Home /News /world /

germany 101 year old man sentenced for murder charges

जर्मनी: हत्या के मामले में 101 वर्षीय बुजुर्ग को सजा, जानें 'हिटलर' के जमाने से जुड़ा क्या है ये मामला

जर्मनी में 101 साल के बुजुर्ग व्यक्ति को 5 साल की सजा (फाइल फोटो)

जर्मनी में 101 साल के बुजुर्ग व्यक्ति को 5 साल की सजा (फाइल फोटो)

Germany:  जर्मनी में द्वितीय विश्व युद्ध के समय नाजियों के यातना शिविर में सेवा देने वाले एक गार्ड को हत्या में मदद करने के आरोप में 5 साल की सजा सुनाई गई है. न्यूरिप्पिन की एक अदालत ने इस 101 वर्षीय व्यक्ति को यह सजा दी है.  इस शख्स को 3,518 आरोपों में मंगलवार को दोषी करार दिया गया.

अधिक पढ़ें ...

बर्लिन: जर्मनी में द्वितीय विश्व युद्ध (World War II)  के दौरान नाजियों के साक्सेनहौसेन यातना शिविर में सेवा देने वाले एक गार्ड को हत्या में मदद करने से जुड़े 3,518 आरोपों में मंगलवार को दोषी करार दिया गया. न्यूरिप्पिन की एक अदालत ने इस 101 वर्षीय व्यक्ति को पांच साल कैद की सजा सुनाई.

दोषी की पहचान सार्वजनिक नहीं की गई है. बीते साल अक्तूबर में शुरू हुई सुनवाई के दौरान उसने यातना शिविर में नाजी गार्ड के तौर पर काम करने और हजारों कैदियों की हत्या में मदद देने के आरोपों से इनकार किया था.

उसने कहा था कि उक्त अवधि में वह पूर्वोत्तर जर्मनी में पेसवॉक के पास एक खेत में मजदूरी करता था. हालांकि, जर्मन समाचार एजेंसी डीपीए की एक खबर के मुताबिक, अदालत ने कहा कि इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि 1942 से 1945 के बीच संबंधित व्यक्ति बर्लिन के बाहरी इलाके में स्थित साक्सेनहौसेन यातना शिविर में नाजी पार्टी की संसदीय इकाई के सूचीबद्ध सदस्य के रूप में कार्यरत था.

यह भी पढ़ें: हिटलर ने 83 साल पहले जारी किया था लाखों लोगों की हत्या का फरमान

डीपीए के अनुसार, पीठासीन न्यायाधीश उदो लेशनमैन ने कहा, “अदालत इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि आपके दावे के विपरीत यह सिद्ध हो गया है कि आपने यातना शिविर में तीन साल बतौर गार्ड काम किया था. आपने अपनी गतिविधियों से स्वेच्छा से सामूहिक नरसंहार में सहयोग दिया.”

बता दें कि जर्मनी के तानाशाह हिटलर ने नाजियों का बड़े पैमाने पर नरसंहार किया था. 1939 में नरसंहार की योजना बनाने और उसे अंजाम देने के लिए एक टीम बनाई गई थी जिसमें हिटलर की प्राइवेट चांसलरी का निदेशक फिलिप बॉहलर और हिटलर का निजी फिज़िशियन कार्ल ब्रैंड्ट की प्रमुख भूमिका थी. इसी नाज़ी फिज़िशियन बैंड्ट को योजना बनने के बाद यूथेनेशिया प्रोग्राम का डायरेक्टर बनाया गया था. इसके अलावा हिस्ट्री चैनल की मानें तो यूथेनेशिया विभाग का प्रमुख डॉ विक्टर ब्रैक भी मुख्य भूमिका में था जिसने टी4 की योजना का निरीक्षण किया था.

Tags: Germany

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर