Home /News /world /

OIC समिट में इमरान खान की किरकरी, तालिबानी सोच के समर्थन पर अफगानी महिलाओं ने लताड़ा

OIC समिट में इमरान खान की किरकरी, तालिबानी सोच के समर्थन पर अफगानी महिलाओं ने लताड़ा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (फाइल फोटो)

Imran Khan Gets Flak for Defending Taliban's Treatment of Women: अफगानिस्तान में महिलाओं व लड़कियों की शिक्षा व रोजगार के खिलाफ तालिबान के रवैये का पाकिस्तान के पीएम ने समर्थन किया है. इस बात से नाराज कई अफगानी महिला एक्टिविस्ट ने इमरान खान को जमकर लचाड़ लगाई है. दरअसल मुस्लिम राष्ट्रों के संगठन ओआईसी में इमरान खान ने कहा था कि दुनिया तालिबान को महिला अधिकारों के प्रति कदम उठाने के लिए मजबूर नहीं कर सकती है और यह पश्तून संस्कृति के खिलाफ है. इमरान खान के इस बयान की दुनियाभर में आलोचना हुई. अफगानी महिला संगठन और उससे जुड़ी महिलाओं ने इमरान खान को अपरिपक्व बताया और कहा कि इस बयान के जरिए इमरान खान तालिबान के गलत काम का समर्थन कर रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) को एक बार फिर शर्मसार होना पड़ा है. अफगानिस्तान (Afghanistan) में महिलाओं के प्रति तालिबान (Taliban) के रवैये का समर्थन करने पर इमरान खान की जमकर आलोचना हुई है. इस्लामाबाद में इस्लामिक देशों के संगठन की बैठक में इमरान खान ने अफगानिस्तान में महिलाओं के खिलाफ तालिबान के बर्ताव को सही ठहराया था. इसके बाद अफगानिस्तान की कई महिला एक्टिविस्ट ने पाकिस्तान के पीएम के इस बयान की निंदा की है.

    दरअसल मुस्लिम राष्ट्रों के संगठन ओआईसी में इमरान खान ने कहा था कि दुनिया तालिबान को महिला अधिकारों के प्रति कदम उठाने के लिए मजबूर नहीं कर सकती है और यह पश्तून संस्कृति के खिलाफ है. इमरान खान के इस बयान की दुनियाभर में आलोचना हुई. अफगानी महिला संगठन और उससे जुड़ी महिलाओं ने इमरान खान को अपरिपक्व बताया और कहा कि इस बयान के जरिए इमरान खान तालिबान के गलत काम का समर्थन कर रहे हैं.

    ओआईसी की बैठक में अफगान महिलाओं की ओर से लिखे गए लेटर में मंगलवार को कहा गया कि, पाकिस्तान के पीएम इमरान खान का यह बयान अफगानिस्तान में महिलाओं की शिक्षा और रोजगार पर प्रतिबंध के खिलाफ तालिबानी मानसिकता को ना सिर्फ बढ़ावा देता है बल्कि उसका समर्थन भी करता है.

    “मुंह बंद रखें इमरान खान”

    अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों की पढ़ाई व रोजगार को लेकर तालिबानी मानसिकता से जुड़ा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का यह बयान ओआईसी को बिल्कुल स्वीकार नहीं करना चाहिए. हम मुस्लिम मुल्कों के इस अंतर्राष्ट्रीय मंच से यह अपील करते हैं कि वह पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के इस गैर जिम्मेदाराना बयान पर संज्ञान लें और इस नजरिये से अफगानिस्तान को ना देखें. इस लेटर में यह भी कहा गया कि, हालांकि अफगान-पाक रीजन में पाकिस्तान की सरकार बेहतर काम कर सकती है.

    यह भी पढ़ें: अपने गढ़ में हारी इमरान खान की पार्टी, फीकी पड़ रही पाक PM की लोकप्रियता

    पश्तून संस्कृति का हवाला देकर इमरान खान ने अफगानिस्तान में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचारों को लेकर तालिबानी का बचाव किया है. इस बात से नाराज दुनियाभर की महिला एक्टीविस्ट ने सोशल मीडिया पर भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

    वहीं अफगानिस्तान से आने वाली कई महिलाओं ने इमरान खान के इस बयान को बेहद असंवेदनशील और गैर जिम्मेदाराना बताया है. एक महिला यूजर ने पाकिस्तान के पीएम को मुंह बंद रखने की सलाह तक दे डाली. वहीं एक अन्य महिला यूजर ने लिखा कि मुझे पता नहीं है कि इमरान खान अफगानिस्तान की किस संस्कृति का हवाला देकर तालिबानियों का बचाव कर रहे हैं.

    बता दें कि इससे पहले भी कई मौकों पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अफगानिस्तान में तालिबान की गतिविधियों का समर्थन किया है. खुद पाकिस्तान में उन्हें तालिबान खान के नाम से भी पुकारा जाता है.

    Tags: Afganistan, Imran khan, Taliban

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर