लाइव टीवी

इमरान खान ने कहा कि कश्मीर में 'अमानवीय' कर्फ्यू संयुक्त राष्ट्र के लिए परीक्षा

News18Hindi
Updated: September 27, 2019, 11:53 PM IST
इमरान खान ने कहा कि कश्मीर में 'अमानवीय' कर्फ्यू संयुक्त राष्ट्र के लिए परीक्षा
अंतर्राष्ट्रीय मंच पर बार-बार फेल हो रहे इमरान ने एक बार फिर यूएन में कश्मीर का राग अलापा

निर्धारित समय से ज्यादा दिए अपने 50 मिनट के भाषण में इमरान खान (Imran Khan) ने कहा कि कश्मीर (Kashmir) में जो कुछ हो रहा है वह संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के लिए एक परीक्षा है, जिसका निर्माण ऐसी ही परिस्थितियों से निपटने के लिए 1945 में बनाया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2019, 11:53 PM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) ने शुक्रवार को UNGA ((United Nations General Assembly) में कहा कि भारत को 80 लाख कश्मीरियों पर से कर्फ्यू हटाना चाहिए. इमरान ने आगे कहा कि जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के लोगों के प्रति संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की जिम्मेदारी बनती है.

निर्धारित समय से ज्यादा दिए अपने 50 मिनट के भाषण में इमरान खान ने कहा कि कश्मीर (Kashmir) में जो कुछ हो रहा है वह संयुक्त राष्ट्र के लिए एक परीक्षा है, जिसका निर्माण ऐसी ही परिस्थितियों से निपटने के लिए 1945 में बनाया गया था. उन्होंने जम्मू और कश्मीर को विशेष दर्जा खत्म करने के कदम के खिलाफ दुनिया का समर्थन जुटाने की कोशिश की.

इमरान ने पाबंदियों पर उठाए सवाल

इमराने ने कहा कि कश्मीरी 55 दिनों से बंद हैं. इतना ही नहीं इमरान खान ने कहा कि जब पाबंदियां हटाई जाएंगी तो खूनखराबा होगा लोग विरोध प्रदर्शन करने के लिए सड़कों पर आ जाएंगे. इमरान ने कहा कि जब कर्फ्यू हटेगा तो क्या होगा? क्या वह (पीएम मोदी) सोचते हैं कि कश्मीरी संविधान के इस बदलाव को चुपचाप स्वीकार कर लेंगे.

इमरान ने कहा वहां इस समय 900,000 सैनिक हैं, वह इसलिए तो वहां नहीं जैसा कि पीएम मोदी कहते हैं- कश्मीर की खुशहाली के लिए... ये 900,000 सैनिक, ये क्या करने जा रहे हैं? जब वे बाहर आएंगे? खूनखराबा होगा.”

दी पुलवामा जैसे हमले की गीदड़भभकीपाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि जब भी प्रतिबंध हटाए जाएंगे तो पुलवामा (Pulwama) जैसे हमले होंगे क्योंकि आर्टिकल 370 को अवैध रूप से खत्म करने पर कश्मीरी कट्टरपंथी हो जाएंगे. भारत फिर से इसके लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराएगा.

हालांकि भारत यह साफ कर चुका है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना पूरी तरह से हटाना उसका आंतरिक मामला है. जबकि पाकिस्तान बराबर इसको बार-बार अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा है और इसमें नाकाम हो रहा है.

खान ने कहा कि भारत सरकार का ये कदम न सिर्फ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 11 संकल्प को बल्कि शिमला समझौते और भारतीय संविधान को भी तोड़ता है.

पारंपरिक युद्ध की जताई संभावना
उन्होंने एक बार फिर भारत के साथ एक पारंपरिक युद्ध की संभावना जताई. उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान को भारत में किसी भी हमले के लिए दोषी ठहराया जाता है इसलिए उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया.

उन्होंने कहा कि अगर एक पारंपरिक युद्ध शुरू होता है, तो हमारे सामने दो विकल्प होंगे- आत्मसमर्पण या मृत्यु तक लड़ाई. हम लड़ेंगे. और जब एक परमाणु सशस्त्र देश अंत तक लड़ता है, तो इसके परिणाम दुनिया के लिए होते हैं. यह कोई धमकी नहीं है. यह संयुक्त राष्ट्र के लिए एक परीक्षा है.

ये भी पढ़ें-
UNGA : भाषण में पीएम मोदी ने क्यों किया स्वामी विवेकानंद का जिक्र

PM Modi@ UNGA: पीएम मोदी ने कहा- आतंकवाद के खिलाफ पूरी दुनिया एकजुट हो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 27, 2019, 11:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर