गूगल देगा ऑस्ट्रेलियाई मीडिया संस्थानों को न्यूज के लिए पैसा, पहले कर रहा था आनाकानी

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

गूगल ने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के मीडिया संस्थानों को न्यूज के बदले पैसे देने पर हामी भर दी है. गूगल (Google) ने पहले ऑस्ट्रेलियाई सरकार के मीडिया संस्थानों को भुगतान करने को लेकर बनाए गए कानून का विरोध किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 7:09 PM IST
  • Share this:
केनबरा. गूगल (Google) ने ऑस्ट्रेलिया के केनबरा टाइम्स सहित सात मीडिया संस्थानों के साथ डील कर न्यूज के लिए पैसे देने पर सहमति जताई है. अमेरिका की दिग्‍गज टेक कंपनी ने शुक्रवार को न्यूज शोकेस नाम से एक प्लेटफार्म लॉन्च किया है. इसमें समाचारों के लिए भुगतान किया गया है. दरअसल, गूगल ने पहले ऑस्ट्रेलियाई सरकार के मीडिया संस्थानों को भुगतान करने को लेकर बनाए गए कानून का विरोध किया था. न्यूज शोकेस को गूगल ने पिछले साल जून में ब्राजील और जर्मनी में पहले ही रोल ऑउट कर दिया था. लेकिन गूगल ने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के मीडिया संगठनों को अनिवार्य भुगतान की शर्तों को देख इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया था. ऑस्ट्रेलिया ने ऐसा ही आदेश फेसबुक को भी दिया है. ऑनलाइन विज्ञापन बाजार में गूगल की हिस्सेदारी 53 प्रतिशत और फेसबुक की 23 प्रतिशत है. इस कानून का पालन नहीं करने पर दोनों ही कंपनियों पर जुर्माना लगाने का भी प्रावधान है.

गूगल ने कुछ दिनों पहले ऑ‍स्‍ट्रेलिया को धमकी दी थी कि अगर उसे न्‍यूज के लिए स्थानीय पब्लिशर्स को पैसा देने के लिए बाध्‍य किया गया तो वह अपने सर्च इंजन को बंद कर देगा. उधर, ऑस्‍ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्‍कॉट मॉरिशन ने कहा था कि वह धमकियों पर जवाब नहीं देते हैं. जिसके बाद गूगल को यह स्पष्ट संकेत चला गया था कि ऑस्ट्रेलियाई सरकार किसी भी कीमत पर इस कानून से पीछे नहीं हटेगी.

ये भी पढ़ें: म्यांमार तख्तापलट: UN प्रमुख ने कहा- इसे विफल करने अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मदद लेंगे

संसदीय समिति के पास विचाराधीन है कानून
ऑस्ट्रेलिया में मीडिया बार्गेनिंग कोड के नाम से बनाने वाला यह कानून अभी संसदीय समिति के पास विचाराधीन है. व्यापक चर्चा के बाद इस बिल पर संसद में वोटिंग भी होगी. ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने इस बिल को पेश करते समय दावा किया था कि यह बहुत बड़ा सुधार होगा. ऑस्ट्रेलिया में गूगल के न्यूज शोकेस को लाइव कर दिया गया है. इसका उपयोग करने के लिए गूगल अब उन मीडिया संस्थानों को भुगतान करेगा, जिसके साथ उसने डील की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज