बलूचिस्तान इस्लाम की सरजमीं, मोदी को क्या तकलीफ?: हाफिज

News18India.com
Updated: December 22, 2016, 12:31 PM IST
बलूचिस्तान इस्लाम की सरजमीं, मोदी को क्या तकलीफ?: हाफिज
बलूचिस्तान पहुंचे हाफिज ने कहा कि जो मोहब्बत मुझे बलूचिस्तान में मिली, कभी पाकिस्तान में नहीं मिली। बलूचिस्तान के मसले बहुत ज्यादा हैं, पाकिस्तान के मसले बहुत ज्यादा हैं
News18India.com
Updated: December 22, 2016, 12:31 PM IST
इस्लामाबाद। आतंकी हाफिज सईद इस कदर डरा हुआ है कि हर समय उसकी ज़ुबान पर भारत का नाम रहता है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह के पाकिस्तान के टुकड़े वाले बयान से इस बार वो इस कदर बौखलाया है कि अब उसने बलूचिस्तान के हालात के लिए भारत को जिम्मेदार बताया है। इतना ही नहीं उसने आरोप लगाया कि पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका और भारत ने अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किया है। हाफिज सईद ने यह बातें बलूचिस्तान की अपनी रैली में कही।

बलूचिस्तान पहुंचे हाफिज ने कहा कि जो मोहब्बत मुझे बलूचिस्तान में मिली, कभी पाकिस्तान में नहीं मिली। बलूचिस्तान के मसले बहुत ज्यादा हैं, पाकिस्तान के मसले बहुत ज्यादा हैं। अफगानिस्तान के मसले बेपनाह हैं। अमेरिका में ये फसाद और बढ़ने वाला है। युनाईटेड नेशन दुनिया को अमन देने में नाकाम हो चुकी है।

मेरे बलूचिस्तान आने से इंडिया परेशान

हाफिज ने कहा कि आज इंडिया मेरे ब्लूचिस्तान आने से बहुत परेशान है। वो बहुत रो रहे हैं। क्या परेशानी है तुम्हें? ब्लूचिस्तान हमारा है, मैं ब्लूचिस्तान का हूं। मोदी को क्यों तकलीफ है? राजनाथ को क्यों तकलीफ है? इंडिया के चैनल्स को क्यों तकलीफ है? सारे चैनल्स यही बताने में लगे हुए हैं कि हाफिज सईद ब्लूचिस्तान पहुंच गया।

इस्लाम यहीं से दाखिल हुआ

जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज ने कहा कि परेशानी ये है कि ये ब्लूचिस्तान वो सरजमीं है जहां से हिंद के अंदर इस्लाम दाखिल हुआ था। आज हम यहां मौजूद हैं। आज इंडिया को क्या तकलीफ है वो देख रहे हैं। एनएसए पर हाफिज ने कहा कि अजीत डोवाल आज कह रहा है कि हमने पाकिस्तान के बाद ब्लूचिस्तान को निशाना बनाया है। उन्होंने अफगानिस्तान में बैठकर अमेरिका के सहारे ब्लूचिस्तान के लिए जो मंसूबे बनाये हैं वो हम समझ रहे हैं। वो मंसूबे अब खत्म होने वाले हैं। इतिहास फिर दोहराने वाला है।

अफगानिस्तान अफगानियों का है

हाफिज ने कहा कि अमेरिका अफगानिस्तान में आया और फिर इंडिया को अफगानिस्तान में बुलाया। इन्होंने पाकिस्तान और ब्लूचिस्तान को तबाह करने के लिए 36 सेंटर बनाए। आज इंडिया को मंसूबे तार-तार होते दिखाई दे रहे हैं। अफगानिस्तान अफगानियों का है। निकल जाओ यहां से। अमेरिका भी और तुम भी। हम तुम्हें वर्ल्ड पावर नहीं मानते हैं। हाफिज ने चीन की तरफदारी करने में भूल नहीं की। उसने कहा कि चीन ने हमेशा पाकिस्तान से वफादारी की है उसने कभी पाकिस्तान का खून नहीं बहाया।
First published: December 22, 2016
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर