लाइव टीवी

इजरायल में नेतन्याहू का जादू पड़ा फीका! चुनाव में कांटे की टक्कर

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 10:45 AM IST
इजरायल में नेतन्याहू का जादू पड़ा फीका! चुनाव में कांटे की टक्कर
क्या होगा बेंजामिन नेतन्याहू का ?

इस साल अप्रैल के चुनावों में 120 सदस्यीय संसद में 61 सदस्यों का गठबंधन बनाने में बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) नाकाम रहे थे. लिहाजा देश में मध्यावधि चुनाव की जरूरत पड़ी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 10:45 AM IST
  • Share this:
यरूशलम. इजराइल (Israel) के नागरिकों ने देश में पांच महीने में दूसरी बार हुए आम चुनाव में वोट डाला. इस चुनाव को मौजूदा प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) के नेतृत्व पर एक जनमत संग्रह के तौर पर देखा जा रहा है. नेतन्याहू की चमक फीकी पड़ती जा रही है. इस साल अप्रैल के चुनावों में 120 सदस्यीय संसद में 61 सदस्यों का गठबंधन बनाने में नेतन्याहू नाकाम रहे थे. लिहाजा देश में मध्यावधि चुनाव की जरूरत पड़ी.

क्या कहते हैं एग्जिट पोल?
इजरायली टीवी चैनल के एग्जिट पोल की मानें तो इस बार बेंजामिन नेतन्याहू के लिए सत्ता में फिर से आना आसान नहीं होगा. अंतिम चुनाव सर्वेक्षण में लिकुड पार्टी और उसके मुख्य प्रतिद्वंद्वी ब्लू एंड व्हाइट पार्टी के बीच कांटे का मुकाबला बताया गया है. इन दोनों के अलावा 28 अन्य पार्टियां भी मैदान में हैं. नेतन्याहू की पार्टी लिकुड को 31 से 33 सीटें मिल सकती है. जबकि उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी ब्लू एंड व्हाइट पार्टी को 32 से34 सीटें मिल सकती है.

क्या खत्म हो रहा है जादू?

नेतन्याहू की आत्मकथा लिखने वाले अनशेल पफेफेर का मानना है कि उनका जादू अब खत्म होता जा रहा है. उन्होंने कहा, ''एग्जिट पोल में उनकी हार तय लग रही है. अब कोई करिश्मा ही उन्हें जिता सकता है. मेरा मानना है कि नेतन्याहू का जादू अब खत्म हो गया है''. उन पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे हैं. अगर वो इस बार सरकार नहीं बना पाते हैं तो फिर उन पर भ्रष्टाचार का मुकदमा चल सकता है. नेतन्याहू रिकॉर्ड 5वीं बार सत्ता में आने के लिए लड़ रहे हैं. उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप हैं और अगर उनकी जीत होती है तो उसका सीधा मतलब होगा कि कार्यकाल पूरा होने तक उनके खिलाफ मुकदमे नहीं चलाए जा सकेंगे.

गठबंधन के लिए कोई तैयार नहीं
नेतन्याहू के लिए किसी भी पार्टी के साथ तालमेल करना भी आसान नहीं होगा. लिबरमैन ने कहा कि वो नेतन्याहू की पार्टी के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे. गैंटज़ ने भी कहा है कि अगर नेतन्याहू के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले सही पाए जाते हैं तो फिर वो उनके साथ सरकार नहीं बनाएंगे.
Loading...

ये भी पढ़ें:

सावरकर अगर देश के PM रहे होते तो पाकिस्तान का जन्म ही नहीं होता: उद्धव ठाकरे
सरकार को झटका! ऑटो, बिस्कुट पर GST रेट घटाने का प्रस्ताव खारिज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 10:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...