लाइव टीवी

PAK Lockdown : महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा में बढ़ोतरी, हेल्‍प लाइन शुरू की गई

News18Hindi
Updated: April 2, 2020, 5:46 PM IST
PAK Lockdown :  महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा में बढ़ोतरी, हेल्‍प लाइन शुरू की गई
हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए यह हेल्‍पलाइन सुबह 10 से रात 10 बजे तक काम कर रही है.

पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता माहिन गनी ने कहा है कि इस कठिन समय में पाकिस्तान में बच्चों और महिलाओं के साथ हिंसा की घटनाओं में वृद्धि हुई है.

  • Share this:
इस्‍लामाबाद. ऐसे समय में जब कोरोना वायरस (Corona virus) की वजह से आधी से ज्‍यादा दुनिया लॉकडाउन में है, ऐसे में दुनिया भर से महिलाओं के साथ हिंसा के मामले सामने आ रहे हैं. पाकिस्तान (Pakistan) में भी इस तरह के मामलों में इजाफे के मद्देनजर मानवाधिकार मंत्रालय ने एक हेल्पलाइन की शुरुआत की है. इस पर पहले ही दिन 34 शिकायतें दर्ज कराई गई हैं.

मंत्रालय की एक प्रवक्ता जिल हुमा ने 'उर्दू न्‍यूज' को बताया कि 'उनकी ओर से पहले से एक हेल्पलाइन मौजूद थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से घरेलू हिंसा के मामले बढ़ने के मद्देनजर एक नई हेल्पलाइन शुरू की गई है.' उन्होंने आगे बताया कि 'अब तक इस हेल्‍प लाइन पर करीब 34 फोन कॉल आई हैं. इनमें से 90 फीसदी कॉल में लोगों ने अस्‍पतालों के बारे में जानकारी चाही.' उनका कहना था कि घरेलू हिंसा की शिकायत की स्थिति मे पीड़ित को बताया जाएगा कि वह अपनी शिकायत कैसे दर्ज करवाए. अगर पुलिस स्टेशन में उसकी शिकायत दर्ज नहीं की जाती है, तो संस्थान फौरन एसएसपी को शिकायत दर्ज करने को कहेगा.'

शिकातय दर्ज न हुई तो एसएसपी को कारण बताना होगा
उन्‍होंने आगे बताया कि 'अगर एसएसपी शिकायत दर्ज नहीं करते हैं, तो उन्हें लिखित में इसकी वजह बतानी होगी. आम दिनों में हेल्पलाइन दिन में 16 घंटे काम करती थी. हालांकि मौजूदा स्थिति में यह सुबह 10 से रात 10 बजे तक काम कर रही है. वहीं घरेलू हिंसा के खिलाफ काम करने वाली वकील फातिमा बट का कहना है कि इस तरह की हेल्‍पलाइन पहले से मौजूद हैं, लेकिन यह उस वक्‍त कारआमद साबित होंगी जब सरकार इस बात को विश्‍वसनीय बनाएगी कि लोगों की समस्‍याओं को हल किया जाएगा.'



'इस तरह की हेल्पलाइन का कोई फायदा नहीं'


वह कहती हैं कि 'इस तरह की हेल्पलाइन का फायदा इसलिए नहीं है, क्‍योंकि मंत्रालय किसी भी शिकायत को खुद सुलझाने के बजाय प्रभावित व्‍यक्ति को खुद संबंधित एजेंसियों से संपर्क करने के लिए कहता है.' उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की वजह से पूरी दुनिया में घरेलू हिंसा में 60 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. ऐसे में महिलाओं को खुद कदत उठाने चाहिए और पुलिस स्टेशन जाकर शिकायत दर्ज करानी चाहिए.' वहीं पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता माहिन गनी ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर कहा है कि इस कठिन समय में पाकिस्तान में बच्चों और महिलाओं के साथ हिंसा की घटनाओं में वृद्धि हुई है.


ये भी पढ़ें - कोरोना वायरस : पाकिस्‍तान में नकली टेस्‍ट किटों की भरमार, मंत्री ने चेताया


              कोरोना वायरस : पाकिस्‍तान में डॉक्‍टरों को सम्‍मान मिला, पर नहीं मिल रहा वेतन

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 2, 2020, 2:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading