कश्‍मीर मुद्दे पर इमरान खान बोले- भारत के पास कोई रोडमैप है तो हम बातचीत को तैयार, लेकिन...

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार भारत से बातचीत की पेशकश की है.  (रॉयटर्स फाइल फोटो)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार भारत से बातचीत की पेशकश की है. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

जम्मू-कश्‍मीर में जब से आर्टिकल 370 हटाया गया है, तब से पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) की रातों की नींद उड़ी हुई है. यही कारण है कि वह समय-समय पर कश्‍मीर का राग अलापने लगते हैं.

  • Share this:

इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) एक बार फिर कश्‍मीर (Kashmir) को लेकर भारत से बातचीत करने को तैयार दिख रहे हैं. इमरान खान ने कहा है कि अगर भारत के पास कश्‍मीर को लेकर कोई रोडमैप है तो हम बातचीत करने को तैयार हैं. इसके साथ ही एक बार पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री ने दोहराया है कि हम कश्‍मीर के मुद्दे पर तभी साथ बैठ सकते हैं, जब कश्‍मीर में दोबारा से पुरानी स्थिति बहाल की जाए.

कश्‍मीर में जब से आर्टिकल 370 हटाया गया है जब से पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की रातों की नींद उड़ी हुई है. यही कारण है कि वह समय-समय पर कश्‍मीर का राग अलापने लगते हैं. इस बार भी उन्‍होंने भारत के सामने सशर्त बातचीत की पेशकश कर दी है. न्‍यूज एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में इमरान खान ने कहा, अगर कश्‍मीर को लेकर भारत के पास किसी भी तरह का कोई रोडमैप है तो हम बातचीत करने को तैयार हैं. हालांकि पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री के इस बयान के बाद अभी तक भारत की ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.


इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, कहा-आर्टिकल 370 पर भारत पलटे अपना फैसला, तब होगी बातचीत
बता दें कि भारत सरकार ने 5 अगस्‍त 2019 को जम्‍मू-कश्‍मीर को विशेष राज्‍य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को हटा दिया था. इसके साथ ही जम्‍मू-कश्‍मीर दो केंद्र शासित प्रदेश बनाकर जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख में बांट दिया गया था. इससे पहले इमरान खान ने कहा था कि ‘अगर पाकिस्तान (कश्मीर का पुराना दर्जा बहाल किए बिना)भारत के साथ रिश्तों को फिर से बहाल करता है, तो यह कश्मीरियों से मुंह मोड़ने जैसा होगा.’

इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान: PM इमरान ने देश की रक्षा करने में उसकी परमाणु क्षमता पर पूरा भरोसा जताया

उन्होंने कहा था कि अगर भारत पांच अगस्त के कदम को वापस लेता है तो ‘हम निश्चित तौर पर बात कर सकते हैं.’ हालांकि, भारत कई मौकों पर स्पष्ट कर चुका है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और देश अपनी समस्याओं को खुद सुलझाने में सक्षम है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज