अपना शहर चुनें

States

अमेरिका में आज से लोगों को कोरोना वैक्सीन मिलनी शुरू, जल्द मिलेगी दुकानों पर

अमेरिका में फाइजर वैक्सीन के इस्तेमाल को मिली मंजूरी.
अमेरिका में फाइजर वैक्सीन के इस्तेमाल को मिली मंजूरी.

US COVID-19 Vaccine Campaign: अमेरिका में आज से इमरजेंसी स्थितियों में मरीजों को कोरोना की वैक्सीन मिलनी शुरू हो जाएगी. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन विभाग (FDA) ने Pfizer की कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दे दी है और ये जल्दी ही दुकानों पर भी उपलब्ध हो जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2020, 4:45 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. ब्रिटेन (UK) और कनाडा (Canada) के बाद अमेरिका (US) में फ़ाइज़र (Pfizer vaccine) वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाज़त मिल गई है जिसके बाद अधिकारियों ने कहा है कि जनता को सोमवार से वैक्सीन मिलनी शुरू हो जाएगी. कोरोना वैक्सीन के डिस्ट्रीब्यूशन की देखरेख कर रहे जनरल गुस्ताव पर्ना का कहना है कि वैक्सीन की 30 लाख डोज़ की पहली खेप इस सप्ताह के अंत में सभी राज्यों में पहुंचाई जा रही है.

बता दें कि अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थिति बिगड़ती जा रही है। संक्रमण के बढ़ते मामलों की वजह से अस्पतालों में बेड कम पड़ गए हैं. कैलिफोर्निया में अब तक 10.4 लाख मामले मिल चुके हैं और 20 हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं. बीते दो हफ्तों में अस्पतालों के आईसीयू में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या 70% तक बढ़ी है. अब यहां के अस्पतालों में 10% बेड ही खाली रह गए हैं. कैलिफोर्निया के गर्वनर गेविन न्यूसम ने कहा है कि गैर जरूरी सर्जरी टालने पर विचार किया जा रहा है. ऐसा करने से अस्पतालों में इमरजेंसी मरीजों को बेड मिल सकेंगे.

FDA ने फाइजर वैक्सीन को बताया 'आशा की किरण'
शुक्रवार को इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाज़त देते हुए एफ़डीए ने कहा कि ये कदम महामारी के दौर में मील का पत्थर साबित होगा. ट्रंप सरकार की ओर से एफ़डीए पर वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाज़त को लेकर काफी दबाव था. एफ़डीए के प्रमुख स्टीफ़न हान ने बताया, "एफ़डीए ने इस कोविड वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाज़त दी है जो इस महामारी से निपटने में मील का पत्थर साबित होगा.' उन्होंने बताया कि एक खुली और पारदर्शी प्रक्रिया के ज़रिए ये सुनिश्चित किया गया है कि वैक्सीन एफ़डीए के मानकों के अनुकूल है.




दावा किया जा रहा है कि ये वैक्सीन कोविड-19 से 95 फ़ीसद सुरक्षा देती है और फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन विभाग (FDA) ने इसे सुरक्षित बताया है. 23 सदस्यों का पैनल इस निष्कर्ष पर पहुंचा है कि वैक्सीन के फ़ायदे इसके ख़तरों से कहीं ज़्यादा हैं. एफ़डीए का कहना है कि इमरजेंसी इस्तेमाल का मतलब पूरी इजाज़त नहीं है और पूर्ण अनुमोदन के लिए फाइज़र को अलग से अप्लाई करना पड़ेगा.शनिवार को अमेरिका में 3309 लोगों की कोरोना से मौत हुई. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक़ दुनिया में एक दिन में इतनी मौतें कहीं भी नहीं हुई हैं.

ब्रिटेन- कनाडा में वैक्सीनेशन शुरू
बता दें कि ब्रिटेन में इस वैक्सीन के टीकाकरण की मुहिम शुरू की जा चुकी है. अमेरिकी सरकार के वैक्सीनेशन अभियान के प्रमुख जनरल पर्ना ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि अगले 24 घंटे में वैक्सीन शिपिंग कंटेनर्स में पैक हो जाएंगी. उन्होंने कहा, "सोमवार को 145 जगहों पर वैक्सीन पहुंचने की उम्मीद है, मंगलवार तक 425 जगहों पर और बुधवार को और 66 जगहों पर वैक्सीन पहुंच जाएगी." उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते पहुंचने वाली वैक्सीन फाइज़र की शुरुआती डिलीवरी होगी और इससे 30 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा सकेगा.



जनरल पर्ना ने पत्रकारों से कहा कि वे 100 फ़ीसद आश्वस्त हैं कि कोविड-19 का हराने वाली वैक्सीन को सुरक्षित तय जगहों पर पहुंचाया जा सकेगा. लेकिन उन्होंने चेतावनी दी कि वैक्सीन के मामले में भले ही इस हफ्ते काफ़ी प्रगति हुई है लेकिन जब तक सभी अमेरिकियों को वैक्सीन ना पहुंच जाए तब तक काम ख़त्म नहीं हुआ है. फ़ाइज़र की कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन, कनाडा, बहरीन और सऊदी अरब में अप्रूवल मिल चुका है. इन्हीं देशों की तरह अमेरिका में भी वैक्सीन के लिए पहले हेल्थ वर्कर्स और केयर होम में रहने वालों को प्राथमिकता दी जाएगी. प्राथमिकता वाले समूह से अलग बाकी अमेरिकियों को जनवरी में वैक्सीन मिल सकेगी. माना जा रहा है कि अप्रैल तक वैक्सीन सभी के लिए सुनिश्चित हो सकेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज