पाकिस्तान में तोड़ा गया ऐतिहासिक गुरु नानक महल, चुरा ले गए खिड़कियां

ये महल लाहौर से सौ किलोमीटर दूर नारौवल शहर में है (फोटो सौ. डॉन )

ये महल लाहौर से सौ किलोमीटर दूर नारौवल शहर में है (फोटो सौ. डॉन )

बाबा गुरु नानक महल चार सौ साल पहले बनाया गया था. यहां लाखों की संख्या में भारत और विदेशों से सिख तीर्थ यात्री आते हैं.

  • Share this:
पाकिस्तान में ऐतिहासिक गुरु नानक महल के कुछ हिस्सों को शरारती तत्वों ने तोड़ दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महल में लगे काफी महंगे बताए जा रहे खिड़की और दरवाजे को तोड़ा गया, जिसे बाद में बेच दिया गया. गुरु नानक महल पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है.

क्या है मामला
पाकिस्तान के डॉन अखबार के मुताबिक ये महल चार मंजिला बिल्डिंग है जिसकी दीवारों पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक की तस्वीरें बनी है. बाबा गुरु नानक महल चार सौ साल पहले बनाया गया था. यहां लाखों की संख्या में भारत और विदेश से सिख तीर्थ यात्री आते हैं.

मुख्य तौर पर ये महल लाहौर से सौ किलोमीटर दूर नारौवल शहर में है. इसमें कुल मिलाकर 16 कमरे हैं और हर कमरे में तीन-तीन दरवाजें लगे हैं. इसके अलावा हर कमरे में कम से कम चार वेनिलैटर्स भी हैं.
नहीं पता कौन करता है देखभाल?



यहां महल के नजदीक एक गांव के रहने वाले मोहम्मद असलम ने बताया कि वो लोग इसे महलान कहते हैं. उन्होंने कहा, ''कुछ साल पहले यहां कनाडा से एक शिष्ठमंडल आया जिसमें एक महिला भी थी. वो सब यहां आकर काफी खुश हुए थे.''

डॉन के मुताबिक इस महल पर किसका मालिकाना हक है और इसकी देखभाल की जिम्मेदारी किसकी है इसको लेकर तस्वीर साफ नहीं.

करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण 

बता दें कि इन दिनों करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है. इसका मकसद है सिख श्रद्धालुओं के लिए गुरुनानक देव की पवित्र धरती तक पहुंच और आवाजाही आसान बनाना. भारत में इसका उद्घाटन 26 नवम्बर को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किया था.

ये भी पढ़ें:-

इस सांसद को लोग क्यों कहते हैं ओडिशा का 'मोदी'?

रायबरेली के नाम सोनिया गांधी की चिट्ठी: 'जो कुर्बानी देनी पड़ेगी, दूंगी'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज