लाइव टीवी

जानिए 'जुन्को ताबेई' के बारे में, जिनके जन्मदिन पर Google ने बनाया Doodle

News18Hindi
Updated: September 22, 2019, 9:52 AM IST
जानिए 'जुन्को ताबेई' के बारे में, जिनके जन्मदिन पर Google ने बनाया Doodle
'जुन्को ताबेई' 16 मई, 1975 को वो माउंट एवरेस्ट पर पहुंची थीं.

दो बच्चों की मां जन्को ताबेई (Junko Tabei) ने 1969 में इतिहास रचा था, जब उन्होंने जापान के पहले लेडीज क्लाइंबिंग क्लब (Ladies Climbing Club) की स्थापना की थी. 16 मई, 1975 को वो माउंट एवरेस्ट पर पहुंचने वाली पहली महिला बनीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2019, 9:52 AM IST
  • Share this:
माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) के शिखर पर पहुंचने वाली पहली महिला जन्को ताबेई (Junko Tabei) के 80वें जन्मदिन को आज ( 22 सितंबर)  गूगल (Google) ने डूडल बनाकर मनाया है. जापानी पर्वतारोही जुन्को ताबेई सभी महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों पर पहुंचने वाली पहली महिला थीं. ताबेई 76 अलग-अलग देशों में पर्वतों पर पहुंचने वाली एकमात्र महिला बनी थीं, बीमारी से जूझते हुए भी उन्होंने चढ़ाई जारी रखी. लोगों को उनकी सलाह थी, "हार मत मानो... अपनी खोज जारी रखो!"

1939 को फुकुशिमा प्रांत में हुआ था जन्म
1939 में जन्मी जन्को ताबेई जापान के फुकुशिमा प्रांत के एक छोटे से शहर मिहारू में पली पढ़ीं. ये माउंट नासु की एक स्कूल यात्रा थी, जिसने उन्हें कम उम्र में ही चढ़ाई करने के रोमांच से परिचित कराया. माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले 36वें इंसान और पहली महिला के तौर पर याद किए जाने पर ताबेई ने कहा था, "मैंने एवरेस्ट पर चढ़ाई पहली महिला बनने का इरादे से नहीं की थी. ये मैंने अपने जूनून के लिए की था."

'जुन्को ताबेई' के जन्मदिन पर आज Google का Doodle.


हालांकि, दो बच्चों की मां ने 1969 में इतिहास रचा था, जब उन्होंने जापान के पहले लेडीज क्लाइंबिंग क्लब की स्थापना की थी. इस क्लब ने उस पारंपरिक धारणा को बदला, जिसमें महिलाओं को घर पर रहने और घर की सफाई करने तक ही महदूद किया गया था.

16 मई, 1975 को वो माउंट एवरेस्ट पर पहुंची थीं
एवरेस्ट अभियान की शुरुआत उन्होंने 1975 के वसंत में 15 पर्वतारोहियों और 6 शेरपाओं के साथ की थी. 9,000 फीट (2,743.2 मीटर) की ऊंचाई पर, उनके शिविर को हिमस्खलन ने बर्बाद कर दिया था. 3 दिनों तक संघर्ष के बाद ताबेई की चढ़ाई जारी रही. 16 मई, 1975 को शिखर पर पहुंच गई, वो भी केवल शेरपा आंग टीशेरिंग के साथ.
Loading...

उन्हें अपनी इस उपलब्धि पर जापान के क्राउन प्रिंस और राजकुमारी से बधाई मिली थी. उन्होंने उस पल को याद करते हुए एक बार बताया था, "मुझे घर पर आने में दो महीने लग गए थे." आगे उन्होंने कहा. "मेरी तीन साल की बेटी उन सभी मीडिया के कैमरों से डर गई थी."

यह भी पढ़ें- 

पाकिस्तान के पीएम इमरान अपनी बेगम बुशरा के साथ उमराह करने मक्का पहुंचे
अस्‍पताल में इंग्‍लैंड के प्रधानमंत्री को बीमार बच्‍ची के पिता ने लगाई फटकार
पाकिस्तान में 12 साल के लड़के का यौन उत्पीड़न करने वाला मौलवी गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 22, 2019, 9:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...