ऐसे पकड़ा गया चीन में कोरोना वायरस का पहला मरीज, डॉक्टर रह गए थे हैरान

ऐसे पकड़ा गया चीन में कोरोना वायरस का पहला मरीज, डॉक्टर रह गए थे हैरान
प्रतीकात्मतक तस्वीर

चीन में कोरोना वायरस (Coronavirus) का पहला मरीज 17 नवंबर को मिला था. चीन की एक वेबसाइट के मुताबिक सरकारी दस्तावेज में उस मरीज का रिकॉर्ड दर्ज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 13, 2020, 9:34 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
चीन (China) को नोवल कोरोना वायरस कोविड-19 से संक्रमित पहले मरीज के बारे में जानकारी मिल गई है. सरकारी दस्तावेज में उस संक्रमित मरीज को लेकर जानकारी दी गई है, जिसे पहली बार कोरोना वायरस हुआ था. उस मरीज की जांच करने वाले डॉक्टर भी हैरान रह गए थे, क्योंकि उन्हें पता चल गया था कि ये नई तरह की बीमारी है.

चीन में कोरोना वायरस का पहला मरीज 17 नवंबर को मिला था. चीन की एक वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के मुताबिक सरकारी दस्तावेज में उस मरीज का रिकॉर्ड दर्ज है. चीनी प्रशासन ने ऐसे 266 संदिग्ध कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की पहचान की है, जिन्हें ये बीमारी पिछले साल लगी थी.

कोरोना वायरस को लेकर व्हिसल ब्लोअर्स का काम करने वाले कुछ लोगों से बातचीत की गई है. उन्होंने इंटरव्यू में बताया है कि दिसंबर के आखिर में जाकर चीन के डॉक्टर ये पता लगा पाए कि ये नई तरह की बीमारी है.



55 साल के एक शख्स को हुआ था पहला संक्रमण



चीन के डॉक्टर अब इस बात का पता लगा रहे हैं कि आखिर इतनी तेजी से ये बीमारी फैली कैसे? चीन के डॉक्टरों को पहली बार जनवरी में वुहान से इस बीमारी के फैलने के बारे में पता चला है. जनवरी के बाद ये बीमारी काफी तेजी से फैली. इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि बिना जांच वाले और ऐसे संक्रमित मरीजों जिनके रिकॉर्ड दर्ज नहीं है, उनसे नोवल कोरोना वायरस कोविड-19 कितनी तेजी से फैला.

चीन के सरकारी दस्तावेज के मुताबिक हुबेई प्रांत के 55 साल के एक शख्स में पहली बार कोरोना वायरस का संक्रमण देखा गया था. इसके बाद हर दिन 5 संक्रमित मरीजों का रिकॉर्ड मिलता है. दिसंबर 15 तक चीन में इसके संक्रमित मरीजों की संख्या 27 हो गई. 17 दिसंबर के बाद संक्रमण और तेजी से फैला और 20 दिसंबर तक इससे संक्रमित मरीजों की संख्या 60 हो गई.

दिसंबर के आखिर में चीनी प्रशासन हरकत में आया
27 दिसंबर को हुबेई प्रांत के एक हॉस्पिटल के डॉक्टर झांग जिक्सियन ने पहली बार चीनी प्रशासन को बताया कि एक नए तरह के कोरोना वायरस का संक्रमण फैला है. उस वक्त तक करीब 180 संक्रमित मरीज सामने आ चुके थे. हालांकि डॉक्टर को उन सभी मरीजों के बारे में नहीं पता था.

31 दिसंबर को चीन में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या 266 पहुंच गई और इस साल के पहले दिन 381 संक्रमित मरीजों की पहचान हुई.

चीन ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर सरकारी दस्तावेज जनता को उपलब्ध नहीं करवाए हैं. हालांकि ये बताया गया है कि शुरुआत में इसका संक्रमण कैसे फैला और किस तेजी से इसका ट्रांसमिशन होता गया. वैज्ञानिक अब उस पहले मरीज की जांच पड़ताल करने में जुटे हैं, जो कोरोना वायरस के पहले संक्रमण का शिकार हुआ. इसके जरिए ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि संक्रमण आखिर किस जानवर से इंसान के शरीर में आया. ऐसा कहा जा रहा है कि शायद चमगादड़ के जरिए इसका संक्रमण इंसानों में फैला.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट के मुताबिक नोवल कोरोना वायरस कोविड-19 का पहला कंफर्म संक्रमण का मामला 8 दिसंबर को चीन में रिकॉर्ड में आया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन सभी देशों से अपील कर रहा है कि वो इसके संक्रमण के पहले मामले की जानकारी को शेयर करे. एक दूसरे रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस के पहले कुछ मरीजों का ईलाज करने वाले वुहान के एक डॉक्टर ने एक मेडिकल जर्नल में दावा किया है कि संक्रमण का पहला मामला 1 दिसंबर को मिला था.

ये भी पढ़ें:

एस्प्रीन की आधी गोली से होगा लीवर कैंसर का रिस्क आधा- रिसर्च का दावा

कोरोना वायरस के खौफ में इस टाउन को लोग कहने लगे 'भुतहा' शहर, नहीं नजर आता एक भी आदमी

जहां से फैला कोरोना वायरस, अब वहीं हुए संक्रमण के सबसे कम मामले

क्या ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने में सबसे बड़ा रोड़ा है कोरोना वायरस

कोरोना वायरस पर कॉन्फ्रेंस कोरोना वायरस की वजह से ही कैंसिल
First published: March 13, 2020, 9:34 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading