सबसे बड़े कलाकार के सम्मान में दी जाने वाली इस अंगूठी को क्यों माना जाता है अभिशापित?

कभी माना जाने लगा था कि इस रिंग के चलते कभी तीन कलाकारों की मौत हो गई थी.

News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 7:27 PM IST
सबसे बड़े कलाकार के सम्मान में दी जाने वाली इस अंगूठी को क्यों माना जाता है अभिशापित?
जर्मनी के बड़े थिएटर कलाकारों को यह रिंग उनकी कला के सम्मान में दी जाती है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 8, 2019, 7:27 PM IST
इफलैंड रिंग नाम की यह अंगूठी जर्मनी के थिएटर कलाकारों और अभिनेताओं को सम्मान के तौर पर दी जाती है. लेकिन जिसे यह मिलने होती है, उस कलाकार का नाम पहले जिसके पास अंगूठी होती है, उसके मरने के बाद पता चलता है.

इफलैंड अंगूठी का नाम ऑगस्ट विलहेम इफलैंड के नाम पर पड़ा है. वे जर्मनी के महान अभिनेता और नाटककार थे. इफलैंड, जर्मनी के हनोवर में 19 अप्रैल, 1759 को पैदा हुए थे. उनके नाम पर जर्मनी में दी जाने वाली इस अंगूठी का किसी कलाकार को मिलना, कलाकार के लिए बहुत गर्व की बात होती है. इस अंगूठी में 28 छोटे-छोटे हीरे जड़े हुए हैं और इफलैंड की तस्वीर बनी हुई है.



किसे दी जाती है यह अंगूठी?
जैसा कि पहले बताया गया, जिसके पास यह रिंग होती है वही शख्स इस अंगूठी के उत्तराधिकारी को चुनता है. वह एक पर्ची में लिखकर इस रिंग के उत्तराधिकारी का नाम लिखता है और इसे रिंग के साथ रख देता है. यह तिजोरी विएना में सख्त सुरक्षा में रहती है. जिस शख्स के पास यह रिंग होती है, जब उसकी मौत हो जाती है तो इस तिजोरी को खोला जाता है और रिंग के उत्तराधिकारी का पता चलता है. तिजोरी खोलने का काम भी अधिकारियों के एक दल को सौंपा जाता है. इसके बाद रिंग का जो भी उत्तराधिकारी होता है, उसे एक समारोह में इस अंगूठी से पुरस्कृत किया जाता है.

प्रसिद्ध लेखक जोहान वूल्फगैंग वॉन गोएथे से है इस परंपरा का संबंध
हालांकि इस रिंग का पूरा इतिहास किसी को भी नहीं पता है. लेकिन इसका संबंध प्रसिद्ध लेखक जोहान वूल्फगैंग वॉन गोएथे से बताया जाता है. उन्होंने इसकी शुरुआत में यह अंगूठी जर्मनी के अभिनेता और नाटककार ऑगस्ट विलहेम इफलैंड को दी थी. तबसे अब तक इस अंगूठी को 9 लोगों को दिया जा चुका है.

फिलहाल यह अंगूठी जर्मनी के थियेटर कलाकार जेंस हार्जर के पास है. उनसे पहले यह अंगूठी स्विटजरलैंड के एक्टर ब्रूनो गैंज के पास थी. फरवरी में उनका निधन हुआ था. वे विंग्स ऑफ डिजायर फिल्म में एंजल की भूमिका निभाने के लिए चर्चित हैं.
Loading...

जब अंगूठी को बताया गया अभिशापित
कहा जाता है कि इस अंगूठी से एक अभिशाप भी जुड़ा हुआ है. ऐसा 1911 में अल्फ्रेड बैसरमैन को इसे दिए जाने के बाद हुआ. दरअसल बैसरमैन ने जिसे अपना उत्तराधिकारी चुना उसकी मौत उनसे पहले ही हो गई. उन्होंने एक-एक कर तीन बार उत्तराधिकारी चुने और तीनों की मौत हो गई. तीसरे उत्तराधिकारी की भी जब मौत हो गई तो बैसरमैन इस अंगूठी को उसके ताबूत में ही दफना देना चाहते थे. लेकिन ऑस्ट्रिया के एक बड़े प्लेहाउस बर्गथिएटर ने बीच-बचाव किया और अंगूठी बच गई.

1952 में बैसरमैन की खुद मौत हो गई. उन्होंने तीन उत्तराधिकारियों के बाद किसी और को उत्तराधिकारी नहीं चुना था. उसके बाद यह अंगूठी दो साल तक कहां थी, किसी को पता नहीं. 1954 में यह अंगूठी जर्मनी के एक अभिनेता वर्नर क्राउस को दी गई. उनके बाद यह अंगूठी जोसफ मीनरैड को दी गई. उसके बाद 1996 से 2019 तक यह ब्रूनो गैंज के पास ही थी.

यह भी पढ़ें: स्पेस में जाने के लिए जीवन भर कुंवारी रही ये महिला
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...