घबराए इमरान बोले- पड़ोसी देशों के लिए खतरा है भारत, 'नाजी' बन गई है मोदी सरकार

इमरान खान ने दी पाकिस्तानी टीम को इंग्लैंड दौरे की इजाजत

इमरान खान ने दी पाकिस्तानी टीम को इंग्लैंड दौरे की इजाजत

इमरान (Imran Khan) बार-बार विश्व समुदाय से अपील कर रहे हैं कि भारत आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई का बहाना बनाकर सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) या एयर स्ट्राइक (Air Strike) जैसा कदम उठा सकता है. हालांकि विश्व मंचों से समर्थन न मिलता देख अब इमरान ने भारत के पड़ोसी देशों को बरगलाने की कोशिश की है.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से जूझ रहे देश पर ध्यान देने की जगह भारत सरकार की आलोचना में ही व्यस्त हैं. इमरान ने एक बार फिर ट्वीट कर मोदी सरकार (Modi Govt) की नीतियों और पड़ोसी देशों से उसके रिश्तों पर विवादित बयान दिया है. इमरान बार-बार विश्व समुदाय से अपील कर रहे हैं कि भारत आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई का बहाना बनाकर सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) या एयर स्ट्राइक (Air Strike) जैसा कदम उठा सकता है. हालांकि विश्व मंचों से समर्थन न मिलता देख अब इमरान ने भारत के पड़ोसी देशों को बरगलाने की कोशिश की है.



इमरान ने ट्वीट कर कहा- 'हिंदू कट्टरपंथी मोदी सरकार अपनी विस्तारवादी नीतियों को 'नाजी जर्मनी' की तरह लागू कर रही है, ये भारत के पड़ोसी देशों के लिए खतरा बनती जा रही है. बांग्लादेश को सिटिजनशिप एक्ट, चीन और नेपाल के साथ सीमा विवाद और पाकिस्तान के खिलाफ 'फर्जी' कार्रवाई इसका उदाहरण है.'



Youtube Video






 
इमरान सिर्फ इतने पर ही नहीं रुके उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा- 'आज़ाद कश्मीर (PoK) पर भारत का दावा और वहां हर दिन हस्तक्षेप बढ़ाने की इसकी नीति चौथे जिनेवा कन्वेंशन का उल्लंघन है और युद्ध अपराध की श्रेणी में आता है. भारत की फासिस्ट मोदी सरकार वहां रह रहे अल्पसंख्यकों के लिए खतरा है और उन्हें सेकेंड क्लास सिटीजन बनाकर रखना चाहती है, ये इस रीजन (दक्षिण एशिया) की शांति के लिए बड़ा खतरा है.' विदेश मंत्री शाह महमूद ने ट्वीट डिलीट कियापाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी लगातार भारत की कश्मीर नीति पर सवाल उठाते रहे हैं. कुरैशी और इमरान लगातार भारत में इस्लामोफ़ोबिया फैलने का आरोप लगा रहे हैं. हालांकि विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी के एक ट्वीट ने उनके खुद के लिए परेशानी खड़ी कर दीं और बाद में उन्हें उसे डिलीट ही करना पड़ा. अपने ट्वीट में उन्होंने भारत के पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए ये लिखा कि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र और इस्लामिक देशों के संगठन ओआईसी से बार बार अपील की है कि वो मोदी की द्रविड़ियन प्रभुत्व वाली विचारधारा की आलोचना करे, जिसमें इस्लामोफ़ोबिया और हिंसा के साथ-साथ क्षेत्रीय अस्थिरता भी लगातार जारी है. 





कुरैशी के इस ट्वीट पर अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक़्क़ानी ने लिखा, "ऐसा लगता है कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री या उनके लिए जो भी ट्वीट करता है, उसे भारत का इतिहास और जातिगत उत्पति के बारे में कोई जानकारी नहीं है. मुख्य रूप से आर्यन उत्तर भारतीय को द्रविड़ियन प्रभुता वाली विचारधारा कहना पाकिस्तान के लिए तुर्की ओरिजिन का दावा करने से भी ज़्यादा बुरा है." इसके बाद कुरैशी ट्रोल होने लगे और उन्होंने वह ट्वीट डिलीट कर एक नया ट्वीट किया.



 



ये भी पढ़ें:- 



डेनमार्क में प्रेमियों को क्यों दिखाने पड़ रहे हैं रोमांस के सबूत



सामने आई WHO और चीन की मिलीभगत, चीनी प्रेसिडेंट की पत्नी WHO में अहम पद पर



कश्मीर में पकड़ाया पाकिस्तानी जासूस कबूतर, जानिए कैसे कराई जाती है इनसे जासूसी



रिजर्व बैंक से तिगुना सोना है मंदिरों के पास, क्या कोरोना से निपटने के लिए काफी होगा इतना सोना?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज