Home /News /world /

gotabaya rajapaksa waiting to get green card to settle in america crs

US में बसने की तैयारी में श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति, आर्थिक संकट के बीच देश छोड़ भागे थे गोटबाया राजपक्षे

गोटबाया राजपक्षे 2019 में श्रीलंका के राष्ट्रपति बने थे. (फाइल फोटो)

गोटबाया राजपक्षे 2019 में श्रीलंका के राष्ट्रपति बने थे. (फाइल फोटो)

Sri Lanka Former President: श्रीलंकाई अखबार डेली मिरर ने उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से दावा किया कि अमेरिका में राजपक्षे के वकीलों ने ग्रीन कार्ड हासिल करने के लिए पिछले महीने ही प्रकिया शुरू कर दी थी. अपनी पत्नी लोमा राजपक्षे के अमेरिकी नागरिक होने के चलते पूर्व राष्ट्रपति यह आवेदन करने के लिए योग्य हैं. 

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

पत्नी-बेटे के साथ बसने के लिए ‘यूएस ग्रीन कार्ड’ मिलने का इंतजार कर रहे हैं
राजपक्षे पत्नी के अमेरिकी नागरिक होने के चलते पूर्व राष्ट्रपति यह आवेदन करने के लिए योग्य
14 जुलाई को गोटाबाया राजपक्षे ने श्रीलंका के राष्ट्रपति के पद से दिया था इस्तीफा

कोलंबो: श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे अमेरिका लौटने और वहां अपनी पत्नी तथा बेटे के साथ बसने के लिए ‘यूएस ग्रीन कार्ड’ मिलने का इंतजार कर रहे हैं. राजपक्षे अपने इस्तीफे की मांग को लेकर श्रीलंका में व्यापक स्तर पर हुए सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बीच पिछले महीने देश छोड़ कर भाग गये थे. श्रीलंकाई अखबार डेली मिरर ने उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से दावा किया कि अमेरिका में राजपक्षे के वकीलों ने ग्रीन कार्ड हासिल करने के लिए पिछले महीने ही प्रकिया शुरू कर दी थी. अपनी पत्नी लोमा राजपक्षे के अमेरिकी नागरिक होने के चलते पूर्व राष्ट्रपति यह आवेदन करने के लिए योग्य हैं.

राजपक्षे (73) ने 2019 में राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए अपनी अमेरिकी नागरिकता त्याग दी थी. राजपक्षे ने श्रीलंकाई थल सेना से समय पूर्व सेवानिवृत्ति ले ली और सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में चले गए. इसके बाद वह 1998 में अमेरिका प्रवास कर गए थे। वह 2005 में श्रीलंका लौटे थे. खबर के मुताबिक, पूर्व राष्ट्रपति अभी बैंकाक के एक होटल में अप नी पत्नी के साथ ठहरे हुए हैं और वह नवंबर तक थाईलैंड में रहने की अपनी शुरूआती योजना रद्द करते हुए 25 अगस्त को श्रीलंका लौटने वाले हैं. बैंकाक में अधिकारियों ने सुरक्षा कारणों को लेकर राजपक्षे से होटल के अंदर ही रहने को कहा है.

बता दें कि आर्थिक संकट से घिरे श्रीलंका के लोगों ने 31 मार्च को सड़कों पर उतरकर पूर्व राष्ट्रपति के निजी आवास को घेर लिया था. 2 अप्रैल को प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवेश द्वार पर कब्जा कर लिया और 9 जुलाई को कोलंबो में भारी सुरक्षा उपस्थिति के बावजूद, प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति के आधिकारिक घर और उनके कार्यालय में पहुंच गए. इसके बाद 14 जुलाई को गोटाबाया राजपक्षे ने राष्ट्रपति के पद से इस्तीफा दे दिया.

Tags: Economic crisis, Sri lanka

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर