शहरों में सेना की तैनाती नहीं होगी

जॉर्ज फ्लॉयड प्रदर्शन: ट्रंप के खिलाफ हुए रक्षा मंत्री, कहा- शहरों में सेना की तैनाती नहीं होगी
ट्विटर ने फिर मार्क किया ट्रंप का ट्वीट

ट्रंप (Donald Trump) के रक्षा मंत्री मार्क एस्‍पर (Mark Esper) ने ही शहरों में सेना तैनात करने के विकल्प को खारिज कर दिया है. एस्‍पर ने स्पष्ट कहा है कि सेना की तैनाती अंतिम विकल्प होती है, अभी उसकी कोई ज़रुरत नहीं है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
वाशिंगटन. अश्वेत अमेरिकी नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड (George Floyd Death) की पुलिस कस्टडी में हुई मौत के बाद अमेरिका (US) के 140 शहरों में प्रदर्शन चल रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने इन प्रदर्शनकारियों को 'घरेलू आतंकवादी' कहा है और इनके खिलाफ सेना (US Army) को उतारने की धमकी भी दी है. हालांकि अब ट्रंप के रक्षा मंत्री मार्क एस्‍पर (Mark Esper) ने ही शहरों में सेना तैनात करने के विकल्प को खारिज कर दिया है. एस्‍पर ने स्पष्ट कहा है कि सेना की तैनाती अंतिम विकल्प होती है, अभी उसकी कोई ज़रुरत नहीं है.

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए सेना की तैनाती का खुलकर विरोध किया है. एस्पर ने सड़कों पर प्रदर्शनों को दबाने के लिए सेना का पूरी तरह इस्तेमाल करने की ट्रंप की चेतावनियों से दूरी बना ली है. एस्पर ने कहा, 'कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सेना की तैनाती अंतिम विकल्प के रूप में की जानी चाहिए. साथ ही, बेहद जरूरी और आपात स्थिति में सेना का प्रयोग करना चाहिए.' उधर ट्रंप लगातार गवर्नरों पर नेशनल गार्ड के इस्तेमाल का दबाव बनाए हुए हैं और प्रदर्शनकारियों को सबक सिखाने जैसे भड़काऊ जुमलों का प्रयोग कर रहे हैं.

वाशिंगटन में सेना के जवानों से दिक्कत नहीं
बता दें कि बीते 4 दिनों में वाशिंगटन डीसी में प्रदर्शनकारियों और पुलिस में जमकर झड़प हुई है जिसमें कथित तौर पर ट्रंप की सुरक्षा में तैनात सीक्रेट सर्विस के 50 एजेंट भी घायल हो गए थे. इसके बाद ट्रंप ने व्हाइट हाउस की सुरक्षा का जिम्मा नेशनल गार्ड और सेना को सौंप दिया था. सेना का वुरोध करते हुए हालांकि एस्पर ने पेंटागन के उस फैसले को बदल दिया कि वॉशिंगटन इलाके से ड्यूटी पर तैनात सैनिकों को घर भेजा जाएगा. एस्पर ने कहा कि व्हाइट हाउस की सुरक्षा फ़िलहाल सेना के पास ही रहेगी.



पूर्व रक्षा मंत्री ने ट्रंप को बताया नाजी


उधर अमेरिका के पूर्व रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप लगाया है कि वे देश में विभाजन की आग भड़का रहे हैं और अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ट्रंप ने जिस तरह हालिया घटनाओं को हैंडल किया है, उससे वे नाराज़ हैं और आश्चर्यचकित भी हैं. मैटिस ने राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की तुलना नाजी से की और उन्हें देश को बांटने वाला अमेरिका का पहला राष्ट्रपति करार दिया है.

मैटिस ने कहा, 'डॉनल्ड ट्रंप मेरे जीवन में पहले राष्ट्रपति हैं, जो अमेरिकी लोगों को एकजुट करने की कोशिश नहीं करते. यहां तक कि कोशिश का दिखावा भी नहीं करते. वह बांटने की कोशिश करते हैं.' उधर, मैटिस के बयान पर ट्रंप ने जवाब देते हुए उन्हें अहंकारी जनरल जैसा बताया. अपनी आलोचना के बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने कई ट्वीट्स किए और दावा किया कि उन्होंने जेम्स मैटिस को हटाया था. एक ट्वीट में उन्होंने कहा- मुझे उनका नेतृत्व पसंद नहीं था. कई लोग मेरी इस बात से सहमत होंगे. मुझे ख़ुशी है कि वे चले गए.

 

यह भी पढ़ें:

2.3 करोड़ सालों में सबसे ज्यादा CO2 का स्तर है आजजानिए क्या है इसका मतलब

मच्छरों पर भी हो रहा है ग्लोबल वार्मिंग का असरजानिए क्या हो रहा है बदलाव

लंबे समय से सुलझ नहीं रहा था न्यूट्रान तारे का एक रहस्यमिला एक नया पदार्थ
First published: June 5, 2020, 11:17 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading