लाइव टीवी

इमरान खान को सत्ता से बाहर होने का सता रहा डर, बोले- बातचीत का रास्ता खोजो

News18Hindi
Updated: October 13, 2019, 9:04 AM IST
इमरान खान को सत्ता से बाहर होने का सता रहा डर, बोले- बातचीत का रास्ता खोजो
पाकिस्तान में अपने लोगों के बीच ही घिरते जा रहे हैं प्रधानंत्री इमरान खान.

पाकिस्तान (Pakistan) के जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (Jamiat Ulema-e-Islam) के नेता मौलाना फजलुर्रहमान (Maulana Fazlur Rahman) ने इमरान सरकार (Imran Khan) को सत्ता से हटाने के लिए इस्लामाबाद (Islamabad) तक आजादी मार्च निकालने की तैयारी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2019, 9:04 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद पाकिस्तान (Pakistan) ने भले ही दुनिया भर के देशों से मदद मांगी हो, लेकिन हर जगह से उसे नाकामी ही हाथ लगी है. पाकिस्तान की इस हालत के लिए उनके मुल्क के लोग प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) को ही जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद होने लगी है. हाल में ही खबर आई है कि पाकिस्तान के जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (Jamiat Ulema-e-Islam) के नेता मौलाना फजलुर्रहमान (Maulana Fazlur Rahman) ने इमरान सरकार को सत्ता से हटाने के लिए इस्लामाबाद (Islamabad) तक आजादी मार्च निकालने की तैयारी की है. इमरान खान इस मार्च को लेकर इतना डरे हुए हैं कि उन्होंने अपने सहयोगियों से बातचीत का रास्ता खोजने को कहा है.

इमरान खान ने अपने सहयोगियों से कहा है कि किसी भी हाल में आजादी मार्च इस्लामाबाद नहीं पहुंचना चाहिए. इमरान चाहते हैं कि उनके सहयोगी जेयूआई के प्रमुख मौलाना फजलुर्रहमान के साथ बातचीत कर कोई बीच का रास्ता निकालें. फजलुर्रहमान ने संघीय राजधानी में सरकार के खिलाफ 31 अक्टूबर को बैठक बुलाई है. बताया जाता है कि फजलुर्रहान ने पाकिस्तान सरकार को चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने आजादी मार्च रोकने की कोशिश की तो वह पूरे पाकिस्तान में चक्का जाम कर देंगे.

एफएटीएफ, इमरान कान, पाकिस्तान, आतंकवाद, आतंकवादी, विश्व समाचार, दुनिया,fatf, pakistan, imran khan, terrorism, terrorist, world news, world
पेरिस में 13 से 18 अक्टूबर के बीच एफएटीएफ की पूर्ण बैठक होगी. (AP Photo)


प्रधानमंत्री के साथ शुक्रवार को हुई बैठक के बाद बयान दिया गया है कि सरकार फजलुर्रहान की मांगों को पता लगाने के लिए उसने मिलने को तैयार है. बैठक में साफ कहा गया है कि इस मुद्दे पर किसी भी तरह का गतिरोध नहीं बढ़ना चाहिए. बैठक में ये भी फैसला लिया गया है कि मौलाना रहमान की ओर से 27 अक्टूबर को सिंध से आजादी मार्च के रूप में निकाले जाने वाले आंदोलन को रोका नहीं जाएगा. यह आंदोलन 31 अक्टूबर को इस्लामाबाद पहुंचेगा.

इसे भी पढ़ें :-बुरे संकट में फंसे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, अब विदेशों से सामान खरीदना भी हुआ मुश्किल

एफएटीएफ, जमात-उद-दावा, न्याय, लश्कर-ए-तैयबा, लेट, पाकिस्तान,FATF, Jamaat-ud-Dawah, jud, Lashkar-e-Taiba, Let, pakistan
टेरर फंडिंग के मामले में पाकिस्तान का नाम एफएटीएफ के ‘ग्रे लिस्ट’ में ही बनाए रखने की संभावना है.


इमरान खान ने कहा कि अगर आजादी मार्च के प्रदर्शनकारी बेकाबू हो गए तो उनसे सख्ती से निपटा जाएगा. इमरान खान की इस बैठक के बाद मौलाना और सरकार के बीच संपर्क स्थापित करने की कवायद तेज कर दी गई है. बैठक में बताया गया कि पीपीपी और पीएमएल-एन अब एक ही मंच पर पहुंच गए हैं और देश के छोटे दलों को भी अपने साथ मिला रहे हैं. इस बीच, धार्मिक मामलों के संघीय मंत्री नूरुल हक कादरी ने साफ किया कि उन्हें मौलाना फजलुर्रहमान के साथ बातचीत करने के लिए इमरान खान सरकार की की ओर से अभी तक कोई संदेश नहीं मिला है.
Loading...

इसे भी पढ़ें :-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान हुए बेबस! अब उनके खुद के लोग ही पाकिस्तान को कर रहे हैं कंगाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 13, 2019, 8:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...