अपना शहर चुनें

States

जर्मनी और फिनलैंड ने IS लड़ाकों की पत्नियों और बच्चों की घर वापसी कराई

जर्मनी और फिनलैंड ने आईएस लड़ाकों की पत्नियों और बच्चों की घर वापसी कराई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
जर्मनी और फिनलैंड ने आईएस लड़ाकों की पत्नियों और बच्चों की घर वापसी कराई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Libretaed Women and Children From Islamic State Camp: जर्मनी और फ़िनलैंड (Germany And Finland) ने सीरियाई शिविरों (Serian Camp) से पांच महिलाओं और 18 बच्चों को छुड़वा कर देश वापसी करवाई है. इन पर संदेह है कि ये सभी इस्लामिक स्टेट (Islamic State) के लड़ाकों के परिवार के सदस्य हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 21, 2020, 11:57 AM IST
  • Share this:
बर्लिन/ हेलसिंकी. जर्मनी और फ़िनलैंड (Germany And Finland) ने सीरियाई शिविरों (Serian Camp) से पांच महिलाओं और 18 बच्चों को छुड़वा कर देश वापसी करवाई है. इन पर संदेह है कि ये सभी इस्लामिक स्टेट (Islamic State) के लड़ाकों के परिवार के सदस्य हैं. दोनों राष्ट्रों के विदेश मंत्रालयों ने एक बयान में कहा कि इस हफ्ते के अंत में इन महिलाओं और बच्चों को मानवीय कारणों (Humantarian Ground) से वापस लाया गया है. दोनों देशों की सरकारों ने इस संयुक्त अभियान को इन्हें चार्टर्ड प्लेन से घर वापसी तक गुप्त रखा गया था. यह प्लेन तीन महिलाओं और 12 बच्चों को फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर उतार कर फिनलैंड के 8 नागरिकों को लेकर हेलसिंकी एयरपोर्ट चला गया.

आईएस से संबंधित होने के चलते हो रही है इनकी जांच

जर्मन मीडिया ने कहा कि इनमें से 3 महिलों की IS से संबंधित होने के कारण जांच चल रही है. रिपोर्ट में कहा गया है कि तीनों जर्मन युवतियां 21 से 38 साल की हैं और बच्चे दो से 12 साल के बीच के हैं. यह समूह कुर्द नियंत्रण के तहत एक शरणार्थी शिविर में रहता था. आईएस में शामिल होने वाले सैकड़ों यूरोपीय उत्तरी सीरिया में कुर्द-संचालित शिविरों में हैं. कुर्द प्रशासन के विदेश विभाग के एक प्रवक्ता कमाल अकिफ ने एएफपी को बताया कि तीनों महिलाएं आईएसआईएस के आतंकियों की पत्नियां हैं और स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत खराब हालत में हैं.



विदेश मंत्री ने महिलाओं और बच्चों की वापसी पर संतोष जताया
जर्मनी के विदेश मंत्री हाइको मास ने रविवार को इन महिलाओं और बच्चों की देश वापसी पर राहत जताते हुए एक बयान में कहा कि मुझे इस बात से बहुत राहत मिली है कि हम कल उत्तरपूर्वी सीरिया के शिविरों से महिलाओं और बच्चों को वापस लाने में सक्षम हुए. विदेश मंत्री हाइको मास ने यह भी कहा कि वापस लाये गए बच्चे अनाथ और बीमार हैं और इस कारण उनकी वापसी जल्द और जरूरी थी.

आईएस कैंप में 9 हजार विदेशी रह रहे हैं

फिनलैंड के विदेश मंत्रालय ने बताया कि छह बच्चों और दो माताओं को देश वापस लाया गया है और फिनलैंड के संविधान के अनुसार सरकार की जिम्मेदारी है कि वे इन कैम्पों में रहने वाले फिनिश बच्चों के मूल अधिकारों की रक्षा करें. फिनलैंड सरकार का अनुमान है कि 9,000 से अधिक विदेशी महिलाएं और बच्चे और उनमें से दो-तिहाई बच्चे अभी भी उत्तर-पूर्वी सीरिया में अल-होल और रोज कैंप में आयोजित किए जा रहे हैं. उनमें से, लगभग 600 बच्चे और 300 महिलाएँ यूरोपीय संघ के नागरिक हैं.

ये भी पढ़ें: जापान ने बढ़ाया सैन्य बजट, चीन से मुकाबले के लिए फाइटर प्लेन बनाने की तैयारी

चिली के राष्ट्रपति ने बगैर मास्क के महिला संग फोटो खिंचवाई, भरना होगा 2.57 लाख जुर्माना 

कई यूरोपीय देशों ने सुरक्षा जोखिमों का हवाला देते हुए ISIS में शामिल होने के लिए देश छोड़ने वाले इन नागरिकों को देश वापस बुलाने में अनिच्छा दिखाई है. उदाहरण के लिए ब्रिटेन ने अनाथ बच्चों की वापसी का आयोजन बहुत कम संख्या में किया. ब्रिटेन सरकार ने वयस्क नागरिकों की नागरिकता भी रद्द कर दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज