अपना शहर चुनें

States

अभिनंदन मामले पर PAK की पोल खोलने वाले नेता पर देशद्रोह का केस दर्ज करेगी इमरान सरकार

पाकिस्तान में अयाज सादिक के खिलाफ दर्ज होगा देशद्रोह का केस
पाकिस्तान में अयाज सादिक के खिलाफ दर्ज होगा देशद्रोह का केस

इमरान खान सरकार भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान मामले में पाकिस्तान की पोल खोलने वाले सांसद अयाज सादिक के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की तैयारी में है. अयाज ने बताया था कि जब अभिनंदन गिरफ्त में थे तो मीटिंग के दौरान पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा के डर से पैर कांप रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 2, 2020, 7:38 AM IST
  • Share this:
लाहौर. पाकिस्तान सरकार (Imran Khan Govt) के एक शीर्ष मंत्री ने रविवार को बताया कि भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान को दबाव में आकर भारत को सौंपने संबंधी टिप्पणी को लेकर एक वरिष्ठ विपक्षी नेता के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने पर विचार कर रही है. बता दें कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-नेता) सरदार अयाज सादिक (Ayaz sadiq) ने बुधवार को कहा था कि पाक सेना (PAK Army) प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा सहित देश के शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में एक बैठक के दौरान उस समय 'पैर कांप रहे थे और माथे पर पसीने की बूंदे झलक रही थी,' जब विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को छोड़ने की गुहार लगाते हुए कहा था कि यदि उसे रिहा नहीं किया गया तो पाकिस्तान पर भारत हमला कर देगा.

सादिक ने कहा था, 'पैर कांप रहे थे और माथे पर पसीने छूट रहे थे और विदेश मंत्री (कुरैशी) ने हमसे कहा, 'अल्लाह के वास्ते हमें उसे (वर्धमान) छोड़ देना चाहिए क्योंकि भारत रात नौ बजे पाकिस्तान पर हमला कर रहा है.' बैठक में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) और पीएमएल-एन के नेताओं समेत कई संसदीय नेता मौजूद थे. बैठक को याद करते हुए सादिक ने कहा था, 'भारत हमला करने की योजना नहीं बना रहा था ... वे सिर्फ भारत के आगे घुटने टेकना चाहते थे और अभिनंदन को वापस भेजना चाहते थे.' यह बहुत स्पष्ट नहीं है कि क्या सादिक जनरल बाजवा या विदेश मंत्री कुरैशी का जिक्र कर रहे थे, जिनके पैर कांप रहे थे और पसीने छूट रहे थे. विपक्षी नेता ने संकेत दिया था कि यह बैठक वर्धमान की रिहाई से पहले हुई थी.

सादिक अपने बयान पर कायम
पाकिस्तानी सांसद अयाज सादिक के बयान पर अभी भी बवाल जारी है. तो वहीं, नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन के नेता अयाज सादिक ने फिर कहा है कि वे पाकिस्तान (Pakistan) की संसद में दिए गए अपने बयान पर अब भी कायम हैं. उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास कई राज आज भी दफन हैं, लेकिन कभी भी कोई गैरजिम्मेदाराना बयान नहीं दिया है. उन्होंने कहा, 'मैंने राजनीतिक मतभेद के चलते यह बयान दिया था. इसे पाकिस्तानी सेना के साथ जोड़ना सही नहीं है. मैं अपने रुख से खड़ा हूं और आप इसे भविष्य में देखेंगे. मैंने पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति का नेतृत्व किया है. हम राजनीतिक लोग हैं और अतीत में राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ बयान देते रहे हैं. हम भविष्य में भी ऐसा करना जारी रखेंगे, लेकिन जब पाकिस्तान या हमारी एकता या संस्थानों की बात आती है तो भारत के लिए पाकिस्तान का संदेश बहुत स्पष्ट है.'
देशद्रोह के मामले की धमकी


सादिक की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पाकिस्तान के गृह मंत्री एजाज शाह ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार सादिक के खिलाफ देशद्रोह का एक मामला दर्ज करने पर विचार कर रही है क्योंकि पुलिस को उनके खिलाफ कई सारी शिकायतें मिली हैं. उन्होंने कहा कि जो लोग भारत की जुबान बोल रहे हैं, बेहतर होगा कि वे अमृतसर चले जाएं. लाहौर में भी सादिक के पोस्टर नजर आए हैं, जिनमें उन्हें 'गद्दार' कहा गया है। अभिनंदन और सादिक के काफी संख्या में पोस्टर नेशनल असेंबली के पूर्व स्पीकर के निर्वाचन क्षेत्र में दिखे हैं. अभिनंदन की वेशभूषा में सादिक को दिखाते हुए पोस्टर में कहा गया है, 'मीर सादिक, मीर जाफर...अयाज सादिक.' पीएमएल-एन नेता आज्मा बुखारी ने कहा कि सादिक को 'गद्दार' बताने वाले पोस्टर जिस किसी ने लगाए हैं, उसका अवश्य ही आपराधिक रिकार्ड रहा होगा.



भारतीय वायु सेना के 37 वर्षीय अधिकारी को 27 फरवरी को पाकिस्तानी सेना ने उस दौरान बंदी बना लिया था, जब पाकिस्तानी विमानों के साथ हुई हवाई झड़प में वर्धमान का मिग-21 बाइसन विमान गिर गया था. भारतीय वायु सेना के विमानों ने 26 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा क्षेत्र के बालाकोट में स्थित जैश ए मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को नेस्तनाबूद कर दिया था. यह हवाई कार्रवाई 14 फरवरी 2019 को हुए पुलवामा आतंकी हमले के बाद की गई थी. वर्धमान का विमान गिरने से पहले उन्होंने पाकिस्तान के एक एफ-16 विमान को मार गिराया था. पाकिस्तान ने उन्हें एक मार्च को भारत को सौंपा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज