अपना शहर चुनें

States

Guinness World Records: इवाओ सबसे लंबे समय तक फांसी का इंतजार करने वाला शख्स बना

इवाओ हाकमाडा करीब पांच दशक से मौत की सजा का इंतजार कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
इवाओ हाकमाडा करीब पांच दशक से मौत की सजा का इंतजार कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Longest Waiting to be Hanged in Japan: जापान में हत्या के आरोपी 84 साल के इवाओ हाकमाडा (Iwao Hakamada) का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness World Records) में आ गया है. वे सबसे लंबे समय तक मौत की सजा का इन्तजार करने वाले व्यक्ति हैं. लगभग आधी सदी तक मौत की सजा का इंतजार करते इवाओ हाकमाडा 84 साल के हो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2020, 3:02 PM IST
  • Share this:
टोक्यो. जापान (Japan) में हत्या के आरोपी 84 साल के इवाओ हाकमाडा का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness World Records) में आ गया है. वे सबसे लंबे समय तक मौत की सजा का इंतजार (Death row awaiting) करने वाले व्यक्ति हैं. लगभग आधी सदी तक मौत की सजा का इंतजार करते इवाओ हाकमाडा (Iwao Hakamada) 84 साल के हो चुके हैं. उसे 1966 में हिरासत में लिया गया और करीब 48 साल बाद उसे 2014 में टोक्यो हिरासत से बाहर निकाला गया.

बॉस, उसकी पत्नी और बच्चों को मौत के घाट उतारा

पूर्व पेशेवर मुक्केबाज इवाओ हाकमाडा को 1966 में डकैती, आगजनी और उनके बॉस, बॉस की पत्नी और उनके दो बच्चों की हत्या का आरोप लगाया गया था. मध्य जापान के शिज़ूओका में उनके घर में इन सभी की चाक़ू मारकर हत्या की गई थी. मुकदमे की शुरूआत में इवाओ हाकमाडा ने सभी आरोपों को स्वीकार कर लिया था लेकिन सुनवाई के दौरान खुद पर लगे आरोपों से मुकरते हुए उसने पुलिस पर ही आरोप लगा दिया कि पुलिस ने उसके खिलाफ सबूतों को गढ़ा और उसे मारपीट कर धमकी देकर उसे हत्या और डकैती और आगजनी की घटना को कबूल करने के लिए मजबूर किया. जज ने उसे मौत की सजा सुनाई.



पुनर्विचार का 6 साल पहले मिला था आदेश
वर्ष 2014 में इस मामले में एक बड़ा उलटफेर हुआ और शिज़ूओका जिला न्यायालय ने इस मामले में एक पुनर्विचार का आदेश दिया और इवाओ हाकमाडा को उसकी उम्र और नाजुक मानसिक स्थिति के चलते रिहा कर दिया. लेकिन चार साल बाद टोक्यो उच्च न्यायालय ने एक पुनर्विचार (retrial) याचिका के अनुरोध को रद्द कर दिया.

आरोपी ने सुप्रीम कोर्ट में की अपील

हाकमाडा की टीम ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की. हाकमाडा के वकील किओमी सानुनागो ने गुरूवार को कहा कि हमें डर था कि हाकमाडा को दुबारा गिरफ्तार कर मृत्युदंड दे दिया जाएगा. लेकिन अब पुनर्विचार की उम्मीद के साथ यह पता चल गया है कि वह सुरक्षित है. हाकमाडा का मामला फिर से विचार-विमर्श के लिए टोक्यो उच्च न्यायालय में वापस जाएगा हालाँकि पुनर्विचार की अभी भी कोई गारंटी नहीं है. हाकमाडा की बहन और उसके भाई ने पुलिस पर हाकमाडा को बंधक बनाने और जबरन हत्या कबूल करवाने का आरोप लगाया है. अमेरिका में मृत्युदंड की तारीख पहले से तय होती है जबकि अमेरिका की तुलना में जापान में मौत की सजा वाले कैदियों को मृत्युदंड गुप्त रूप से दिया जाता है.

ये भी पढ़ें: डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में हार का ले रहे हैं बदला, बेरोजगारों से जुड़े राहत बिल पर नहीं किया साइन

ऑस्ट्रेलिया: दो युवती के हत्यारे को 40 साल की सजा, जज ने कहा-अब जेल में मरो

विश्व जेल संक्षिप्त वेबसाइट के अनुसार अन्य विकसित देशों की तुलना में जापान बहुत कम लोगों को जेल में डालता है. जापान में यह आंकड़ा 1 लाख लोगों में मात्र 39 है जबकि अमेरिका में 655 और स्पेन में 124 है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज