लाइव टीवी

नादान इमरान को तैयारी के लिए मिला महीनों का समय, फिर भी नहीं दे पाए इस सवाल का जवाब

News18Hindi
Updated: September 15, 2019, 9:38 PM IST
नादान इमरान को तैयारी के लिए मिला महीनों का समय, फिर भी नहीं दे पाए इस सवाल का जवाब
इमरान के कहा, "हम अभी अपनी आंतरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, इस मुद्दे के बारे में मुझे सच में ज्यादा जानकारी नहीं है.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से सवाल किया गया था, "पाकिस्तान (Pakistan) चीन (China) के साथ घनिष्ठ संबंध रखता है, क्या आपने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ कभी उइगरों (Uighurs) के उत्पीड़न के मुद्दे पर चर्चा की है? इमरान ने कहा, "नहीं, मैंने नहीं की है, क्योंकि इसके बारे में मुझे ज्यादा नहीं पता है."

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2019, 9:38 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) की राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद में आयोजित अपने शुक्रवार के जलसा के दौरान प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने अंतरराष्ट्रीय मुस्लिम समुदाय को कश्मीर (Kashmir) के मुद्दे पर उकसाने की कोशिश की. लेकिन उइगर मुस्लिमों के मुद्दे पर पूछे गए सवाल के मुद्दे को वे टालते दिखे. मजे की बात यह है कि उनसे महीनों से यह सवाल पूछा जा रहा है, फिर भी वे इस प्रश्न का जवाब नहीं दे पा रहे हैं.

दरअसल अलजजीरा के इंटरव्यू के दौरान जब उनसे चीन में वहां की सरकार द्वारा सताए जा रहे उइगर (Uighur) मुसलमानों (Muslims) के बारे में पूछा गया, तो इमरान इस सवाल को टालने लगे. उन्होंने कहा कि वो इस समस्या के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं.

'हम आंतरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं'
इस इंटरव्यू में सवाल था, 'पाकिस्तान चीन के साथ घनिष्ठ संबंध रखता है, क्या आपने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ कभी उइगरों के उत्पीड़न के मुद्दे पर चर्चा की है? इमरान ने कहा, 'नहीं, मैंने नहीं की है, क्योंकि इसके बारे में मुझे ज्यादा नहीं पता है.' आगे इमरान के कहा, 'हम अभी अपनी आंतरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, इस मुद्दे के बारे में मुझे सच में ज्यादा जानकारी नहीं है. और चूंकि हम एक साल से सत्ता में हैं. हम अर्थव्यवस्था को सुधारने में लगे हैं और अब कश्मीर का मुद्दा है. हम कई समस्याओं से घिरे हुए हैं. लेकिन मैं चीन के लिए एक बात कहूंगा, हमारे लिए चीन सबसे अच्छा दोस्त है.'


Loading...



इस वक्त चीन पर बहुत ज्यादा निर्भर है पाकिस्तान
चीन द्वारा उइगरों पर प्रताड़ना के खिलाफ नहीं बोलने के लिए इमरान की काफी निंदा हुई है. दूसरे सवाल पर इमरान ने कहा, 'इस समय, मेरी जिम्मेदारी पाकिस्तान के लोगों की है, और मेरे पास 220 मिलियन पाकिस्तानी हैं और वे मेरी जिम्मेदारी हैं. और बेहतर प्रयास कर अपने देशवासियों की मदद करना है.'

बता दें कि पाकिस्तान अपने बुनियादी ढांचे के निर्माण और आर्थिक सहायता के लिए चीन पर बहुत ज्यादा निर्भर है. बीजिंग 60 बिलियन डॉलर के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का निर्माण कर रहा है, जो कि बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का (BRE) एक प्रमुख केंद्र बिंदु है जो चीन के उइगर मुसलमानों के इलाके शिनजियांग प्रांत में शुरू होता है.

इमरान की सरकार कर चुकी है इसके लिए चीन की तारीफ
मजे की बात यह है कि इमरान से उइगर मुस्लिमों से जुड़ा यह सवाल महीनों पहले भी पूछा गया था, उस वक्त भी इमरान ने कहा था कि उन्हें उनकी स्थितियों की जानकारी नहीं है.

इस साल की शुरुआत में फाइनेंसियल टाइम्स अख़बार के साथ एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, सच में मुझे इसके बारे में ज्यादा नहीं पता है. अगर मेरे पास पर्याप्त जानकारी होती तो मैं इसके बारे में बोलता, यह इतना ज्यादा अख़बारों में नहीं रहता है.

मजेदार रूप से इसी साल जुलाई में पाकिस्तान सहित कई सारे इस्लामिक देशों ने शिनजियांग प्रांत में चीन की राजनीति की तारीफ में एक पत्र लिखा था.

यह भी पढ़ें- 

इमरान खान ने PoK रैली में युवाओं को भारत में घुसपैठ के लिए उकसाया
भारतीय सेना ने मार गिराए दो पाकिस्तानी जवान, शव लेने पहुंचा पाक, देखें Video
जेल में बंद नवाज शरीफ को मुकेश के गाने सुनाना चाहते हैं पाकिस्तानी मंत्री!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2019, 8:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...