'हाई ब्लड शुगर से corona मरीजों की मौत होने का खतरा अधिक हो सकता है'

'हाई ब्लड शुगर से corona मरीजों की मौत होने का खतरा अधिक हो सकता है'
कॉन्सेप्ट इमेज.

'डायबिटोलॉजिया' पत्रिका में प्रकाशित एक नये अध्ययन में शोधकर्ताओं ने चीन के दो अस्पतालों में भर्ती किये जाने पर एफबीजी और पहले से मधुमेह का निदान किए बिना Covdi-19 रोगियों की 28-दिन की मृत्यु दर के बीच के संबंधों की जांच की.

  • Share this:
बीजिंग. एक अध्ययन में कहा गया है कि रक्त शर्करा का स्तर अधिक होने से कोविड-19 (Covid-19) मरीजों की मौत होने का खतरा बढ़ सकता है. इस नये अध्ययन के अनुसार कोविड-19 के जिन मरीजों में मधुमेह (Sugar) के पिछले निदान के बिना रक्त शर्करा का स्तर बढ़ा है, उनकी मौत होने का खतरा अधिक हो सकता है और उनमें संक्रामक बीमारी से अन्य गंभीर जटिलताओं का भी खतरा बढ़ सकता है. वैज्ञानिकों के अनुसार, पहले के अध्ययनों में बताया गया था कि कोविड-19 रोगियों में मृत्यु दर के बढ़ते खतरे से उच्च रक्त शर्करा जुड़ी हुई है. हालांकि उन्होंने कहा कि अस्पताल में भर्ती के दौरान 'फास्टिंग ब्लड ग्लूकोज' (एफबीजी) स्तर और कोविड-19 रोगियों के क्लीनिकल निष्कर्षों के बीच सीधा संबंध अच्छी तरह से स्थापित नहीं किया गया है.

'डायबिटोलॉजिया' पत्रिका में प्रकाशित एक नये अध्ययन में शोधकर्ताओं ने चीन के दो अस्पतालों में भर्ती किये जाने पर एफबीजी और पहले से मधुमेह का निदान किए बिना कोविड-19 रोगियों की 28-दिन की मृत्यु दर के बीच के संबंधों की जांच की. अध्ययन में कहा गया है, 'कोविड-19 के सभी मरीजों की रक्त शर्करा की जांच करने की सिफारिश की जानी चाहिए, भले ही वे पहले से मधुमेह से पीड़ित न हो, क्योंकि कोविड-19 से संक्रमित ज्यादातर मरीजों को ग्लूकोज मेटाबाोलिक संबंधी विकार होने की आशंका रहती है.' अध्ययन में कोविड-19 के कुल 605 मरीजों को शामिल किया गया जिनमें से 114 की अस्पताल में मौत हो गई थी. अध्ययन के अनुसार इसमें 322 पुरुष शामिल थे. वैज्ञानिकों के अनुसार, कोविड-19 रोगी उच्च रक्त शर्करा से पीड़ित हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें: जान बचाकर हांगकांग से अमेरिका पहुंची वायरोलॉजिस्ट बोली- चीन ने छिपाई corona की जानकारी



कोरोना से दुनिया को हुआ इतना नुकसान
वहीं, एक ताजा शोध से खुलासा हुआ है कि कोरोना महामारी और उसके प्रसार को रोकने में दुनिया को करीब 3.8 ट्रिल्‍यन डॉलर खर्च करना पड़ा है. यही नहीं कोरोना महामारी की वजह से करीब 14 करोड़ 70 लाख लोगों की नौकरियां चली गई हैं. सिडनी विश्‍वविद्यालय के व‍िशेषज्ञों ने यह विस्‍तृत आंकड़ा जारी किया है. शोध में कहा गया है कि कोरोना वायरस से सबसे ज्‍यादा ट्रेवल इंडस्‍ट्री को नुकसान पहुंचा है. इसकी वजह यह रही कि कोरोना की वजह से उड़ानों को रद्द किया गया और दुनियाभर के देशों खासतौर पर एशिया, यूरोप और अमेरिका ने अपने दरवाजे पर्यटकों के लिए बंद कर द‍िए. वास्‍तव में दुनियाभर में उड़ानों के रद्द होने से आर्थिक संकट पैदा हुआ और इससे व्‍यापार, पर्यटन, ऊर्जा और वित्‍तीय सेक्‍टर में बड़ा उथल-पुथल मच गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading