लाइव टीवी

महाभियोग जांच में डेमोक्रेट को मिली बड़ी जीत, बढ़ सकती है ट्रंप की परेशानी

News18Hindi
Updated: October 26, 2019, 3:18 PM IST
महाभियोग जांच में डेमोक्रेट को मिली बड़ी जीत, बढ़ सकती है ट्रंप की परेशानी
महाभियोग जांच में डेमोक्रेट को मिली बड़ी जीत

इस अदालती फैसले को डेमोक्रेट पार्टी की एक बड़ी जीत माना जा रहा है, जो इसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ महाभियोग (Impeachment) की जांच में इस्तेमाल करने के लिए हासिल करना चाहता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2019, 3:18 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) की एक अदालत ने न्याय विभाग को रूस मामले में विशेष वकील रॉबर्ट मूलर द्वारा की गई जांच से जुड़ी गुप्त जानकारियां सदन को देने का आदेश दिया है. इस अदालती फैसले को डेमोक्रेट पार्टी की एक बड़ी जीत माना जा रहा है, जो इसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ महाभियोग (Impeachment) की जांच में इस्तेमाल करने के लिए हासिल करना चाहता था.

आदेश में मुख्य अमेरिकी जिला न्यायाधीश बेरिल हॉवेल ने विभाग को 30 अक्टूबर तक जानकारियां उपलब्ध कराने का आदेश दिया है. न्याय विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि विभाग निर्णय की समीक्षा कर रहा है. यह आदेश ऐसे समय में आया है जब डेमोक्रेट्स को वह सबूत हाथ लगी है, जिसमें दावा किया गया है कि ट्रंप प्रशासन ने अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन और अन्य डेमोक्रेट नेताओं के खिलाफ जांच के लिए यूक्रेन से करार करने का प्रयास किया था.

मूलर से प्राप्त जानकारियां वर्ष 2016 के चुनावों में ट्रंप के खिलाफ नए सबूत मुहैया कर सकती है. यह खुलासा इस महाभियोग के मामले को और मजबूत कर देगा. न्याय विभाग के अनुसार यह इन जानकारियों वाले दस्तावेजों का एकमात्र हिस्सा है, जहां तक सांसदों की पहुंच नहीं थी.

व्हाइट हाउस और रिपब्लिकन समर्थकों ने तर्क दिया कि औपचारिक वोट के बिना महाभियोग गैरकानूनी है. न्याय विभाग ने यह तर्क दिया था कि महाभियोग “न्यायिक कार्यवाही” के योग्य नहीं है. न्यायाधीश ने न्याय विभाग के इस तर्क को भी खारिज कर दिया.

कांग्रेस की एक समिति ने ट्रंप पर लगे आरोपों से संबंधित सभी दस्तावेज़ों की मांग की थी. ट्रम्प पर आरोप है कि उन्होंने अपने डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन को नुकसान पहुंचाने के लिए विदेशी ताकतों का इस्तेमाल कर अपने पद की शपथ का उल्लंघन किया. ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से बाइडेन के खिलाफ जांच करने की बार-बार अपील करके अपने पद का दुरुपयोग किया. हांलाकि ट्रंप इन आरोपों से लगातार इनकार करते रहे हैं.

ये विवाद इसी साल 25 जुलाई को राष्ट्रपति के दफ्तर के किए गए एक फ़ोन कॉल से जुड़ा है. इस फ़ोन कॉल की पूरी जानकारी एक व्हिसलब्लोअर ने मांगी थी. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें : ट्रम्प के विरोध में कैरोलिना फोरम में हिस्सा नहीं लेंगी कमला हैरिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 3:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...