लाइव टीवी

अमेरिका में अस्पताल ने रक्त चढ़ाकर कोराना वायरस के इलाज का प्रयोग शुरू किया

भाषा
Updated: March 29, 2020, 4:42 PM IST
अमेरिका में अस्पताल ने रक्त चढ़ाकर कोराना वायरस के इलाज का प्रयोग शुरू किया
कोरोना वायरस की वजह से अमेरिका में 33 हज़ार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं

कोरोना वायरस महामारी की वजह से संयुक्त राज्य अमेरिका में 2 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है जिसमें टेक्सास में 34 लोगों की मौत शामिल है.

  • Share this:
ह्यूस्टन. अमेरिका (America) के ह्यूस्टन के एक प्रमुख अस्पताल ने कोविड​​-19 (COVID-19) से ठीक हुए एक मरीज का रक्त इस बीमारी से गंभीर रूप से पीड़ित एक मरीज को चढ़ाया है और यह प्रायोगिक इलाज आजमाने वाला देश का ऐसा पहला अस्‍पताल बन गया है.

घातक कोरोना वायरस (Corona virus) से पीड़ित होने के बाद दो सप्ताह से अधिक समय तक अच्छी सेहत में रहे एक व्यक्ति ने ब्लड प्लाज्मा दान दिया है. इस व्यक्ति ने यह ब्लड प्लाज्मा ह्यूस्टन मेथोडिस्ट हॉस्पीटल में 'कोनवालेस्सेंट सीरम थेरेपी' के लिए दिया है. इलाज का यह तरीका 1918 के 'स्पैनिश फ्लू' महामारी के समय का है. मेथोडिस्ट्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के एक चिकित्सक वैज्ञानिक डा. एरिक सलाजार ने एक बयान में कहा, 'कोनवालेस्सेंट सीरम थेरेपी एक महत्वपूर्ण उपचार का तरीका हो सकता है, क्योंकि सहायक देखभाल के अलावा कई रोगियों को मुहैया कराने के लिए और कुछ बहुत कम है और चल रहे नैदानिक ​​परीक्षणों में थोड़ा समय लगेगा.'

हालात के मद्देनजर कोशिश करने के लिए बाध्य होना पड़ा
सालजार ने कहा, 'हमारे पास इतना समय नहीं है.' उपचार को सप्ताह के अंत में तेजी से इस्तेमाल में लिया गया, क्योंकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से संयुक्त राज्य अमेरिका में 2 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है जिसमें टेक्सास में 34 लोगों की मौत शामिल है. मेथोडिस्ट ने शुक्रवार को 250 मरीजों से ब्लड प्लाज्मा लेना शुरू किया जिनकी इस वायरस से पीड़ित होने की जानकारी जांच से सामने आई है. ह्यूस्टन मेथोडिस्ट के अध्यक्ष और सीईओ मार्क बूम ने कहा कि उन्हें कोशिश करने के लिए बाध्य होना पड़ा.



उन्होंने एक बयान में कहा, 'इस बीमारी के प्रकोप के दौरान इसके बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है. अगर कोनवालेस्सेंट सीरम थेरेपी से गंभीर रूप से बीमार किसी रोगी के जीवन को बचाने में मदद मिलती है तो हमारे द्वारा हमारे ब्लड बैंक, हमारे विशेषज्ञ संकाय और हमारे शैक्षणिक चिकित्सा के पूर्ण संसाधनों को इस्तेमाल में लेना अविश्वसनीय रूप से सार्थक और महत्वपूर्ण होगा.'



कोविड​​-19 से ठीक हुए किसी व्यक्ति के प्लाज्मा में एंटीबॉडी होते हैं जो प्रतिरोधक प्रणाली द्वारा वायरस पर
हमला करने के लिए बनाये जाते हैं. आशा है कि इस तरह के प्लाज्मा को एक रोगी में स्थानांतरित करने के बाद उसमें इस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी की शक्ति स्थानांतरित की जा सकेगी.

ये भी पढ़ें - कोरोना-US में मौत का आंकड़ा 2000 के पार, दुनिया में 30 हजार लोगों ने गंवाई जान

             PAK: अस्पताल में डॉक्‍टर ने की महिला के साथ शर्मनाक हरकत, वीडियो वायरल

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 29, 2020, 4:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading