• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • भारत ने दिया व्यापारिक झटका, अब इस देश में ऑफिस खोलकर बिजनेस चलाएगा चीन

भारत ने दिया व्यापारिक झटका, अब इस देश में ऑफिस खोलकर बिजनेस चलाएगा चीन

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)

भारत ने जब से चीन को बड़ा व्यापारिक झटका दिया है. उस समय में खुद ऋण के बोझ तले दबे पाकिस्तान (Pakistan) ने चीन की मदद करने का फैसला किया है. पाकिस्तान ने अपने यहां चीनी कंपनियों (Chinese Companies) के ऑफिस खोलने की इजाजत देने का फैसला किया है.

  • Share this:
    इस्लामाबाद. पिछले कुछ दिनों से भारत और चीन (India And China) के बीच रिश्ते कुछ ठीक नहीं चल रहे हैं. पहले भारत ने 59 चीनी ऐप को बैन करवा दिया और बाद में 47 अन्य को भी प्रतिबंधित कर दिया. ऐसे में चीन का कारोबार में काफी असर पड़ा. कारोबार ठप्प होने के बाद अब चीन की मदद करने उसका दोस्त पाकिस्तान (Pakistan) आगे आया है, जो खुद आर्थिक रूप से ऋण के बोझ तले दबा हुआ है. स्थानीय और छोटे कारोबारियों को बड़ा झटका देते हुए पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने चीन की कंपनियों को क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की इजाजत देने का फैसला किया है.

    ऊर्जा, कृषि, वित्तीय और संचार क्षेत्र में रुचि रखने वाले चीनी कंपनियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ सोमवार को एक बैठक के दौरान इमरान खान ने कहा, "चीन के व्यावसायिक घरानों को पाकिस्तान में अपना क्षेत्रीय कार्यालय स्थापित करना चाहिए." पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने चीनी निवेशकों को यह आश्वस्त किया कि उनकी सरकार चीनी निवेशकों को हरसंभव उच्च प्राथमिकता देगी. यह फैसला ऐसे वक्त पर लिया गया है जब कोविड-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित होने के चलते पाकिस्तान गंभीर अर्थव्यवस्था के साथ जूझ रहा है. पाकिस्तान अन्य देशों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों से ऋण लेने के चलते इसमें बुरी तरह डूबा हुआ है और उनका भुगतान के लिए संघर्ष कर रहा है. पाकिस्तान की सरकार ने स्थानीय स्तर पर नौकरियां बढ़ाने और आर्थिक सुधार के लिए कदम उठाने की जगह उसने लगातार मौद्रिक और सैन्य समर्थन के लिए अपने करीबी सहयोगी चीन पर भरोसा किया.

    ये भी पढ़ें: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री की वेबसाइट हैक, पाकिस्तानी हैकर्स ने भारत को दी चेतावनी

    शाह महमूद कुरैशी ने किया चीन का दौरा
    डॉन के मुताबिक, इमरान खान के साथ प्रतिनिधिमंडल की बैठक में शामिल होने वालों में पावर कॉर्पोरेशन ऑफ चीन (पावर चाइना), चाइना रोड एंड ब्रिज कॉर्पोरेशन (सीआरबीसी), चाइन गेझौबा (ग्रुप) पाकिस्तान, चीन थ्री गोर्जेज साउथ एशिया इन्वेस्टमेंट कंपनी लिमिटेड, चाइना रेलवे ग्रुप लिमिटेड, इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्शियल बैंक ऑफ चाइना, चाइना मशीनरी इंजीनियरिंग कॉर्पोरेशन एंड चाइना मोबाइल पाकिस्तान लिमिटेड के प्रतिनिधि शामिल थे. इस मौके पर चीन में नियुक्त पाकिस्तान के राजदूत याओ जिंग और हेइयर के सीईओ जावेद अफरीदी भी मौजूद थे. गौरतलब है कि हाल में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने चीन का दौरा कर वहां पर द्विपक्षीय संबंधों के साथ ही क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय हितों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज