श्रीलंका आतंकी हमला: मास्टरमाइंड की बहन बोली- उसने गलत लोगों से 'धर्म' को समझा

श्रीलंका आतंकी हमले के मास्टरमाइंड की बहन ने कहा कि 'वहाबी' लोगों ने उसके दिमाग में ज़हर भर दिया था.

News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 10:33 AM IST
श्रीलंका आतंकी हमला: मास्टरमाइंड की बहन बोली- उसने गलत लोगों से 'धर्म' को समझा
श्रीलंका आतंकी हमला (फ़ाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: April 28, 2019, 10:33 AM IST
ईस्टर रविवार के दिन श्रीलंका के कोलंबो में हुए आतंकी हमले के मास्टर माइंड ज़ेहरान हाशिम की बहन मधानिया का कहना है कि उसके भाई ने गलत लोगों से 'धर्म' का मतलब समझा था. बहन ने कहा, 'वहाबी लोगों ने उसके दिमाग में ज़हर भर दिया था. उसने गलत लोगों से हदीश को जाना, इस कारण उसने खुदा को भी खो दिया. मुझे खुशी है कि वह अब इस दुनिया में नहीं रहा.' इस आतंकी हमले में तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई, जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हुए.

ये भी पढ़ें: श्रीलंका धमाका : कम से कम दो फिदायीन ने किया था भारत का दौरा

मेरा भाई जहर उगल रहा था...
मधानिया के मुताबिक उसने साल 2017 से ही ज़ेहरान से बातचीत बंद कर दी थी. बहन के मुताबिक, 'वो लगातार अपने भाषणों में ज़हरीली बातें करता था. अपने जवानी के दिनों से ही वो बढ़िया वक्ता था और उसकी बातें सुनने के लिए भीड़ इकठ्ठा हुआ करती थी. वो अक्सर इस्लाम से जुड़े प्रवचन देता था. भाषण तक ठीक था, लेकिन जब उसने सरकार के खिलाफ बोलना शुरू किया तो हमने उससे रिश्ते खत्म कर लिए थे. वह लगातार सरकार, राष्ट्रीय झंडे और धर्मों के खिलाफ भाषण देता था, जो मुझे पसंद नहीं था. उसने हमारे परिवार को बर्बाद कर दिया है.'

ये भी पढ़ें- कोलंबो आतंकी हमला: केरल में एक्टिव IS के स्लीपर सेल पर भी शक

मधानिया के मुताबिक ज़ेहरान ने इस्लाम की गलत व्याख्या करनी शुरू कर दी थी. वो लगातार इस्लाम को जरिया बनाकर दूसरे धर्मों के खिलाफ ज़हर उगलता था. यहां तक कि इस्लाम के ही हिस्से सूफीवाद को भी उसने 'अफीम' कहना शुरू कर दिया था. मेरे पति उसकी इन हरक़तों की वजह से ही उससे दूर रहते थे और हमें भी दूर रहने की हिदायत दी थी.

ये भी पढ़ें: ईस्टर धमाके : श्रीलंका ने जारी की इन छः संदिग्धों की तस्वीर
एक और आत्मघाती विस्फोट
बता दें कि श्रीलंका के कालमुनाई शहर में ज़ेहरान का परिवार एक सेफ हाउस में रह रहा था. अंग्रेजी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को हुए एक आत्मघाती बम धमाके में 15 लोगों ने अपनी जान दे दी. मारे गए लोगों में छह बच्चे भी शामिल हैं. मधानिया और उसका पति शरीफ नियाज रविवार को शवों की पहचान करने के लिए आमापारा के अस्पताल पहुंचे थे.

ये भी पढ़ें: कोलंबो आतंकी हमला: 9 पाकिस्तानी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया

मधानिया ने लाश देखने से इनकार किया
रिपोर्ट के मुताबिक मधानिया ने लाशों को देखने से इनकार कर दिया और कहा कि वो तस्वीरों के जरिए पहचान करना चाहती है. इसके बाद फोटो के जरिए पहचान कराई गई, साथ ही पुलिस ने साफ कर दिया है कि अब उन्हें और नहीं बुलाया जाएगा. ज़ेहरान ने भी 21 अप्रैल को शांगरी-ला होटल के एक कमरे में खुद को बम से उड़ा लिया था. हमलों में शामिल ज़ेहरान के भाई मोहम्मद ज़ेयिन हाशिम की तलाश जारी है, हालांकि ऐसा भी शक जताया जा रहा है कि उसकी भी मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें: ड्रग्स के धंधे की कमाई से पाकिस्तान ने फंड किया श्रीलंका आतंकी हमला

यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं कक्षा के नतीजे देखने के लिए यहां क्लिक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...